Home » Economy » Policyरेड्डी ब्रदर्स जी सोमशेखर रेड्डी और करुणाकर रेड्डी - Karnataka election 2018 know about reddy brothers of karnataka G. Somashekara and G. Karunakara Reddy

कर्नाटक चुनाव: करोड़ों की दौलत, फिर भी टॉप अमीर उम्‍मीदवारों में नहीं हैं रेड्डी ब्रदर्स

कर्नाटक के अमीर लोगों में शुमार रेड्डी बंधु भ्रष्‍टाचार के आरोपों के बावजूद जीतने की कगार पर हैं।

1 of

नई दिल्‍ली. कर्नाटक चुनावों में जनता ने किसी भी पार्टी को स्‍पष्‍ट बहुमत नहीं दिया है। हालांकि बीजेपी वहां पर एक बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। कर्नाटक चुनाव के दौरान कई मुद्दों को लेकर बीजेपी पर आरोप-प्रत्‍यारोप का दौर चला। इनमें से एक मुद्दा रेड्डी बंधुओं का भी रहा। भ्रष्‍टाचार के आरोपों को झेल रही रेड्डी फैमिली में से दो रेड्डी बंधुओं जी सोमशेखर रेड्डी और जी करुणाकर रेड्डी को बीजेपी ने टिकट दी और ये दोनों अपनी-अपनी सीट से चुनाव जीत भी गए हैं। सोमशेखर बेलारी सिटी और करुणाकर रेड्डी देवनागरी जिले की हरापनाहल्‍ली सीट से चुनाव लड़ रहे थे। 

 

रेड्डी बंधु अपनी अकूत संपत्ति और शान-ओ-शौकत के लिए हमेशा जाने जाते रहे हैं। नोटबंदी के वक्‍त भी जब पूरा देश नकदी की किल्‍लत झेल रहा था तो तब जनार्दन रेड्डी ने अपनी बेटी की शादी पर 500 करोड़ रुपए खर्च कि‍ए थे। उनके भाइयों के पास भी करोड़ों की दौलत है लेकिन फिर भी ये लोग कर्नाटक चुनाव में शामिल टॉप अमीर उम्‍मीदवारों की लिस्‍ट में जगह नहीं बना पाए हैं। 

 

जनार्दन रेड्डी हैं मुख्‍य आरोपी 

कर्नाटक के पूर्व मंत्री और माइनिंग किंग कहे जाने वाले गली जर्नादन रेड्डी पर करोड़ों रुपए के अवैध खनन और एक्‍सपोर्ट स्‍कैम के आरोप हैं। इस मामले में वह 3 साल की सजा भी काट चुके हैं। हालांकि जनार्दन रेड्डी कर्नाटक चुनावों का हिस्‍सा नहीं हैं। उनके बड़े भाई करुणाकर रेड्डी पर कोई आपराधिक मामला दर्ज नहीं है, वहीं सोमशेखर पर 6 आरोप हैं। आइए आपको बताते हैं कि कर्नाटक चुनावों में खड़े दो रेड्डी भाई कितनी बड़ी संपत्ति के मालिक हैं- 

जी सोमशेखर रेड्डी

सीट- बेल्‍लारी सिटी 
कुल आय- 10.2 लाख रुपए से ज्‍यादा
एफिडेविट में जारी असेट्स वैल्‍यु- 42.3 करोड़ रुपए से ज्‍यादा
देनदारी- 26.6 करोड़ रुपए से ज्‍यादा 
इनकम का सोर्स- एग्रीकल्‍चर, बिजनेस 

 

आगे पढ़ें- करुणाकर रेड्डी कितनी संपत्ति के मालिक

जी करुणाकर रेड्डी

सीट- हरापनाहल्‍ली 
कुल आय- 52.9 लाख रुपए से ज्‍यादा
एफिडेविट में जारी असेट्स वैल्‍यु- 59.4 करोड़ रुपए से ज्‍यादा
देनदारी- 34.8 करोड़ रुपए से ज्‍यादा
सोर्स- एग्रीकल्‍चर, बिजनेस 

 

सोर्स- एडीआर 

 

आगे पढ़ें- कैसे कमाई दौलत 

यूं कमाई दौलत  

तीनों रेड्डी भाई जनार्दन, करुणाकर और सोमशेखर रेड्डी ओबुलापुरम माइनिंग कंपनी के मालिक हैं। यह कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में आयरन ओर का खनन करती है। तीनों भाई कर्नाटक के बेल्‍लारी से हैं और बेल्‍लारी में देश का करीब 25 प्रतिशत लौह अयस्क भंडार है। साल 1994 तक बेल्लारी में कुछ सरकारी खनन कंपनियां ही थीं। बाद में सरकार ने प्राइवेट ऑपरेटर्स को माइनिंग का लाइसेंस दे दिया। इधर चीन ने लौह अयस्क की मांग बढा दी। जिसके चलते साल 2000 से 2008 के बीच वर्ल्ड मार्केट में लौह अयस्क की कीमत करीब तीन गुना बढ़ गई। इसके चलते अवैध खनन होने लगा। अवैध खनन में रेड्डी बंधुओं ने भी खूब पैसे कमाए। अपने पैसों और पावर के दम पर तीनों भाई राजनीति में भी पैर जमाते चले गए। 2011 में जब खनन स्कैंडल सामने आया तो तीन में से दो भाई राज्य सरकार में कैबिनेट मंत्री थे। जनार्दन रेड्डी पर बड़ी स्टील कंपनी को फायदा पहुंचाने का आरोप लगा। सितंबर 2011 को जनार्दन रेड्डी को सीबीआई ने अरेस्ट कर लिया। बाद में 21 जनवरी 2015 को सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिल गई।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट