बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyदिल का इलाज और हुआ सस्‍ता, NPPA ने 28 हजार किए स्‍टेन्‍ट के दाम

दिल का इलाज और हुआ सस्‍ता, NPPA ने 28 हजार किए स्‍टेन्‍ट के दाम

हार्ट जैसी गंभीर बीमारी का सस्‍ता इलाज देने की दिशा में सरकार ने एक और कदम उठाया है....

1 of

नई दिल्‍ली. दिल का इलाज पहले के मुकाबले अब और भी सस्‍ता हो गया है। मेडिकल इक्‍वीपमेंट की कीमतें तय करने वाली सर्वोच्‍च संस्‍था नेशनल फॉर्माच्‍यूटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी (NPPA) ने हार्ट के ऑपरेशन में यूज होने वाले स्‍टेन्‍ट की कीमतों में एक बार फिर से कमी करने का फैसला किया है। NPPA ने ऑपरेशन में यूज होने वाले अन्‍य इक्‍वीपमेंट्स जैसे कैथेटर, बैलून और गाइड वायर की कीमतों को लेकर भी जरूरी निर्देश जारी किया है।   

NPPA ने सोमवार को कीमतों में बदलाव करते हुए ड्रग इलूथिंग स्‍टेन्‍टस (DES)  की कीमतों में  2300 रुपए की और कमी कर दी। इस कमी के साथ ही स्‍टेन्‍ट की कीमत अब 28000 रुपए से नीचे आ गई है। हालांकि बेयर मेटल स्‍टेन्‍टस की कीमतों में 260 रुपए की बढ़ोतरी भी की गई है। इसकी कीमत को 7400 से बढ़ाकर 7660 रुपए कर दिया गया है। इन कीमतों में जीएसटी शामिल नहीं होगा। बता दें कि भारत में दिल के इलाज में 95 फीसदी ड्रग इलूथिंग स्‍टेन्‍टस (DES) ही यूज होता है। सीधी भाषा में कहें तो ज्‍यादातर स्‍टेंन्‍ट्स अब सस्‍ते हो गए हैं। माना जा रहा है कि इससे हार्ड की बीमारी से जूझ रहे लोगों को बड़ी राहत होगी। 

 

बिल में लिखना होगा अन्‍य इक्‍वीपमेंट का नाम 

नेशनल फॉर्माच्‍यूटिकल प्रासिंग अथॉरिटी के पास इस तरह की शिकायतें मिल रही थीं कि अस्‍पताल एंजीयोप्‍लास्‍टी (दिल का ऑपरेशन) में यूज होने वाले कैथेटर, बैलून और गाइड वायर की कीमतें वाजिब कीमत से ज्‍यादा वसूल रहे हैं। इस तरह की बातें भी सामने आ रहींं थीं कि इन इक्‍वीपमेंट पर इम्‍पोर्ट कॉस्‍ट के मुकाबले 150 से 400 फीसदी का मुनाफावसूली हो रही है। इसी को देखते हुए  NPPA ने हॉस्पिटल बिल में 5 फीसदी जीएसटी के साथ कैथेटर, बैलून और गाइड वायर की कीमतें अलग से दर्ज करने को कहा था।  नई कीमतें मंगलवार से ही लागू हो जाएंगी।

 

आगे पढ़ें- पिछले साल आधी कर दी गईं थी कीमतें 

 

पिछले साल आधी कर दी गईं थी कीमतें 

5  फीसदी जीएसटी समेत बात करें तो DES की कीमतें अब 29,285  रुपए पड़ेंगी, जबकि मेटल  स्‍टेन्‍ट 8,043 रुपए का पड़ेगा। वही ट्रेड मार्जिन की बात करें तो यह अब भी 8 फीसदी बना रहेगा। मतलब कंपनियां लागत से 8 गुना ज्‍यादा ही मुनाफा कमा पाएंगी। बदली कीमतें मंगलवार से लागू हो गई हैं और ये 31 मार्च 2019 तक लागू रहेंगी। इससे पहले पिछले साल 14 फरवरी को आधे से भी ज्‍यदा कमी करते हुए NPPA ने मेटल स्‍टेंट की कीमत 7,400 रुपए और DES की कीमतें 30,180 रुपए कर दी थी। बता दें कि अस्‍पताल हार्ड ऑपरेशन के नाम पर मरीरों को लाखों रुपए में स्‍टेन्‍ट बेचा करते थे। 

 

आगे पढ़ेंकमाई का पिछला दरवाजा बंद 

 

कमाई का पिछला दरवाजा बंद 
दरअसल NPPA ने अपने इस आदेश के जरिए‍ दिल के इलाज के नाम पर अस्‍पतालों की ओर से पिछले दरवाजे से की जाने वसूली का रास्‍ता बंद किया है। दरअसल अस्‍पताल यह दावा करते थे कि स्‍टेन्‍ट सस्‍ते हुए हैं, लेकिन ऑपरेशन की सपोर्टिव चीजें अब भी महंगी हैं। इसी को देखने हुए सरकार ने ऑपरेशन में यूज होने वाली अन्‍य चीजों की कीमतें बिल में दिखाने को कहा है।  NPPA इन चीजों की कीमतें भी एनालाइज कर रहा है। माना जा रहा है कि जल्‍द ही इन चीजों की कैपिंग से जुड़े निर्देश भी जारी कर दिए जाएंगे। फिलहाल तो इन चीजों की कीमतें बिल पर अलग से दिखाने को कहा गया है।   

 

आगे पढ़ें-  दिल के ऑपरेशन में यूज होने वाले आयटम्‍स और उनपर मुनाफा वसूली ​


 

दिल के ऑपरेशन में यूज होने वाले आयटम्‍स और उनपर मुनाफा वसूली 
 

बैलून कैथेटर- 400 फीसदी 
गाइड वायर-158 फीसदी 
गाइडिंग कैथेटर- 292 फीसदी 
कटिंग बैलून- 292 फीसदी 
गाइडिंग कैथेटर- 172 फीसदी 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट