Home » Economy » PolicyPM Modi says Digital India initiative is a war against touts and middlemen

डिजिटल इंडिया दलाली के खिलाफ एक लड़ाई, कालाधन-कालाबाजारी रोकने में मिली मदद: पीएम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नमो एप के जरिए शुक्रवार को डिजिटल इंडिया के लाभार्थियों से चर्चा की।

PM Modi says Digital India initiative is a war against touts and middlemen

नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नमो ऐप के जरिए शुक्रवार को डिजिटल इंडिया के लाभार्थियों से चर्चा की। उन्‍होंने कहा कि डिजिटल इंडिया दलाली रोकने और बिचौलियों के खिलाफ अभियान है। डिजिटल इंडिया से कालाधन और कालाबाजारी पर अंकुश लगाने में मदद मिली, साथ ही छोटे शहरों और गांवों में इससे नौकरियों के अवसर बने।

 

मोदी ने कहा कि अब डिजिटल सुविधाएं देश के हर नागरिक को उपलब्ध है। रेलवे टिकट, रसोई गैस, बिजली-पानी का बिल भरना आसान हुआ है। छात्र डिजिटल लाइब्रेरी के जरिए लाखों किताबों को एक्सेस कर रहे हैं। आज लाखों युवा विलेज लेवल एंटरप्रेन्योर (वीएलए) के रूप में काम कर रहे हैं। खुशी की बात है कि इनमें 52 हजार महिला आंत्रप्रेन्‍योर काम कर रही हैं।

 

रुपे कार्ड का करें इस्‍तेमाल 
पीएम मोदी ने बताया कि रुपे कार्ड डिजिटल पेमेंट के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव ला रहा है। आज लगभग 50 करोड़ लोग रुपे कार्ड का इस्‍तेमाल कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि रुपे डेबिट और क्रेडिट कार्ड का इस्‍तेमाल करें, क्‍योंकि जब आप दूसरे कार्ड का इस्‍तेमाल करते हैं तो उसके ट्रांजैक्‍शन या प्रोसेसिंग फीस विदेशी कंपनियों को मिलती है जबकि रुपे कार्ड के इस्‍तेमाल पर वही पैसा भारत में ही रहता है और इसका इस्‍तेमाल विकास और इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर के कामों में होता है।

 

पीएम मोदी ने रुपे कार्ड को राष्‍ट्रवाद से जोड़ा। उन्‍होंने कहा कि सिर्फ बॉर्डर पर जाकर लड़ना ही देशप्रेम नहीं होता है। अगर आप देश की तरक्‍की में भागीदारी निभाते हैं, तो यह भी देशप्रेम है। रुपे कार्ड की कमाई देश की तरक्‍की और देशवासियों की भलाई के लिए इस्‍तेमाल होती है। इसलिए अगर आप रुपे कार्ड का इस्‍तेमाल करते हैं, तो वो भी एक देशभक्ति है, देशसेवा है।


डिजिटल पेमेंट की बात का लोगों ने बनाया था मजाक 
पीएम मोदी ने कहा, जब मैंने पहली बार डिजिटल पेमेंट की बात की तो इसका मजाक बनाया गया था। लोग यह कह रहे थे कि जिस देश में लोग अपने तकिये के नीचे पैसा लेकर सोते हैं वहां डिजिटल पेमेंट की बात हो रही है। उनका यह भी कहना था कि बिना बिचौलियों के राशन उपलब्‍ध नहीं कराया जा सकता है। लेकिन, डिजिटल सर्विसेस का लाभ लेने वाले लोगों का अनुभव यह बताता है कि कैसे उन तक सीधे लाभ पहुंच रहा है। यह डिजिटल पेमेंट की हंसी बनाने वाले लोगों को जवाब है। 

 

अब डिजिटल पेमेंट असुरक्षित होने की फैला रहे अफवाह 

मोदी ने कहा कि अब कुछ लोग यह अफवाह फैला रहे है कि जब आप डिजिटली लेनदेन करते हैं तो आपका पैसा सुरक्षित नहीं है। इस तरह की साजिश रची जा रही है क्‍योंकि उन्‍होंने बिचौलियों के लिए समस्‍या खड़ी कर दी है। डिजिटल इंडिया दलाली के खिलाफ एक लड़ाई है। डिजिटल इंडिया ने कालाधन और कालाबाजारी पर नकेल कस दी है। रेल टिकट की बुकिंग से लेकर पेंशन पाने तक की सभी सर्विसेस डिजिटली हो गई हैं। लोग पहले से अधिक सशक्‍त हुए हैं। उन्‍होंने कहा कि किसी को दिखे या न दिखे देश बदल रहा है। 

 

3 लाख CSC से जॉब के मौके बने
पीएम मोदी ने कहा कि देश में करीब तीन लाख कॉमन सर्विस सेंटर्स (सीएससी) से रोजगार और कारोबारी बनने के अवसर बने। हरियाणा की एक सीएससी उद्यमी ने अपने अनुभव साझा करते हुए कहाए आज वह सीएससी की वजह से गौरवपूर्ण जीवन जी रहे हैं और इसकी वजह से डिजिटल इंडिया पर बोलने के लिए मुझे कई जगह बुलाया जाता है। उनके यहां सरकार की कई तरह की सेवाओं का डिजिटल फॉर्म मौजूद हैं। उनके गांव के लोगों ने अब गांव से बाहर जाना बंद कर दिया है, क्योंकि उन्हें अब पता हो गया है कि जब सरकार उनके दरवाजे आ रही है तो उन्हें अब बाहर जाने की कोई जरूरत नहीं। उनके यहां से कई लोगों डिजिटली साक्षर किया गया है। 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट