Home » Economy » Policyमौसम ने बिगाड़ी AC की सेल, कंपनियों के टारगेट से 40-50% डिमांड कम

मौसम ने बिगाड़ी AC की सेल, कंपनियों के टारगेट से 40-50% डिमांड कम

नॉर्थ इंडिया में बेमौसम आंधी और देश में समय से पहले पहुंचे मानसून ने एसी के बिजनेस को बिगाड़ दिया है।

1 of

नई दिल्ली। नॉर्थ इंडिया में बेमौसम आंधी और देश में समय से पहले पहुंचे मानसून ने एसी के बिजनेस को बिगाड़ दिया है। इस साल अभी तक रिटेल में एसी की सेल लगभग बीते साल जैसी ही है। रिटेलर्स 15 से 20 फीसदी तक के ग्रोथ की उम्मीद कर रहे थे लेकिन अभी तक 10 फीसदी तक की ग्रोथ हासिल कर पाए हैं। इस बार मानसून समय पर होने के कारण दक्षिण और पश्चिम भारत में सेल बढ़ने की उम्मीद रिटेलर्स को कम नजर आ रही है। इसके पहले सीजन में वीडियोकॉन, वोल्टास, व्हर्लपूल, डाइकिन, सैमसंग सभी एसी सेल में डबल डिजिट ग्रोथ की उम्मीद लगाए बैठे थे।

 

इंडस्ट्री की एसी सेल रही फ्लैट

 

मल्टीब्रांड कन्ज्यूमर ड्युरेबल रिटेलर विजय सेल्स के एमडी नीलेश गुप्ता ने moneybhaskar.com को बताया कि नॉर्थ और साउथ इंडिया में अभी तक एसी की सेल बीते साल जैसी ही रही है। नॉर्थ इंडिया में बेमौसम आंधी और बारिश का सीधा असर एसी की सेल पर पड़ा है। अब दक्षिण और पश्चिम इंडिया में अपने समय से तीन दिन पहले आए मानसून का भी एसी की सेल पर पड़ेगा और अब वहां सेल में ग्रोथ न के बराबर होगी। गुप्ता ने बताया कि वह 15 से 20 फीसदी की ग्रोथ उम्मीद कर रहे थे लेकिन अभी तक 10 से 12 फीसदी तक की ग्रोथ का टारगेट पूरा हुआ है जो कि लगभग बीते साल के जैसा है।

 

 

छोटे शहरों में भी सेल रही बीते साल जैसी

 

वीडियोकॉन के सीनियर अधिकारी ने moneybhaskar.com को बताया कि छोटे शहरों में डिस्पोजेबल इनकम बढ़ने और इलेक्ट्रिसिटी की सर्विस बेहतर होने से एसी की सेल में डबल डिजीट ग्रोथ की उम्मीद कर रहे थे। बीते साल की तुलना में इस साल  शुरूआत में टियर 2 औ टियर 3 शहरों में एसी की डिमांड ज्यादा तेजी से बढ़ी लेकिन मौसम का असर सेल पर अब नजर आ रहा है। उन्होंने कहा कि अभी तक सेल बीते साल जैसी ही है।

 

छोटे शहरों पर था कंपनियों का फोकस

 

नीलेश गुप्ता ने कहा कि इन्वर्टर एसी अब कम वोल्टेज में भी अच्छा काम करते हैं। इन एसी की सेल टियर-1, टियर-2 और टियर-3 शहरों में बढ़ी है। एसी पर इंडियन सीजनल एनर्जी एफिशिएंसी रेशियो लागू होने से इसकी कॉस्ट 10 फीसदी तक बढ़ गई है लेकिन कंपनियों के मुताबिक इन्वर्टर बेस्ड टेक्नोलॉजी से सेल बढ़ाने में मदद मिल रही है। वोल्टास के अधिकारी के मुताबिक इन्वर्टर बेस्ड टेक्नोलॉजी का फायदा इस सीजन की सेल पर नजर आया है। सैमसंग ने इस साल एयर कडीश्नर की नई विंड फ्री रेन्ज निकाली थी। कंपनी का फोकस बिजली की कम खपत पर रहा। इन एसी की कीमत 50,950 रुपए से लेकर 74,260 रुपए है।

 

आगे पढ़ें... कितना बड़ा है कंज्‍यूमर ड्यूरेबल सेक्टर का मार्केट

 

 

 

कंज्‍यूमर ड्यूरेबल का पीक सीजन

 

भारत में होम बेस्ड एसी इंडस्ट्री करीब 60 लाख यूनिट का बाजार है। अभी एसी सेगमेंट में 15 से 20 कपनियां बिजनेस कर रही हैं।कंज्‍यूमर ड्यूरेबल मार्केट की सालाना एवरेज ग्रोथ (सीएजीआर) 14.8 फीसदी है। फ्रिज, टीवी, एसी जैसे कंज्‍यूमर ड्यूरेबल प्रोडक्ट का 65 फीसदी मार्केट शहरी एरिया में है। इंडस्‍ट्री के 2016 तक के आंकड़ों के अनुसार, देश का रूरल कंज्‍यूमर ड्यूरेबल सालाना 25 फीसदी की सीएजीआर से बढ़ रहा है।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट