Home » Economy » PolicyIndia seeks UK help in early extradition of Mallya

माल्या का जल्द प्रत्यर्पण चाहता है भारत, ब्रिटेन से मांगी मदद

शराब कारोबारी विजय माल्या के जल्द प्रत्यर्पण के लिए गुरुवार को भारत ने ब्रिटेन से सहयोग मांगा।

India seeks UK help in early extradition of Mallya

लंदन। शराब कारोबारी विजय माल्या के जल्द प्रत्यर्पण के लिए गुरुवार को भारत ने ब्रिटेन से सहयोग मांगा। फ्रॉड और 9,000 करोड़ रुपए के मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामलों में माल्या के प्रत्यर्पण के लिए ब्रिटेन में कानूनी प्रक्रिया जारी है। ब्रिटेन के सिक्यॉरिटी एंड इकनॉमिक क्राइम मामलों के मंत्री बेन वैलेस के साथ द्विपक्षीय बैठक में गृह राज्य मंत्री किरन रिजिजू ने वेस्टमिन्स्टर मैजिस्ट्रेट कोर्ट में चल रहे प्रत्यर्पण के मामले से जुड़ी जानकारी ली।

 

रिजिजू ने ट्वीट किया

द्विपक्षीय बातचीत के दौरान रिजिजू ने भगोड़े उद्योगपति के जल्द प्रत्यर्पण में ब्रिटेन का सहयोग मांगा। बैठक के बाद रिजिजू ने ट्वीट किया, 'ब्रिटेन के सिक्यॉरिटी ऐंड इकनॉमिक क्राइम मामलों के मंत्री बेन वैलेस के साथ द्वीपक्षीय बैठक सार्थक रही। हमने साइबर सिक्यॉरिटी, मजहबी कट्टरता, भारत और ब्रिटेन में वांछित लोगों के प्रत्यर्पण और सूचनाओं के आदान-प्रदान के मुद्दों पर बात की।' 

 

13 लोगों के प्रत्यर्पण में सहयोग की गुजारिश की

 

एक अधिकारी ने बताया कि रिजिजू ने माल्या, आईपीएल के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी, क्रिकेट बुकी संजीव कपूर समेत 13 लोगों के प्रत्यर्पण में ब्रिटेन से सहयोग की गुजारिश की। भारत ने इनके अलावा 16 अन्य कथित अपराधियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई में ब्रिटेन का सहयोग मांगा। रिजिजू ने अपने ब्रिटिश समकक्ष से यह भी कहा कि ब्रिटेन अपनी धरती का कश्मीरियों और खालिस्तानी अलगाववादियों द्वारा भारत विरोधी-गतिविधियों में इस्तेमाल न होने दे। बैठक में भारत-विरोधी सिख समूहों की ब्रिटेन में गतिविधियों और अतिवादी समूहों द्वारा युवाओं को कट्टर बनाने के प्रयासों पर भी चर्चा हुई। अधिकारी ने बताया कि द्विपक्षीय बैठक एक घंटे से ज्यादा वक्त तक चली। उन्होंने बताया, 'रिजिजू ने सुरक्षा से जुड़े मसलों पर चर्चा को जारी रखने के लिए वैलेस को भारत आने का न्योता दिया।' 

 

 

सुनवाई के लिए कोर्ट पहुंचे माल्‍या 


उधर, माल्या लंदन की अदालत में गुरुवार को हो रही सुनवाई में भाग लेने कोर्ट पहुंचे।  बैंकों का 9,000 करोड़ रुपए से अधिक का कर्ज न चुकाने के मामले में माल्या के खिलाफ सीबीआई जांच कर रही है।  विजय माल्या के बेटे सिद्धार्थ माल्या भी उनके साथ वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट पहुंचे । सुनवाई के दौरान माल्या के वकील ने बचाव में कहा कि ब्रिटेन के कानून के मुताबिक भारत के कोई भी सबूत स्वीकार करने लायक नहीं है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट