Home » Economy » PolicyAadhaar Virtual ID to be accepted by service providers from July 1

1 जुलाई से काम करने लगेगी आधार की वर्चुअल ID, 16 डिजिट का होगा नंबर

आधार नंबर के विकल्‍प के तौर पर किया जा सकेगा इस्‍तेमाल

Aadhaar Virtual ID to be accepted by service providers from July 1

नई दिल्‍ली. आधार की सिक्‍योरिटी को पुख्‍ता बनाने के लिए अप्रैल में लॉन्‍च हुई वर्चुअल ID 1 जुलाई से काम करने लगेगी। यह ID 16 डिजिट का एक नंबर है, जिसे आधार नंबर के विकल्‍प के तौर पर इस्‍तेमाल किया जा सकेगा। वर्चुअल ID स्‍वीकार करने के लिए RBI द्वारा सभी बैंकों को 30 जून तक सिस्‍टम में बदलाव करने का निर्देश जारी कर दिया गया है। बैंकों के अलावा अन्‍य सर्विस प्रोवाइडर्स को भी इसी डेडलाइन के तहत सिस्‍टम में बदलाव करने और 1 जुलाई से वर्चुअल ID स्‍वीकार करने का आदेश है। वर्चुअल ID से अभी केवल ऑनलाइन एड्रेस अपडेट किया जा सकता है। 

 

जनवरी में हुई थी घोषणा

जनवरी में आधार डाटा की सिक्‍योरिटी को लेकर चिंता बढ़ने पर UIDAI ने वर्चुअल ID सिस्‍टम को लाने की घोषणा की थी। कहा गया था कि इस ID को बैंक, इंश्‍योरेंस कंपनियों और टेलीकॉम ऑपरेटर्स आदि जैसे सर्विस प्रोवाइडर्स के साथ शेयर किया जा सकेगा और वे इसे स्‍वीकार करेंगे।

 

कैसे करेगी काम 

वर्चुअल ID के आने से अब लोगों को हर जगह अपना आधार नंबर देने की जरूरत नहीं रहेगी। नागरिक सर्विस प्रोवाइडर्स को आधार नंबर की बजाय इस 16 डिजिट वाली वर्चुअल ID को दे सकेंगे। इससे आधार की बायोमेट्रिक डिटेल्‍स सिक्‍योर रखने में एक और लेयर जुड़ जाएगी। 16 नंबर वाली वर्चुअल ID दरअसल कंप्‍यूटर द्वारा बनाया गया नंबर है, जो जरूरत पर तत्‍काल जारी किया जाएगा। वर्चुअल ID को अनगिनत बार जनरेट कर सकेंगे। यह ID सिर्फ कुछ समय के लिए ही वैध रहेगी, इससे इस ID का गलत इस्तेमाल होने की आशंका न के बराबर होगी। साथ ही काम हो जाने पर इसे डिएक्टिवेट भी किया जा सकेगा। इसके अलावा इसका एक फायदा यह भी है कि एजेंसियां आपके आधार की पूरी डिटेल एक्सेस नहीं कर पाएंगी। इससे वह सिर्फ उतनी ही जानकारी देख या पा सकेंगे, जितना उनके लिए जरूरी है।

 

पहले 1 जून से स्‍वीकार करने का था निर्देश

अप्रैल में वर्चुअल ID को लॉन्‍च करने के वक्‍त कहा गया था कि अभी बैंक व अन्य सर्विस प्रोवाइडर्स इसे स्‍वीकार नहीं कर पाएंगे। इसमें थोड़ा वक्‍त लगेगा। सर्विस प्रोवाइडर्स को नए सिस्‍टम को अपनाने के लिए 1 जून तक का वक्‍त दिया गया था लेकिन बाद में इस डेडलाइन को बढ़ाकर 30 जून कर दिया गया।  

 

ऐसे कर सकते हैं जनरेट

- UIDAI वेबसाइट uidai.gov.in पर आधार की वर्चुअल ID को जनरेट करने की सुविधा अप्रैल से ही शुरू हो चुकी है। हालांकि mAadhar ऐप के जरिए इसे जनरेट नहीं किया जा सकता है। 
- ID जनरेशन के लिए uidai.gov.in पर 'आधार सर्विसेज' सेक्‍शन के 'वर्चुअल ID जनरेटर' ऑप्‍शन पर जाएं। 
- अब नए खुले पेज में आधार नंबर और सिक्‍योरिटी कोड डालकर OTP जनरेट करें। OTP आपके UIDAI में रजिस्‍टर्ड मोबाइल नंबर पर आएगा। 
- OTP एंटर करने के बाद आप वर्चुअल ID को जनरेट या रिट्रीव कर सकेंगे। 
- इसके बाद ID के सक्‍सेसफुल जनरेशन का मैसेज शो होने लगेगा।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट