Utility

24,712 Views
X
Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

4 जून को लॉन्‍च होगा Moto G6, अमेजन पर शुरू होगी बि‍क्री Petrol Price: पेट्रोल ने पार किया नया लेवल, दिल्‍ली में 76.87 तो मुंबई में 84.70 रुपए पहुंची कीमतें NSE ने डेरिवेटिव प्रोडक्ट्स के लिए सिंगापुर एक्सचेंज के खिलाफ दर्ज किया केस AirAsia की बि‍ग सेल, सबसे सस्‍ती इंटरनेशनल टि‍कट 999 रुपए में Public Sector Bank Reform: सरकारी बैंकों के रिफॉर्म का तय होगा पैरामीटर, कस्टमर से लेकर कारोबारी तक के लिए सुधरेंगी सर्विस Stock Market: ये हैं आज के मुनाफे वाले शेयर, सौदे बनाकर उठाएं फायदा Share Market Live: बाजार में तेजी बढ़ी, सेंसेक्स 100 अंक मजबूत, निफ्टी 10550 के पार ग्राउंड रिपोर्ट: बंद के एक साल बाद रिकवरी मोड में दार्जिलिंग चाय इंडस्‍ट्री, 15000 रु. किलो तक है कीमत Forex Markets: रुपए 10 पैसे की मजबूती के साथ 68.02 प्रति डॉलर पर खुला Asian markets: एशियाई बाजारों में मिला-जुला कारोबार, एसजीएक्स निफ्टी 0.12% टूटा Stock Market: मार्केट को लेकर है अनिश्चितता, कंजम्पशन थीम वाले शेयर दे सकते हैं अच्छा रिटर्न PNB की पूर्व प्रमुख उषा अनंतसुब्रमण्यम को थी फ्रॉड की जानकारी, RBI को भेजी गई गलत रिपोर्ट Modi Putin Meet: बदलते हालात ने कराई मोदी-पुतिन की मुलाकात, 6 प्‍वाइंट में समझें पीछे की कहानी राजस्‍थान : 58 करोड़ की टैक्‍स चोरी मामले में 3 गिरफ्तार Patanjali, Amul, Flipkart के सहारे मुद्रा लोन बांटेगी सरकार, 40 कंपनियों से समझौता
बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyसुप्रीम कोर्ट ने शर्तों के साथ दी इच्‍छामृत्‍यु की इजाजत, कहा- सम्मान से मरना भी हक

सुप्रीम कोर्ट ने शर्तों के साथ दी इच्‍छामृत्‍यु की इजाजत, कहा- सम्मान से मरना भी हक

नई दिल्‍ली. सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को एक अहम फैसला देते हुए शर्तों के साथ निष्क्रिय इच्‍छामृत्‍यु की इजाजत दे दी। सुप्रीम कोर्ट की कॉन्स्टीट्यूशन बेंच ने फैसला सुनाते हुए कहा कि कोमा में जा चुके या मौत की कगार पर पहुंच चुके लोगों को वसीयत (लिविंग विल) के आधार पर निष्क्रिय इच्छामृत्यु (Passive Euthanasia) का हक होगा। कोर्ट ने कहा कि इंसान को सम्मान से जीने का हक है तो सम्मान से मरने का भी हक है। कोर्ट ने इस मामले में 12 अक्टूबर को फैसला सुरक्षित रखा था। आखिरी सुनवाई में केंद्र ने इच्छामृत्यु का हक देने का विरोध करते हुए इसका दुरुपयोग होने की आशंका जताई थी।

 

परिवार और डॉक्टरों की इजाजत होगी जरूरी

अपने फैसले में सुप्रीम कोर्ट की कॉन्स्टीट्यूशन बेंच ने साफ किया है कि लिविंग विल पर भी मरीज के परिवार की इजाजत जरूरी होगी। साथ ही एक्सपर्ट डॉक्टरों की टीम भी इजाजत देगी, जो यह तय करेगी कि मरीज का अब ठीक हो पाना नामुमकिन है। एनजीओ कॉमन कॉज ने लिविंग विल का हक देने की मांग को लेकर 2005 में पिटीशन लगाई थी। इसमें कहा गया था कि गंभीर बीमारी से जूझ रहे लोगों को लिविंग विल बनाने का हक होना चाहिए। पिटीशनर का कहना था कि इंसान को सम्मान से जीने का हक है तो उसे सम्माने से मरने का भी हक होना चाहिए।

 

लिविंग विल क्या है?

यह एक लिखित दस्तावेज होता है, जिसमें संबंधित शख्स यह बता सकेगा कि जब वह ऐसी स्थिति में पहुंच जाए, जहां उसके ठीक होने की उम्मीद न हो, तब उसे जबरन लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर न रखा जाए।

 

इच्छामृत्यु क्या है?

किसी गंभीर या लाइलाज बीमारी से पीड़ित शख्स को दर्द से निजात देने के लिए डॉक्टर की मदद से उसकी जिंदगी का अंत करना है। यह दो तरह की होती है। निष्क्रिय इच्छामृत्यु (Passive Euthanasia) और सक्रिय इच्छामृत्यु (Active Euthanasia)। अगर कोई लंबे समय से कोमा में है तो उसके परिवार वालों की इजाजत पर उसे लाइफ सपोर्ट सिस्टम से हटाना निष्क्रिय इच्छामृत्यु है। सुप्रीम कोर्ट ने इसे इजाजत दी है। वहीं, सक्रिय इच्‍छामृत्‍यु में मरीज को जहर या पेनकिलर के इन्जेक्शन का ओवरडोज देकर मौत दी जाती है। इसे भारत समेत ज्यादातर देशों में अपराध माना जाता है। सुप्रीम कोर्ट ने इसे मंजूरी नहीं दी है।

 

कॉन्स्टीट्यूशन बेंच में कैसे पहुंचा मामला?

2014 में सुप्रीम कोर्ट की तीन जजों की बेंच ने निष्क्रिय इच्छामृत्यु पर अरुणा शानबाग मामले में 2011 में दिए गए फैसले को असंगत बताया था और यह मामला पांच जजों की बेंच के पास भेज दिया था। तब से यह पेंडिंग था। सुप्रीम कोर्ट ने मुंबई की नर्स अरुणा शानबाग मामले में दायर जर्नलिस्ट पिंकी वीरानी की पिटीशन पर 7 मार्च 2011 को निष्क्रिय इच्छामृत्यु की इजाजत दे दी थी। हालांकि, अरुणा शानबाग के लिए इच्छामृत्यु की मांग खारिज कर दी थी।

 

केंद्र सरकार का क्‍या था विरोध?

केंद्र सरकार लिविंग विल के खिलाफ थी। वह अरुणा शानबाग मामले में दिए गए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के आधार पर सक्रिय इच्छामृत्यु पर सहमति देने को तैयार थी। उसका कहना था कि इसके लिए कुछ शर्तों के साथ ड्राफ्ट तैयार है। इसमें जिला और राज्य के मेडिकल बोर्ड सक्रिय इच्छामृत्यु पर फैसला करेंगे। लेकिन मरीज कहे कि वह मेडिकल सपोर्ट नहीं चाहता यह उसे मंजूर नहीं है।

 

 

आगे पढ़ें.. क्‍या था अरुणा शानबाग का मामला?

 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Trending

NEXT STORY

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.