बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyकेरल की बाढ़ से लें सबक, मुसीबत में काम आएंगे 3 कदम

केरल की बाढ़ से लें सबक, मुसीबत में काम आएंगे 3 कदम

आपदा बताकर नहीं आती और न ही इससे होने वाले नुकसान को टाला जा सकता है, इतना जरूर है कि इसकी भरपाई की जा सकती है...

1 of

नई दिल्ली. केरल में आई बाढ़ से अब तक 400 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। राहत और बचाव के लिए केंद्र और राज्य सरकारें एड़ी चोटी का जोर लगा रही हैं। लेकिन आपदा बताकर नहीं आती और न ही इससे होने वाले नुकसान को टाला जा सकता है। इतना जरूर है कि इस नुकसान की भरपाई जरूर की जा सकती है। ऐसा होगा इंश्योरेंस की मदद से। 

 

ऐसे कई लोग हैं, जो इंश्योरेंस कराना जरूरी नहीं समझते हैं। लेकिन इसकी अहमियत ऐसी ही आपदा के दौरान समझ में आती है। कैसे, आइए आपको बताते हैं इस रिपोर्ट में- 

 

लाइफ, प्रॉपर्टी का इंश्योरेंस

केरल में आई बाढ़ से लोगों को जान-माल के मोर्चे पर भारी नुकसान हुआ है। ऐसे में जिसके पास प्रॉपर्टी, फसल, गाड़ी आदि का इंश्योरेंस होगा, वह क्लेम कर नुकसान की भरपाई कर लेगा। लेकिन जिन लोगों ने इंश्योरेंस नहीं कराया था, उन्हें भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। इंश्योरेंस ऐसी मुसीबतों में काफी काम का साबित होता है। प्रॉपर्टी, गाड़ी के साथ खुद की लाइफ को इंश्योर्ड कराना भी जरूरी है। इंसान की जान की कीमत तो नहीं लगाई जा सकती है लेकिन लाइफ इंश्योरेंस होने से अगर ऐसी मुसीबतों के वक्त आपको कुछ हो जाता है तो आपके जाने के बाद कम से कम आपके परिवार को थोड़ी मदद जरूर मिलेगी। 

 

आगे पढ़ें- बाकी के प्वॉइंट्स

बीमा कराते वक्त बाढ़ और भूकंप को बाहर न रखें

किसी भी तरह का इंश्योरेंस लेते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि इसमें प्राकृतिक आपदाओं जैसे बाढ़, भूकंप, आगजनी आदि से होने वाला नुकसान भी कवर हो। कई कंपनियां प्राकृतिक आपदाओं से नुकसान पर कवर नहीं देती हैं तो कई बार थोड़े पैसे बचाने के चक्कर में लोग खुद इन्हें इंश्योरेंस में शामिल नहीं करते हैं। बाद में इसी के चलते पछताना पड़ता है। इसलिए किसी भी तरह का इंश्योरेंस कवर लेते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि क्लेम में प्राकृतिक आपदाओं से होने वाला नुकसान कवर हो। ताकि केरल जैसे हालात पैदा होने पर आपका इंश्योरेंस आपको निराश न करे। 

 

आगे पढ़ें- ये भी आएगा काम

महंगे आइटम्स का भी कराएं  बीमा

अगर आपने बहुत ज्यादा महंगे यानी लग्जरी आइटम्स खरीद रखे हैं तो उनका भी इंश्योरेंस होता है। कई इंश्योरेंस कंपनियों ने होम इंश्योरेंस नाम से एक कैटेगरी बनाई हुई है, जिसके तहत वे होम थिएटर, इंपोर्टेड वॉच, विंटेज गुड्स, महंगे इलेक्ट्रोनिक गैजेट, पेंटिग्स, फर्नीचर, ज्वैलरी, एंटीक कॉइंस, पुराने स्टांप, वाइन आदि यहां तक कि महंगे कपड़ों तक का भी इंश्योरेंस करती हैं। आप इस सुविधा का लाभ लेकर अपने लग्जरी आइटम्स को सुरक्षित कर सकते हैं और मुसीबत के वक्त नुकसान की भरपाई कर सकते हैं। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट