Home » Economy » PolicyDo not do these mistakes in case of postoffice account

पोस्ट ऑफिस में रखते हैं पैसा, तो कभी न करें ये गलतियां नहीं तो होगा नुकसान

पोस्‍ट ऑफिस में कोई अकाउंट है तो उससे जुड़े प्रावधान जान लेना बेहतर रहेगा ताकि आपसे गलती होने की गुंजाइश न हो

1 of

नई दिल्‍ली. पोस्‍ट ऑफिस आपको बैंकों की तरह ही कई फाइनेंशियल सर्विस देता है। इसमें सेविंग्‍स अकाउंट, PPF, RD, MIS जैसी सर्विस शामिल हैं, जिनका आप फायदा ले सकते हैं। लेकिन इन अकाउंट्स को लेकर यहां भी कुछ नियम-कानून हैं। कुछ मामलों में चार्ज का भी प्रावधान है। अगर आपका भी पोस्‍ट ऑफिस में कोई अकाउंट है तो उससे जुड़े प्रावधान जान लेना बेहतर रहेगा ताकि आपसे गलती होने की गुंजाइश न हो और आप नुकसान से बच सकें। आइए आपको बताते हैं कि पोस्‍ट ऑफिस की किस स्‍कीम या अकाउंट के लिए क्‍या प्रावधान निश्चित किए गए हैं- 

 

सोर्स- https://www.indiapost.gov.in/Financial/Pages/Content/Post-Office-Saving-Schemes.aspx

 

सेविंग्‍स अकाउंट

- पोस्‍ट ऑफिस में केवल 20 रुपए में सेविंग्‍स अकाउंट खोला जा सकता है। लेकिन बैंकों की तरह इसमें भी मिनिमम मंथली बैलेंस मेंटेन करना होता है। पोस्‍ट ऑफिस सेविंग्‍स अकाउंट में बिना चेकबुक सुविधा वाले अकांउट के लिए मिनिमम बैलेंस 50 रुपए तय है, वहीं चेकबुक सुविधा वाले अकाउंट के लिए यह 500 रुपए है। 
- इसके अलावा इस अकाउंट को एक्टिव रखने के लिए 3 फाइनेंशियल ईयर के अंदर कम से कम एक बार डिपॉजिट या विदड्रॉल करना जरूरी है। 

 

आगे पढ़ें- बाकी अकाउंट्स को लेकर क्‍या हैं नियम

5 साल वाला रिकरिंग डिपॉजिट (आरडी)

- पोस्‍ट ऑफिस में 10 रुपए प्रति माह के इन्‍स्‍टॉलमेंट पर आरडी खोली जा सकती है। अगर आपने इसे माह की 15 तारीख से पहले खुलवाया है तो हर महीने की 15 तारीख से पहले आपका मंथली इन्‍स्‍टॉलमेंट इसमें डिपॉजिट हो जाना चाहिए। वहीं अगर 15 तारीख के बाद खुलवाया है तो महीने की आखिरी तारीख तक इसका डिपॉजिट होना जरूरी है। 
- तय तारीख तक मंथली डिपॉजिट जमा न होने पर पोस्‍ट ऑफिस आपसे हर 5 रुपए पर 0.05 रुपए डिफॉल्‍ट फीस लेता है। यानी अगर आपने 1000 रुपए मंथली डिपॉजिट तय किया हुआ है तो आपको डिफॉल्‍ट फीस के तौर पर 10 रुपए देने होंगे। 
- लगातार 4 डिफॉल्‍ट्स के बाद आरडी अकाउंट डिसकंटीन्‍यू कर दिया जाता है। हालांकि इसे 2 महीने के अंदर रिवाइव कराया जा सकता है। लेकिन अगर इस अवधि में इसे रिवाइव नहीं कराया गया तो आगे इसमें कोई भी डिपॉजिट नहीं होगा। 
- मंथली डिपॉजिट करने से चूकने के बाद आपको पहले पिछला डिपॉजिट और फीस भरनी होगी, तब आपका मौजूदा डिपॉजिट मंजूर किया जाएगा। 

 

आगे पढ़ें- MIS के लिए क्‍या है प्रावधान 

पोस्‍ट ऑफिस मंथली इनकम स्‍कीम अकाउंट (MIS)

- MIS का मैच्‍योरिटी पीरियड 5 साल है। इसलिए अगर आप प्रीमैच्‍यो‍र विदड्रॉल चाहते हैं तो ऐसा 1 साल का मैच्‍योरिटी पीरियड पूरा होने के बाद ही हो पाएगा। 
- प्रीमैच्‍योर विदड्रॉल पर पोस्‍ट ऑफिस आपसे कुछ चार्ज भी लेता है। अगर आप इसे 1 साल के बाद प्रीमैच्‍योर विदड्रॉल कराते हैं तो आपको डिपॉजिट का 2 फीसदी भुगतान करना होगा। वहीं अगर 3 साल के मैच्‍योरिटी पीरियड के बाद विदड्रॉल कराया जाता है तो डिपॉजिट का 1 फीसदी काटा जाता है। 

 

आगे पढ़ें- सीनियर सिटीजन सेविंग्‍स के लिए नियम 

सीनियर सिटीजन सेविंग्‍स स्‍कीम (SCSS)

- इस स्‍कीम का टेन्‍योर 5 साल है, हालांकि इसमें प्रीमैच्‍योर विदड्रॉल सुविधा मौजूद है। 
- प्रीमैच्‍योर विदड्रॉल 1 साल की अवधि के बाद ही किया जा सकता है। 1 साल बाद ऐसा करने पर डिपॉजिट का 1.5 फीसदी चार्ज के रूप में काटा जाता है, वहीं 2 साल बाद 1 फीसदी अमाउंट कटता है। 
- अगर मैच्‍योरिटी पीरियड खत्‍म होने के बाद आप इसे आगे भी जारी रखना चाहते हैं तो इसके लिए मैच्‍योरिटी के एक साल के अंदर आपको एप्‍लीकेशन देनी होगी। इसके बाद इस स्‍कीम को और 3 सालों के लिए बढ़ा दिया जाएगा। लेकिन अगर आप तय अवधि के अंदर एप्‍लीकेशन नहीं देते हैं तो पोस्‍ट ऑफिस द्वारा बिना किसी डिडक्‍शन अकाउंट क्‍लोज कर दिया जाता है। 

 

आगे पढ़ें- PPF के लिए क्‍या है नियम

PPF

- पोस्‍ट ऑफिस PPF अकाउंट को केवल 100 रुपए में खोला जा सकता है। लेकिन इसमें एक फाइनेंशियल ईयर में मिनिमम 500 रुपए और मैक्सिमम 1.5 लाख रुपए जमा करने का प्रावधान है। 
- अगर आप महीने के पूरे इंट्रेस्‍ट का फायदा लेना चाहते हैं तो हर माह की 5 तारीख तक पीपीएफ में डिपॉजिट कर दें। 
- पोस्‍ट ऑफिस पीपीएफ का मैच्‍योरिटी पीरियड 15 साल है और इससे पहले क्‍लोजर नहीं किया जा सकता। हालांकि 7 साल का मैच्‍योरिटी पीरियड पूरा होने के बाद जरूरत पड़ने पर इसमें से विदड्रॉल किया जा सकता है। 

 

आगे पढ़ें- सुकन्‍या समृद्धि स्‍कीम का प्रावधान 

सुकन्‍या समृद्धि स्‍कीम

- पोस्‍ट ऑफिस की इस स्‍कीम के तहत कस्‍टमर अपनी बच्‍ची के फ्यूचर के लिए अकाउंट खुलवा सकते हैं। इसमें एक फाइनेंशियल ईयर के अंदर मिनिमम 1000 रुपए और मैक्सिमम 1.5 लाख रुपए जमा करने का प्रावधान है। 
- अगर एक वित्‍त वर्ष के अंदर न्‍यूनतम 1000 रुपए डिपॉजिट नहीं किए जाते हैं तो अकाउंट डिसकंटीन्‍यू कर दिया जाता है। इसके बाद 50 रुपए प्रति वर्ष की पेनल्‍टी भरने के बाद ही इसे रिवाइव किया जा सकता है। साथ ही आपको मिनिमम अमाउंट भी डिपॉजिट करना होगा। 
- अगर अकाउंट को पेनल्‍टी भरकर रिवाइव नहीं किया जाता है तो फिर यह पोस्‍ट ऑफिस का नॉर्मल सेविंग्‍स अकाउंट बन जाता है और इसमें मौजूद कुल अमाउंट पर इंट्रेस्‍ट भी उसी हिसाब से मिलता है। 
- इस स्‍कीम के अकाउंट को 21 साल पूरे होने के बाद ही बंद किया जा सकता है। हालांकि बच्‍ची के 18 साल की होने के बाद नॉर्मल प्रीमैच्‍योर क्‍लोजर की अनुमति है। साथ ही बच्‍ची की शादी के बाद भी वह इसे क्‍लोज कर सकती है। 
- बच्‍ची के 18 साल का होने के बाद वह इस अकाउंट से आंशिक तौर पर विदड्रॉल कर सकती है। इस विदड्रॉल की लिमिट फाइनेंशियल ईयर खत्‍म होने पर अकाउंट में मौजूद बैलेंस का 50 फीसदी तक है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट