Home » Budget 2018 » TaxationIndia Union Budget 2018 - 1 फरवरी को पेश होगा आम बजट2018 - budget session start from 29 jan to 6 april, union budget present on 1 feb

बजट 2018 - 1 फरवरी को पेश होगा आम बजट, 29 जनवरी से 6 अप्रैल तक चलेगा बजट सेशन

बजट सेशन की शुरुआत इस बार भी 29 जनवरी से होगी, जो 6 अप्रैल तक चलेगा।

1 of

नई दिल्ली.   इस बार भी बजट सेशन की शुरुआत 29 जनवरी से होगी, जो 6 अप्रैल तक चलेगा। फाइनेंशियल ईयर 2018-19 के लिए मोदी सरकार 1 फरवरी को आम बजट 2018 पेश करेगी। सेशन का पहला भाग 29 जनवरी से 9 फरवरी तक चलेगा। इसके बाद 5 मार्च से 6 अप्रैल तक दूसरा भाग होगा। इस बारे में शुक्रवार को सरकार ने नोटिफिकेशन जारी किया। बता दें कि मोदी सरकार ने सालों पुरानी परंपरा को बदलकर पिछले साल से जल्दी बजट पेश करना शुरू किया है। 

 

बजट 2018 - 10 हजार की टैक्स छूट लिमिट बढ़ाएगी सरकार

 

आम बजट 2018 - 29 जनवरी को रखा जाएगा इकोनॉमिक सर्वे

- न्यूज एजेंसी के सूत्रों के मुताबिक, संसद में बजट सेशन राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद की स्पीच से शुरू होगा। 29 जनवरी को लोकसभा में इकोनॉमिक सर्वे पेश किया जाएगा। वहीं, 1 फरवरी को आम बजट पेश किया जाएगा।

 

Live Budget 2018 News - आम बजट 2018 से जुड़ी हर खबर

 

पिछले साल से शुरू हुई नई परंपरा 

- बता दें कि फाइनेंशियल ईयर 2017-18 के बजट से पहले आम बजट फरवरी के अंतिम वर्किंग डे को पेश किया जाता था। लेकिन, मोदी सरकार ने सालों पुरानी यह परंपरा खत्म कर दी और जेटली ने पिछले साल 1 फरवरी को बजट पेश किया था।

 

बजट 2018 - Ficci ने की कॉरपोरेट टैक्‍स 28 फीसदी करने की अपील

 

आम बजट 2018 जल्दी पेश करने के पीछे ये है मकसद

- बजट जल्दी पेश करने के पीछे सरकार का तर्क है कि नए फाइनेंशियल ईयर की शुरुआत यानी 1 अप्रैल तक बजट के सभी प्रपोजल्स को मंजूरी मिल जाए, जिससे योजनाओं के लिए समय पर फंड मिले और उन्हें लागू कराने में देरी न हो।

- दूसरे बदलाव के तहत अलग से रेल बजट पेश करने की परंपरा भी खत्म की गई और उसे आम बजट में शामिल कर दिया गया था।

 

बजट 2018 -  इंडस्‍ट्रीज ने FM से कहा, 18 से 25% तक हो कॉरपोरेशन टैक्‍स

 

आम बजट 2018 - नए टैक्स प्रपोजल की उम्मीद कम 

- वित्त मंत्रालय के एक सीनियर अफसर ने बताया, "जीएसटी काउंसिल ने रेट तय किए गए हैं, इस वजह से फाइनेंशियल ईयर 2018-19 के बजट में नए टैक्स प्रपोजल की उम्मीद नहीं है। जीएसटी काउंसिल के हेड फाइनेंस मिनिस्टर जेटली हैं और इसमें सभी राज्यों के रीप्रेजेंटेटिव भी शामिल हैं। बजट में इनकम टैक्स और कॉरपोरेट टैक्स में किसी नई स्कीम या प्रोग्राम के साथ बदलाव का प्रपोजल हो सकता है।"

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट