बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policy2018-19 में तेज होगी भारत की ग्रोथ, विकास दर 7.4% रहने का अनुमान: उर्जित पटेल

2018-19 में तेज होगी भारत की ग्रोथ, विकास दर 7.4% रहने का अनुमान: उर्जित पटेल

RBI के गवर्नर उर्जित पटेल ने कहा है कि भारतीय अर्थव्यवस्था ने वित्त वर्ष 2017-18 में अच्‍छा प्रदर्शन किया।

1 of

वाशिंगटन. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर उर्जित पटेल ने कहा है कि भारतीय अर्थव्यवस्था ने वित्त वर्ष 2017-18 में अच्‍छा प्रदर्शन किया। इसके अगले वित्‍त वर्ष यानी 2018-19 में आर्थिक वृद्धि और तेज होने की उम्मीद है। पटेल ने चालू वित्त वर्ष देश की विकास दर 7.4 फीसदी रहने का अनुमान जताया है। पटेल ने अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (IMF) की इंटरनेशनल मॉनिटरी फाइनेंस कमिटी की मीटिंग में कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था को मैन्‍युफैक्‍चरिंग क्षेत्र में तेजी, बिक्री में इजाफ, सर्विस सेक्‍टर के मजबूत प्रदर्शन और कृषि फसल के रिकॉर्ड स्तर पर रहने से सपोर्ट मिला है। 

 

 

निवेश में तेजी दिखाई देगी 
आरबीआई गवर्नर ने कहा कि 2017-18 में वास्तविक जीडीपी की वृद्धि एक साल पहले के 7.1 फीसदी से गिरकर 6.6 फीसदी पर आ गई, लेकिन निवेश की मांग बढ़ने से दूसरी छमाही में रफ्तार में मजबूती लौट आई। उन्होंने कहा कि कई फैक्‍टर हैं जो 2018-19 में ग्रोथ रेट तेजी लाने में मददगार होंगे। साफ संकेत है कि अब निवेश गतिविधियों में सुधार बना रहेगा।

 

7.4% GDP ग्रोथ की उम्‍मीद 
उर्जित पटेल ने कहा कि ग्‍लोबल डिमांड में सुधार हुआ है। इससे एक्‍सपोर्ट व नए इन्‍वेस्‍टमेंट को बढ़ावा मिलेगा और वित्त वर्ष 2018-19 में जीडीपी ग्रोथ रेट बढ़कर 7.4 फीसदी रहने की उम्मीद है। पटेल ने कहा कि नवंबर 2016 से रिटेल महंगाई दर 4 फीसदी के मध्यम अवधि के लक्ष्य से नीचे ही रही। सब्जियों की कीमतों में अचानक तेजी से दिसंबर में महंगाई दर बढ़कर 5.2 फीसदी पर पहुंच गई थी, जो मार्च में गिरकर 4.3 फीसदी पर आ गई। 

 

 

आगे पढ़ें... वित्‍तीय प्रबंधन पर क्‍या बोले गवर्नर? 

 

वित्‍तीय प्रबंधन पर दिलाया भरोसा 
आरबीआई गवर्नर पटेल ने कहा कि टैक्‍स रेवेन्‍यू में तेजी और सब्सिडी को तर्कसंगत होने से सरकार ग्रॉस फिस्‍कल डेफिसिट (जीएफडी) को कम करके 2017-18 में जीडीपी के 3.5 फीसदी पर ले आई है। 2018-19 में जीएफडी को जीडीपी के 3.3 फीसदी पर लाने का लक्ष्य है। पटेल ने कहा कि निर्यात के मुकाबले आयात में वृद्धि से करंट अकाउंट डेफिसिट (कैड) 2016-17 में 0.7 फीसदी से बढ़कर 2017-18 के पहले 9 महीने में 1.9 फीसदी हो गया।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट