Home » Economy » PolicyGoldman Sachs Report says current account deficit may rise due to rising crude

क्रूड में तेजी से भड़केगी महंगाई, GDP का 2.4% पहुंच सकता है चालू खाता घाटा: गोल्‍डमैन सॉक्‍स

कच्‍चे तेल (क्रूड) की कीमतें आने वाले महीनों अभी और बढ़ सकती हैं।

1 of

नई दिल्‍ली. कच्‍चे तेल (क्रूड) की कीमतें आने वाले महीनों में अभी और बढ़ सकती हैं। इससे 2018-19 में भारत का चालू खाता घाटा (सीएडी) जीडीपी का करीब 2.4 फीसदी हो सकता है।इसके अलावा महंगाई भी बढ़ने की आशंका है। ग्‍लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज कंपनी गोल्‍डमैन सॉक्‍स ने अपनी एक रिपोर्ट में यह खुलासा किया है। अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में गुरुवार को ब्रेंट क्रूड के भाव 80 डॉलर प्रति बैरल के पार चले गए। 

 

गोल्‍डमैन सॉक्‍स ने अपनी एक रिसर्च रिपोर्ट में कहा कि अंतरराष्‍ट्रीय क्रूड कीमतों में बढ़ोत्‍तरी से भारत का चालू खाता घाटा बढ़ने का खतरा गहरा जाएगा। हमारी कमोडिटी टीम का अनुमान है कि इस गर्मी क्रूड की कीमतों में अभी तेजी आएगी। इस साल के आखिर में इसमें कुछ नरमी दिखाई दे सकती है। हमने हाल में 2018-19 के लिए चालू खाता घाटा का अनुमान बढ़ाकर जीडीपी का 2.4 फीसदी कर दिया है। पहले यह अनुमान 2.1 फीसदी था। 

 

अक्‍टूबर-दिसंबर 2017 में 2% रहा CAD 
चालू खाता घाटा 2017 की अक्‍टूबर-दिसंबर तिमाही में 2 फीसदी या 13.5 अरब डॉलर (करीब 90,500 करोड़ रुपए) रहा। इससे एक साल पहले की इसी अवधि में यह 1.4 फीसदी  या 8 अरब डॉलर (करीब 53,500 करोड़ रुपए) था। गुरुवार को अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में ब्रेंट क्रूड के भाव 80 डॉलर प्रति बैरल के पार चले गए। नवंबर 2014 के बाद पहली बार क्रूड ने यह लेवल पार किया है। 

 

महंगा होता क्रूड बढ़ाएगा महंगाई 
गोल्‍डमैन सॉक्‍स की रिपोर्ट के अनुसार, हाल में क्रूड में तेजी की अहम वजह अमेरिका का ईरान न्‍यूक्लियर डील से अपने को अलग कर लेना है। क्रूड में तेजी से महंगाई का अनुमान भी बढ़ जाएगा। हमारा अनुमान है कि क्रूड की कीमतों में 10 फीसदी की बढ़ोत्‍तरी से प्रमुख महंगाई दर में 0.10 फीसदी का इजाफा होगा। गोल्‍डमैन सॉक्‍स ने 2018-19 में प्रमुख खुदरा महंगाई दर औसतन 5.3 फीसदी रहने का अनुमान जताया है। 

 

RBI दिखाएगा सतर्क रुख 
क्रूड की तेजी पर आरबीआई का क्‍या रुख रहेगा, इस बारे में रिपोर्ट का कहना है कि रुपए में कमजोरी और चालू खाता व वित्‍तीय घाटा बढ़ने की आशंका को देखते हुए रिजर्व बैंक सतर्क रुख अपना सकता है। इस साल अब तक डॉलर के मुकाबले रुपया 6.6 फीसदी तक कमजोर हो चुका है। रिजर्व बैंक 6 जून को अपनी दूसरी बायमंथली पॉलिसी जारी करेगा। गोल्‍डमैन सॉक्‍स का कहना है कि 4-6 जून की पॉलिसी में रिजर्व बैंक पॉलिसी दरों को स्थिर रख सकता है, लेकिन उसका रुख पहले से सख्‍त रह सकता है। 201 8 -19 की पहली बायमंथली मॉनिटरी पॉलिसी मीटिंग 4-6 अप्रैल को हुई थी। इसमें पैनल ने महंगाई का हवाला देते हुए ब्‍याज दरों को अपरिवर्तित रखा था। 

 

 

आगे पढ़ें... 2020 तक 90 के स्‍तर के पार जाएगा क्रूड!

 

2020 में 90 डॉलर के पार जा सकता है क्रूड 
ग्लोबल एजेंसी मॉर्गन स्टैनली के अनुसार, क्रूड में तेजी अभी 2 साल और बनी रहेगी और 2020 में यह 90 डॉलर प्रति बैरल का स्तर पार कर सकता है। आने वाले दिनों में डीजल, जेट फ्यूल और अन्य सेग्मेंट में ईधन की मांग बढ़ेगी। डिमांड और सप्लाई में बैलेंस बिगड़ने से क्रूड 90 डॉलर के स्तर तक महंगा हो सकता है। इसके पहले अक्टूबर 2014 में क्रूड ने यह स्तर देखा था। वहीं, केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया का कहना है कि ओपेक और रूस ने तेल का उत्पादन कम कर दिया है। अमेरिका द्वारा ईरान पर प्रतिबंध के बाद मार्केट में ईरान की ओर से सप्लाई घटने का डर बन गया है। ऐसे में डिमांड और सप्लाई का रेश्‍यो बिगड़ रहा है। ये मुश्किले आगे भी बनी रहेंगी और अगले कुछ महीने में क्रूड 85 से 86 डॉलर प्रति बैरल तक अगले कुछ महीनों में जा सकता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट