Home » Economy » Policyindia may get its first woman CEA

विश्व की पांचवी बड़ी इकोनॉमी की सलाहकार बन सकती है ये महिला अर्थशास्त्री

भारत को जल्द ही पहली महिला चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर (CEA) मिल सकती हैं।

india may get its first woman CEA

नई दिल्ली। भारत को जल्द ही पहली महिला चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर (CEA) मिल सकती हैं। इससे पहले भारत के चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर अरविंद सुब्रमण्यम थे। उनका एक्सटेंशन अगस्त 2018 में खत्म हो चुका है जिसके बाद यह पद खाली है। सूत्रों की माने तो मात्र 6 महीने के लिए CEA पद के लिए किसी नए चेहरे को खोजा जा रहा है। बता दें कि  6 महीने में नरेंद्र मोदी सरकार के 5 साल पूरे होने जा रहे हैं। CEA पद के लिए पूनम गुप्ता का नाम काफी चर्चा में है।  पूनम गुप्ता वर्ल्ड बैंक में भारत की लीड इकनॉमिस्ट हैं। इससे पहले वह नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक फाइनेंस एंड पॉलिसी (NIPFP) में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया चेयर प्रोफेसर थीं।

 

CEA की रेस में शामिल हैं और भी नाम
 पूनम गुप्ता के साथ-साथ जेपी मॉर्गन के चीफ इंडिया इकनॉमिस्ट साजिद चिनॉय और इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस के कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यन भी मुख्य आर्थिक सलाहकार पद की रेस में शामिल हैं।  सरकार का मानना है कि वह कार्यकाल खत्म होने कीरपरवाह किए बिना वैश्विक उथलपुथल के इस समय में CEA की नियुक्ति पर ध्यान दे रही है। इस मामले में एक सूत्र ने बताया, 'हम CEA पद के लिए नए चेहरे को ढूंढ रहे हैं और एक समिति उम्मीदवारों के नाम पर विचार कर रही है।'  

 

CEA का नया उत्तराधिकारी ढूंढने के लिए बनाई गई है सर्च कमेटी
गौरतलब है  कि अरविंद सुब्रमण्यम  CEA पद पर तीन साल से कार्यरत थे जिसके बाद उन्हें अगस्त तक 12 महीने का एक्सटेंशन मिला था।   CEA का नया उत्तराधिकारी ढूंढने के लिए सरकार ने रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर बिमल दालान की अध्यक्षता में एक सर्च कमेटी बनाई है। अरविंद सुब्रमण्यम से पहले  रघुराम राजन चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर थे। इन दोनों के पास इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड (आईएमएफ) और वर्ल्ड बैंक में काम करने का तजुर्बा है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट