Home » Economy » PolicyIndia's Gem and jewellery sector may generate 30 lakh jobs by 2025

Gems एंड Jewellery सेक्टर में 30 लाख नौकरियां निकलने की संभावना

वर्ष 2025 तक जेम्स व ज्वैलरी का निर्यात पहुंच सकता है 18 अरब डॉलर के स्तर पर

1 of

नई दिल्ली. जेम्स एंड ज्वेलरी एक्सपोर्ट  प्रमोशन काउंसिल (GJEPC) के चेयरमैन प्रमोद कुमार अग्रवाल का कहना है कि वर्ष 2025 तक भारत का गोल्ड ज्वेलरी एक्सपोर्ट 18 अरब डॉलर (1.2 लाख करोड़ रुपए) होने की संभावना है। ऐसे में इस इंडस्ट्री में 30 लाख नए रोजगार पैदा हो सकते हैं। फिलहाल भारत दुनिया का सबसे बड़ा गोल्ड ज्वेलरी निर्यातक है। 2017 में देश से 9 अरब डॉलर (63.5 हजार रुपए) का गोल्ड ज्वेलरी एक्सपोर्ट किया गया। साथ ही वर्तमान में इस इंडस्ट्री में प्रत्यक्ष तौर पर 50 लाख लोगों को रोजगार मिला हुआ है।

 

भारत में है भारी डिमांड

शुक्रवार को India Gold & Jewellery Summit 2018 का आयोजन किया गया। समिट में मौजूद वाणिज्य और उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि रत्न और आभूषण इंडस्ट्री देश की इकॉनोमी में योगदान देने वाले प्रमुख उद्योगों में से एक हैं। उन्होंने कहा कि देश में जितना सोना आयात होता है उसमें से सिर्फ 10 फीसदी ही ज्वेलरी के रूप में निर्यात किया जाता है, क्योंकि देश में सोने की भारी मांग है। उन्हाेंने यह भी कहा कि GJEPC को अन्य देशों के साथ पार्टनरशिप करने की जरूरत है क्योंकि यह बिजनेस देश को आर्थिक रूप से मजबूत करेगा और इससे रोजगार के अवसर निकलेंगे।

 

आगे भी पढ़ें- 

 

 

गोल्ड पर कस्टम ड्यूटी कम करने की मांग

अग्रवाल ने कहा कि वह सरकार से मांग कर रहे हैं कि इस सेक्टर में ईज ऑफ डूइंग बिजनेस को बढ़ाया जाए और गोल्ड पर लगने वाली इंपोर्ट ड्यूटी को फीसदी तक कम किया जाएजिससे ज्वेलरी के निर्माण की लगात कम होगी और वैल्यू एडिड गोल्ड ज्वेलरी एक्सपोर्ट को बढ़ावा मिल सकेगा। उन्होंने आगे कहा कि इस इंडस्ट्री के अनुकूल ट्रेड पॉलिसी और उपभोक्ताओं के फायदे के लिए हॉलमार्किंग व गोल्ड मॉनिटाइजेशन जैसे प्रयासों से इस इंडस्ट्री को फायदा मिलेगा।

 

आगे भी पढ़ें- 

 

 

कई स्तरों पर काम कर रहा है GJEPC

अग्रवाल ने बताया कि GJEPC इस इंडस्ट्री के विकास के लिए कई स्तरों पर काम कर रही है। इसमें MyKYCबायर-सेलर मीट्सक्लस्टर मैपिंगजेम एंड ज्वेलरी ट्रेनिंग इंस्टीट्यूटस्किल डेवलपमेंट पार्क्स और कॉमन फैसिलिटी ट्रेनिंग सेंटर शामिल हैं।  GJEPC की तरफ से मुंबईदिल्लीसूरतवाराणसी और उड़िपी में जेम एंड ज्वेलरी ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट खोले गए हैं। काउंसिल ने 30 कॉमन फैसिलिटी सेंटर भी खोले हैं।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट