Advertisement
Home » इकोनॉमी » पॉलिसीIndia to be fastest growing economy, growth rate to touch 7.5 per cent: World Bank

विश्व बैंक ने पेश की भारत की सुनहरी तस्वीर, कहा-2021 तक सबसे तेजी बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बना रहेगा भारत

ग्लोबल इकोनॉमिक प्रोस्पेक्ट्स रिपोर्ट में सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर 7.5 फीसदी रहने का अनुमान

1 of

नई दिल्ली। विश्व बैंक ने वर्ष 2021 तक वैश्विक अर्थव्यवस्था में गिरावट का पूर्वानुमान जारी किया है, हालांकि उसने कहा है कि भारत की विकास दर बढ़कर 7.5 फीसदी पर पहुंच जाएगी और वह दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली बड़ी अर्थव्यवस्था बना रहेगा। विश्व बैंक की ‘ग्लोबल इकोनॉमिक प्रोस्पेक्ट्स’ रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर वित्त वर्ष 2017 के 6.7 फीसदी से बढ़कर 2018 में 7.3 फीसदी रहने का अनुमान है। इसके 2019, 2020 और 2021 में 7.5 फीसदी पर बने रहने का पूर्वानुमान जारी किया गया है और इस प्रकार यह दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था होगा। वास्तव में किसी और बड़ी अर्थव्यवस्था की विकास दर सात फीसदी को भी पार नहीं कर पाएगी। 

 

ढांचागत सुधारों से बदली तस्वीर
रिपोर्ट में सरकार की ओर किए गए ढांचागत सुधारों की सराहना करते हुए कहा गया है कि उनके परिणाम अब सामने आने लगे हैं। इसमें कहा गया है कि भारत की जीडीपी वृद्धि दर वित्त वर्ष 2018-19 में 7.3 फीसदी रहने का अनुमान है जो इसके बाद बढ़कर 7.5 फीसदी पर पहुंच जाएगी। हालिया नीतिगत सुधारों के लाभ दिखने लगे हैं और ऋण उठाव बढ़ा है। इससे निजी उपभोग मजबूत बने रहने और निवेश में तेजी जारी रहने की उम्मीद है।

Advertisement

चालू खाते का घाटा और मुद्रास्फीति बढ़ने की आशंका 


विश्व बैंक ने देश का चालू खाते का घाटा और मुद्रास्फीति बढ़ने की भी आशंका जताई है। उसके अनुसार मजबूत घरेलू मांग से चालू खाते का घाटा बढ़कर  2019-20 में जीडीपी के 2.6 फीसदी पर पहुंच 

सकता है। खाद्य पदार्थों और  ऊर्जा की महंगाई के कारण मुद्रास्फीति की दर भी चार फीसदी से ज्यादा रह  सकती है। विश्व बैंक ने वैश्विक स्तर पर विकास दर घटने की चेतावनी दी है। उसने कहा है कि 

2019 में वैश्विक अर्थव्यवस्था का परिदृश्य अंधकारमय है। अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और निवेश में नरमी आई है। व्यापार युद्ध का तनाव बढ़ा है। पिछले वर्ष कई बड़ी उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं पर भारी वित्तीय 

दबाव रहा है। 

वैश्विक विकास दर घटने का पुर्वानुमान


विश्व बैंक ने 2018 में वैश्विक विकास दर घटकर 2.9 फीसदी रह जाने का पूर्वानुमान व्यक्त किया है। वर्ष 2017 में यह तीन फीसदी रही थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2020 और 2021 में दुनिया की विकास दर 2.8 फीसदी रहेगी। चीन की विकास दर 2018 में 6.5 फीसदी, 2019 और 2020 में 6.2 फीसदी तथा 2021 में छह फीसदी पर रहने का पूर्वानुमान है। यह 2017 में 6.9 फीसदी रही थी। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement