बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyड्राइविंग करते वक्‍त 5 में से 3 भारतीय करते हैं ये एक गलती, कहीं आप तो नहीं शामिल

ड्राइविंग करते वक्‍त 5 में से 3 भारतीय करते हैं ये एक गलती, कहीं आप तो नहीं शामिल

ट्रैफिक रूल्‍स तोड़ने पर जान-माल को नुकसान को लेकर बार-बार जागरुक करने के बावजूद ज्‍यादातर भारतीय गलतियां कर बैठते हैं।

1 of

नई दिल्‍ली. भारत में ट्रैफिक रूल्‍स और उन्‍हें तोड़ने पर जान-माल को हो सकने वाले नुकसान के बारे में बार-बार जागरुक किया जाता है। लेकिन उसके बावजूद हर ज्‍यादतर भारतीय गलतियां कर बैठते हैं। हाल ही में निसान इंडिया और कंतार आईएमआरबी ने भारतीयों पर एक सर्वे किया, जिसमें सामने आया कि ड्राइविंग के वक्‍त ज्‍यादातर भारतीय मोबाइल पर बात करने की गलती करते हैं। सर्वे में शामिल लोगों में से हर 5 में से 3 भारतीय ने यह बात स्‍वीकारी है।

 

हर पांच में से तीन भारतीयों ने यह माना है कि वह ड्राइविंग करते वक्‍त मोबाइल फोन का इस्‍तेमाल करते हैं। इसमें सबसे आगे 62 फीसदी के साथ नॉर्थ इंडिया के लोग हैं। वहीं साउथ इंडिया के 52 फीसदी लोग ये गलती करते हैं। वहीं हर 4 में से 1 भारतीय को इस गलती के लिए पुलिस ने पकड़ा भी है। इस सर्वे में कुछ और फैक्‍ट्स भी सामने आए हैं। आइए आपको बताते हैं क्‍या हैं ये फाइंडिंग्‍स- 

 

आगे पढें- जानें और कौन से फैक्‍ट्स आए सामने

दूसरी सबसे बड़ी गलती ओवर स्‍पीडिंग 

सर्वे में कहा गया कि मोबाइल पर बात करते हुए ड्राइविंग के बाद, जो गलती भारतीय सबसे ज्‍यादा करते हैं वह है ओवर स्‍पीडिंग। इस गलती को करने वालों में सबसे ज्‍यादा तादाद है केरल के लोगों की। सर्वे में भाग लेने वालों में से जितने लोगों ने इस गलती को माना उनमें 60 फीसदी केरलवासी, दिल्‍ली के 51 फीसदी और पंजाब के 28 फीसदी लोग रहे। 

 

आगे पढ़ें- पति की ड्राइविंग पर ज्‍यादातर पत्नियों को भरोसा

पति की ड्राइविंग पर ज्‍यादतर पत्नियों को है भरोसा 

सर्वे में शामिल महिलाओं में से लगभग 64 फीसदी का कहना है कि जब ड्राइविंग की बात आती है तो वह अपने पति पर पूरा भरोसा रखती हैं। वहीं ड्राइविंग के मामले में पत्‍नी पर भरोसा रखने वाले पुरुषों की संख्‍या कम रही। केवल 37 फीसदी पुरुषों ने कहा कि वह ड्राइविंग को लेकर अपनी पत्‍नी पर पूरा भरोसा रखते हैं।  

 

आगे पढ़ें- और किन फैक्‍ट्स का हुआ खुलासा

ये फैक्‍ट्स भी आए सामने 

निसान मोटर इंडिया के एमडी जेरोम सैगट का कहना है कि इस सर्वे में इन तथ्‍यों के अलावा कुछ और चीजें भी सामने आईं। इनमें कार में रहते हुए टेक्‍नोलॉजी के इस्‍तेमाल की जरूरत और अपनों की सुरक्षा प्रमुख रहे। भाग लेने वालों में से 53 फीसदी लोगों ने ड्राइविंग के वक्‍त भी अपने परिवार से जुड़े रहने की इच्‍छा जताई। सर्वे ने यह भी दर्शाया कि लगभग 68 फीसदी भारतीयों ने स्‍वीकारा है कि वे जब नई जगह पर ड्राइविंग करते हैं तो अक्‍सर खो जाते हैं  और इस चक्‍कर में उनका परिवार टेंशन में आ जाता है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट