बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policy11 लाख लोगों को दि‍ए 271 करोड़, पात्र हैं तो उठाएं मोदी की इस योजना का लाभ

11 लाख लोगों को दि‍ए 271 करोड़, पात्र हैं तो उठाएं मोदी की इस योजना का लाभ

महि‍लाओं को स्‍वास्‍थ्‍य में सुधार के लि‍ए सरकार ने एक बेहतरीन योजना शुरू की है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। महि‍लाओं को स्‍वास्‍थ्‍य में सुधार के  लि‍ए सरकार ने एक बेहतरीन योजना शुरू की है। इसका नाम प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना (पीएमएमवीवाई) है। प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना (पीएमएमवीवाई) के अंतर्गत दर्ज लाभार्थियों की संख्या बढ़कर अब 22,04,182 हो गई है। पीएमएमवीवाई के अंतर्गत 36 राज्यों व संघ शासित प्रदेशों के लिए अब तक 2048.59 करोड़ रुपये मंजूर किए गए, जिनमें से अब तक 2048.40 करोड़ रुपये जारी किए जा चुके हैं। 


इस योजना का उद्देश्य महिलाओं  को नकद प्रोत्साहन राशि प्रदान करना है, ताकि वे पहले जीवित बच्चे के जन्म से पहले और जन्म के बाद पर्याप्त आराम कर सकें और नकद प्रोत्साहन राशि से गर्भवती महिला और स्तनपान कराने वाली माताओं के स्वास्थ्य में सुधार हो सके। जानें कि‍सको कैसे मि‍लता है लाभ 

गर्भवती महि‍लाएं हैं पात्र
प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना (पीएमएमवीवाई) के अंतर्गत मातृत्व लाभ सामान्य रूप से परिवार के पहले जीवित बच्चे के लिए सभी गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए उपलब्ध है। इसमें केन्द्र सरकार अथवा राज्य सरकार अथवा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम में काम करने वाली महिलाएं अथवा किसी भी कानून के अंतर्गत इसी प्रकार के लाभ प्राप्त करने वाली महिलाएं शामिल नहीं हैं।  आगे पढ़ें कि‍स तरह से मि‍लती है राशि

 

कि‍स तरह से मि‍लती है राशि
पीएमएमवीवाई के तहत पात्र लाभार्थी को 5,000 रुपये मिलेंगे और बच्चे के जन्म के बाद जननी सुरक्षा योजना (जेएसवाई) के अंतर्गत मातृत्व लाभ के स्वीकृत नियमों के अनुसार शेष नकद प्रोत्साहन राशि मिलेगी, जिससे औसतन एक महिला को 6,000 रुपये मिलेंगे। 
योजना की लाभ राशि DBT के माध्यम से लाभार्थी के बैंक खाते में सीधे भेज दी जाती है। सरकार निम्नलिखित किश्तों में राशि का भुगतान करती है। 
पहली किस्त: 1000 रुपए गर्भावस्था के पंजीकरण के समय
दूसरी किस्त: यदि लाभार्थी छह महीने की गर्भावस्था के बाद कम से कम एक प्रसवपूर्व जांच कर लेते हैं तो 2,000 रुपए मिलेंगे।
तीसरी किस्त: जब बच्चे का जन्म पंजीकृत हो जाता है और बच्चे को BCG, OPV, DPT और हेपेटाइटिस-B सहित पहले टीके का चक्र शुरू होता है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट