Home » Economy » Policyनोटबंदी के बाद इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने जब्त की 1473 करोड़ की एसेट्स - IT dept seizes assets worth rs 1473 cr during nov 2016 to oct 2017

नोटबंदी के बाद I-T ने जब्त की 1473 करोड़ की एसेट्स, 15761 करोड़ अघोषित आय का चला पता

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने नोटबंदी के बाद अक्टूबर 2017 तक 1473 करोड़ की एसेट्स जब्त की है।

1 of

नई दिल्‍ली. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने नोटबंदी के बाद अक्टूबर 2017 तक 1473 करोड़ रुपए की एसेट्स जब्त की है। इस दौरान कुल 15761 करोड़ रुपए की अघोषित आय का भी पता चला है। सरकार ने इस बात की जानकारी दी है। वित्‍त राज्‍य मंत्री पी राधाकृष्‍णन ने राज्‍य सभा में बताया कि इस दौरान सर्च कार्रवाई के दौरान ये एसेट्स जब्त की गर्इ हैं। 

सरकार ने इनकम टैक्स डिपार्टमेंट द्वारा लिए गए इस एक्शन की जानकारी 2 चरणों में दी है। पहले चरण में 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी के बाद से मार्च 2017 तक का डाटा है। वहीं, दूसरे चरण में अप्रैल 2017 से अक्टूबर 2017 तक का डाटा शामिल है। इस दौरान कुल 1175 ग्रुप्‍स के यहां सर्च कार्रवाई हुई।

 


नवंबर 2016 से मार्च 2017 तक
वित्त राज्य मंत्री के अनुसार नवंबर 2016 से मार्च 2017 के बीच आईटी ने 900 करोड़ रुपए की एसेट्स जब्त की और 7961 करोड़ की अघोषित आय का पता लगाया। 

 

अप्रैल-अक्टूबर 2017 तक 
वहीं, अप्रैल 2017 से अक्टूबर 2017 के बीच आईटी ने 573 करोड़ की एसेट्स जब्त की और 7800 करोड़ की अघोषित आय का पता लगाया। 

 

आईटी द्वारा ये एक्शन लिए गए 
वित्‍त राज्‍य मंत्री ने कहा कि जो भी मामले सही लगते हैं, उनमें इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट एक्शन करता है। एक्शन में सर्च, सर्वे, इनकम का असेसमेंट, टैक्‍स, पेनल्टी लगाना और आपराधिक अदालतों में मुकदमा दायर करना, जो भी लागू हो, शामिल हैं। 

 

कैश सर्कुलेशन कम हुआ 
सरकार की ओर से जानकारी दी गई कि नोटबंदी के बाद से घर में रखे जाने वाले कैश की जगह बैंक डिपॉजिट, म्युचुअल फंड में निवेश या इंश्‍योरेंस कराने का चलन बढ़ा है। कैश सर्कुलेशन में कमी आई है, खासतौर से हाई वैल्यू वाली करंसी के चलन में। बता दें कि सरकार ने 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी की घोषणा की थी, जिसके बाद 500 रुपए और 1000 रुपए की पुरानी करंसी बैन हो गई थी। वहीं नोटबंदी के बाद सरकार का डिजिटल पेमेंट पर फोकस बढ़ा है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट