बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyमई से डिजिटल होगा पोस्‍ट ऑफिस का अकाउंट, 34 करोड़ खाताधारकों को होगा फायदा

मई से डिजिटल होगा पोस्‍ट ऑफिस का अकाउंट, 34 करोड़ खाताधारकों को होगा फायदा

पोस्‍ट ऑफिस में बचत खाता धारकों को मई से पूरी तरह डिजिटल बैंकिंग सर्विस मिलनी शुरू हो जाएगी।

1 of

नई दिल्‍ली. पोस्‍ट ऑफिस में बचत खाता धारकों को मई से पूरी तरह डिजिटल बैंकिंग सर्विस मिलनी शुरू हो जाएगी। इससे पोस्‍ट ऑफिस के 34 करोड़ बचत खाता धारकों को फायदा होगा। दरअसल, सरकार की तरफ से इंडिया पोस्‍ट पेमेंट्स बैंक (IPPB) के साथ इन अकाउंट्स को लिंक करने की मंजूरी दिए जाने के बाद से बचत खाताधारकों को डिजिटल बैंकिंग मिलने का रास्‍ता साफ हो गया। 

 


सूत्रों के अनुसार, वित्‍त मंत्रालय ने पोस्‍ट ऑफिस के बचत खातों को आईपीपीबी खातों के साथ लिंकिंग की अनुमति दे दी है। इससे पोस्‍ट ऑफिस के खाताधारक अपने अकांउट से किसी भी बैंक अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करने में सक्षम हो जाएंगे। पोस्‍ट ऑफिस में 34 करोड़ बचत खाता हैं। इनमें से 17 करोड़ पोस्‍ट ऑफिस सेविंग्‍स बैंक अकाउंट्स हैं। बाकी बचत खातों में मंथली इनकम स्‍कीम, रेकरिंग डिपॉजिट आदि शामिल है। 

 

देश में बनेगा सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क 
सरकार के इस कदम से देश में सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क बनकर तैयार हो जाएगा। इंडिया पोस्‍ट की योजना सभी 1.55 लाख पोस्‍ट ऑफिस शाखाओं को आईपीपीबी से लिंक करना है। इंडिया पोस्‍ट कोर बैंकिंग सर्विस शुरू कर चुका है लेकिन इसके तहत मनी ट्रांसफर की सुविधा पोस्‍ट ऑफिस सेविंग्‍स बैंक (पीओएसबी) अकाउंट्स के बीच ही मिलती है। 

 

NEFT, RTGs सभी की मिलेगी सुविधा 
सूत्रों का कहना है कि आईपीपीबी को रिजर्व बैंक नियंत्रित करता है और पोस्‍ट ऑफिस की बैंकिंग सेवाएं वित्‍त मंत्रालय के अधीन हैं। आईपीपीबी कस्‍टमर एफईएफटी, आरटीजीएस और मनी ट्रांसफर की दूसरी सर्विसेस का इस्‍तेमाल कर सकते हैं, जोकि बैंक के कस्‍टमर्स को मिलती है। एकबार पीओएसबी अकाउंट्स आईपीपीबी के सथ लिंक हो जाएंगे तो पोस्‍ट ऑफिस के कस्‍टमर्स को भी बैंकों की तरह सभी मनी ट्रांसफर सेवांए मिलने लगेंगी। उन्‍होंने बताया कि मई से इंडिया पोस्‍ट पीओएसबी खाताधारकों को इस सुविधा का लाभ लेने का विकल्‍प देगा। 

 

कस्‍टमर चाहे तो ही मिलेगी यह सर्विस 
सूत्रों का कहना है कि पोस्‍ट ऑफिस के बचत खाताधारकों को डिजिटल बैंकिंग सर्विस उनकी मर्जी के अनुसार ही मिलेगी। यानी सर्विस पूरी तरह वैकल्पिक होगी। यदि खाताधारक यह सर्विस लेना चाहता है तो उसे अकाउंट को आईपीपीबी अकाउंट से लिंक किया जाएगा। इससे पहले जारी आधिकारिक बयान के अनुसार, इंडिया पोस्‍ट का प्‍लान इस मह से सभी 650 आईपीपीबी ब्रांचेज को शुरू करना है। सभी 650 ब्रांचेज जिलों में छोटे पोस्‍ट ऑफिसेस कनेक्‍ट होंगे। आईपीपीबी ब्रांच और सभी एक्‍सेस प्‍वाइंट पोस्‍ट नेटवर्क से लिंक होंगे। करीब 1.55 लाख पोस्‍ट ऑफिसेस हैं। इनमें से 1.3 लाख ब्रांच ग्रामीण क्षेत्रों में हैं। इस तरह, 1.55 लाख ब्रांच के साथ इंडिया पोस्‍ट भारत का सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क बन जाएगा। 

 


आगे पढ़ें... सितंबर से मिलेगी ये सर्विसेज 

 

 

ऐप से भी पेमेंट का मिलेगा ऑप्‍शन 
सूत्रों ने बताया कि दूसरे फेज में सितंबर से पोस्‍ट ऑफिस में खाताधारकों को अपने आईपीपीबी अकाउंट से सुकन्‍या समृद्धि, रेकरिंग डिपॉजिट, स्‍पीड पोस्‍ट जैसे प्रोडक्‍टस के लिए पेमेंट का ऑप्‍शन मिलेगा। इसके अलावा, आईपीपीबी जल्‍द ही मर्चेंट्स का रजिस्‍ट्रेशन शुरू करेगा, जो कि उसके कमस्‍टर्स का पेमेंट ऐप के जरिए कर सकेंगे। आईपीपीबी जल्‍द ही अपना ऐप बेस्‍ड पेमेंट सिस्‍टम लाएगा। इसके जरिए ग्रॉसरी, टिकट आदि का पेमेंट हो सकेगा। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट