बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyभारत की इन 5 चीजों का दुनिया में बजता है डंका, हर किसी की जुबां पर है नाम

भारत की इन 5 चीजों का दुनिया में बजता है डंका, हर किसी की जुबां पर है नाम

भले ही हम कई मामलों में विकसित देशों से पीछे हों लेकिन ऐसी भी कई चीजें हैं, जिनमें भारत दूसरे देशों से काफी आगे है।

1 of

नई दिल्‍ली. हमारा देश भारत एक पावरफुल इकोनॉमी बनता जा रहा है। वैश्विक मार्केट में भी हमारी स्थिति काफी मजबूत हो रही है। भले ही हम कई मामलों में विकसित देशों से पीछे हों लेकिन ऐसी भी कई चीजें हैं, जिनमें भारत दूसरे देशों से काफी आगे है। ये चीजें हमारे देश की पहचान बन चुकी हैं और पूरी दुनिया इन चीजों की वजह से भारत का लोहा मान रही है।

 

गणतंत्र दिवस के मौके पर हम आपको ऐसी 5 चीजों के बारे में बता रहे हैं, जिनमें भारत का मुकाबला कोई नहीं कर सकता।

 
1. योग

- योग की उत्‍पत्ति भारत में 5,000 साल पहले हुई थी।
- सबसे पहले स्‍वामी विवेकानंद ने यूरोप व अमेरिका में योग का प्रचार किया।
- उन्‍हें मिली सफलता के बाद भारत के अन्‍य योग गुरुओं ने इसे पश्चिमी देशों तक पहुंचाया।
- आज पूरा विश्‍व शारीरिक व मानसिक रूप से स्‍वस्‍थ रहने में योग की बड़ी भूमिका को स्‍वीकार कर चुका है।
 
आगे पढ़ें- आईटी का नहीं है कोई सानी 

2. आईटी 

- पूरे विश्‍व में आईटी सेक्‍टर में सबसे ज्‍यादा प्रोफेशनल्‍स भारत से हैं।
- अमेरिका जैसे विकसित देश में भारतीय आईटी प्रोफेशनल्‍स की संख्‍या सबसे ज्‍यादा है। 
- गूगल, माइक्रोसॉफ्ट और फेसबुक जैसी नामी कंपनियां भी भारतीय आईटी प्रोफेशनल्‍स को बड़े स्‍तर पर हायर करती हैं। 
- दुनिया की बेस्‍ट आईटी कंपनीज में भारत की इंफोसिस, टेक महिंद्रा और टीसीएस जैसी कंपनियों का बोलबाला है।
 
आगे पढ़ें- मसाले हैं विश्‍व विख्‍यात 

3. कहलाता है होम ऑफ स्‍पाइसेज 

- विश्‍व में मसालों का सबसे बड़ा घरेलू बाजार भारत में ही है। विश्‍व में मसालों का सबसे बड़ा उत्‍पादक, कंज्‍यूमर और एक्‍सपोर्टर हमारा देश ही है।  
- यहां के बने मसाले अपनी खुशबू, टेक्‍सचर, स्‍वाद और अपने औषधीय महत्‍व के लिए जाने जाते हैं।
- देश में इंटरनेशनल ऑर्गेनाइजेशन फॉर स्‍टैंडराइजेशन (ISO) द्वारा लिस्‍टेड 109 वेरायटीज में से लगभग 75 वेरायटीज का उत्‍पादन होता है।
- अमेरिका, चीन, वियतनाम, यूएई, मलेशिया, इंडोनेशिया, यूके, श्रीलंका, सऊदी अरब और जर्मनी हैं प्रमुख आयातक
- 2016-17 में रिकॉर्ड 17,664.61 करोड़ रुपए के 9,47,790 टन मसालों का हुआ निर्यात, रुपए के मामले में 9 फीसदी और वॉल्‍यूम के मामले में 12 फीसदी की रही वृद्धि  
 
आगे पढ़ें- आम का है दुनिया भर में नाम

4. आम 

- भारत में बड़े पैमाने पर होता है आम का उत्‍पादन
- 2016-17 में 45,730 टन आम का हुआ निर्यात, 2017-18 में आम निर्यात के 50,000 टन पर पहुंच जाने का अनुमान है।
- पिछले साल देश में 1.86 करोड़ टन आमों का हुआ था उत्‍पादन
- यूएई, बांग्‍लादेश, यूके, सऊदी अरब, और नेपाल हैं प्रमुख आयातक, ऑस्‍ट्रेलिया, कोरिया ने भी खोल दिया है बाजार

 

आगे पढ़ें- विदेशों तक फैली है बासमती चावल की खुशबू 

5. बासमती चावल

- पूरे विश्‍व में होने वाले बासमती चावल के उत्‍पादन में से 70 फीसदी से ज्‍यादा उत्‍पादन भारत में होता है।  
- कई तरह की वेरायटी का होता है उत्‍पादन
- 2016-17 में भारत से 21,605.13 करोड़ रुपए के 39.9 लाख क्विंटल के बासमती का निर्यात हुआ।
- सऊदी अरब, ईरान, यूएई, यूके, कुवैत, अमेरिका, जॉर्डन, ओमान हैं प्रमुख आयातक

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट