Home » Economy » Policyजॉब न्‍यूज 3 लाख नौकरी क्‍लीन रिन्‍यूएबल एनर्जी renewable energy employment

रिन्‍यूएबल एनर्जी सेक्‍टर में आएगी बंपर नौकरी, 3 लाख को मिलेगा मौका

रिन्‍यूएल एनर्जी सेक्‍टर आने वाले दिनों में युवाओं के लिए भारत में नौकरी का नया ठिकाना होने जा रहा है...

1 of

नई दिल्‍ली। संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ के अधीन काम करने वाले इंटरनेशनल लेबर ऑर्गेनाइजेशन की नई रिपोर्ट के मुताबिक, रिन्‍यूएल एनर्जी सेक्‍टर आने वाले दिनों में युवाओं के लिए भारत में नौकरी का नया ठिकाना होने जा रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक, 2022 तक इस सेक्‍टर में करीब 3 लाख नौकरी के मौके पैदा होंगे। ये मौके सोलर और विंड पॉवर इंडस्‍ट्री में पैदा होंगे। रिपोर्ट के मुताबिक, एनर्जी कन्‍जम्‍पशन और एनर्जी मार्केट दोनों लिहाज से 2040 तक भारत की रफ्तार दुनिया भर में सबसे तेज रहेगी।

 

देश में 80 फीसदी बिजली पुराने तरीके से पैदा हो रही है
वर्ल्‍ड इम्‍प्‍लॉयमेंट एंड सोशल आउटलुक 2018- ग्रीनिंग विद जॉब्‍स रिपोर्ट में कहा गया कि भले ही रिन्‍यूएबल एनर्जी का शेयर भारत में तेजी के साथ बढ़ रहा हो, इसके बाद भी देश की इकोनॉमी की कोयला, गैस और पेट्रोलियम ऑयल पर बड़ी निर्भरता बनी हुई है। एनर्जी के इन नॉन रिन्‍यूएबल सोर्स के जरिए देश की करीब 80 फीसदी बिजली पैदा होती है।  

 

पंचवर्षीय योजना में रीन्‍यूएबल एनर्जी का जिक्र 
संयुक्‍त राष्‍ट्र की एजेंसी ने भारत की 12वीं पंचवर्षीय योजना का जिक्र किया है। इसमें भविष्‍य के विकास की नींव के रूप में टिकाऊ पर्यावरण की जरूरत पर जोर दिया गया है। साथ ही दिशा में वर्कफोर्स तैयार करने की बात की गई है। इसके चलते स्किल काउंसिल फॉर ग्रीन जॉब जैसे बहुत से इंस्‍टीट्यूट का गठन किया गया है।   

 

सरकार को करनी होगी और कोशिश 
इस रिपोर्ट में भारत की रिन्‍यूएबल एनर्जी सेक्‍टर के अच्‍छे और बुरे दोनों पहलुओं पर चर्चा की गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, रिन्‍यूएबल एनर्जी सेक्‍टर के तहत विंड और सोलर एनर्जी में तो नौकरियों के मौके पैदा होंगे, लेकिन अतिरिक्‍त जॉब के मौके पैदा करने के लिए भारत सरकार को सोलर मॉड्यूल मैन्‍यूफैक्‍चरिंग की क्षमता में बढ़ोतरी के साथ साथ वॉकेशनल ट्रेनिंग क्‍लास और सर्टिफिकेट मैथड को अपनाना होगा। 

 

पैदा हो चुकी हैं 164,000 जॉब 
अंतराष्‍ट्रीय रीन्‍यूएबल एनर्जी एजेंसी (IRENA) के मुताबिक, 2016-17 के अंत तक सोलर एनर्जी सेक्‍टर पहले ही करीब 164,000 नौकरी के मौके पैदा कर चुका है। इसमें से करीब सोलर हीटिंग इंडस्‍ट्री में 17,000 और विंड इंडस्‍ट्री में 61,000 जॉब के मौके पैदा हुए हैं। बता दें कि भारत में करीब 80 फीसदी वर्कफोर्स को गैर संगठित क्षेत्र में जॉब मिला है। हालांकि सोलर और विंड इंडस्‍ट्री जॉब पैदा करने में अहम भूमिका निभा सकती है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट