Home » Economy » PolicyIndia has just a decade to become a developed nation SBI study

विकसित राष्‍ट्र बनने के लिए भारत के पास केवल 10 साल, चूके तो हमेशा के लिए रह जाएंगे विकासशील: SBI स्‍टडी

इस लक्ष्‍य को हासिल करने के लिए भारत को शिक्षा पर फोकस करने की जरूरत होगी।

India has just a decade to become a developed nation SBI study

मुंबई. भारत के पास विकसित राष्‍ट्र बनने के लिए अब केवल 10 साल हैं। अगर इस अवधि में देश ऐसा नहीं कर पाया तो यह कभी भी विकसित राष्‍ट्रों के समूह में शामिल नहीं हो सकेगा। यह बात SBI की एक स्‍टडी में कही गई। इसमें यह भी कहा गया कि इस लक्ष्‍य को हासिल करने के लिए भारत को शिक्षा पर फोकस करने की जरूरत होगी। ऐसा न होने पर भारत की ताकत कहलाने वाला डेमोग्राफिक डिविडेंड देश की सबसे बड़ी कमजोरी में बदल जाएगा। 

 

रिपोर्ट में कहा गया कि देश की सरकार और नीति निर्माताओं को युवाओं पर फोकस करना होगा ताकि वे अच्‍छे नागरिक बन सकें। साथ ही देश को विकसित राष्‍ट्रों में शामिल होने के लिए शिक्षा पर फोकस करना होगा और डेमोग्राफिक डिविडेंड को समझना होगा। नहीं तो 2030 तक भारत की डेमोग्राफिक डिविडेंड की पावर देश की खराबी में बदल जाएगी। अगर भारत 10 साल की अवधि में विकसित राष्‍ट्र नहीं बना तो यह हमेशा के लिए विकासशील देश ही बना रह जाएगा।

 

20 सालों में सुस्‍त पड़ी जनसंख्‍या वृद्धि दर 

आगे कहा गया कि आबादी में बढ़ोत्‍तरी का ट्रेंड दर्शाता है कि पिछले दो दशकों (20 सालों) में जनसंख्‍या बढ़ोत्‍तरी सुस्‍त पड़ी है और यह लगभग 18 करोड़ रही है। साथ ही जन्‍म दर में भी गिरावट दर्ज की गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, लोग अब अपने बच्‍चों को सरकारी स्‍कूल के बजाय प्राइवेट स्‍कूल में पढ़ाने को वरीयता दे रहे हैं। इस पर खर्च भी ज्‍यादा आता है। यह भी जन्‍म दर या जनसंख्‍या वृद्धि में आई गिरावट की एक मुख्‍य वजह है। इसलिए यह समय की मांग है कि सभी राज्‍यों में सरकारी स्‍कूलों की स्थिति को सुधारा जाए। 

 

राइट टू एजुकेशन के फंड का सरकारी स्‍कूलों में हो इस्‍तेमाल

SBI इकोनॉमिस्‍ट्स ने रिपोर्ट में सुझाव दिया कि शिक्षा का अधिकार (राइट टू एजुकेशन) के तहत प्राइवेट स्‍कूलों को फंड ग्रांट न किया जाए और उस फंड का इस्‍तेमाल सरकारी स्‍कूलों के इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर को बेहतर बनाने में किया जाए।  

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट