विज्ञापन
Home » Economy » PolicyHimachal famous Chintapurna temple connected by rail line

श्रद्धालुओं के लिए खुशखबरी, अब हिमाचल का यह प्रसिद्ध मंदिर जुड़ गया रेल से, पहुंचने में होगी आसानी

335 करोड़ रुपए की लागत से तैयार किया गया है

1 of

 

 

नई दिल्लीचिंतपूर्णी माता मंदिर हिंदुओं का एक प्रमुख मंदिर है,जो हिमाचल प्रदेश के उना जिले में स्थित है। चिंतपूर्णी देवी सभी भक्तों की चिंता और तनाव दूर लेती हैं। इस मंदिर में, देवी की मूर्ति को गोल पत्थर के रूप में है। यह 51 शक्ति पीठो मे से एक है।अब हिमाचल के इस प्रसिद्ध मंदिर में श्रद्धालुओं का जाना आसान हो गया है। मंगलवार को केन्द्रीय रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने एक कार्यक्रम के दौरान अंब से दौलतपुर चौक तक 16 किलोमीटर लंबे ब्राॅड गेज लाइन का उद्घाटन किया।

 

335 करोड़ रुपए की लागत से तैयार किया गया है

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस रेल लाइन पर 16 बड़े और पुल और दो स्टेशन है और इसे बनाने में कुल 335 करोड़ रुपए की लागत आई है। इस रेल लाइन पर कुनेरन गांव में पड़नेवाले एक स्टेशन का नाम चिंतपूर्णी मार्ग रखा गया है क्योंकि यह चिंतपूर्णी मंदिर के सबसे करीब है, जहां पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, दिल्ली और उत्तर प्रदेश के ज्यादातर तीर्थयात्री आते हैं। 

यह मंदिर रेलवे स्टेशन से 25 किलोमीटर दूर स्थित है, जहां सड़क मार्ग से पहुंचा जा सकता है। बता दें कि इस रेल लाइन की आधारशिला 1974 में तत्कालीन रेल मंत्री ललित नारायण मिश्रा ने अंब में रखी थी।

 


 

'2022 तक पंजाब में मुकेरियन तक रेल लाइन का विस्तार किया जाएगा'

पंजाब में दौलतपुर चौक से तलवाड़ा तक आठ किमी का ट्रैक अभी भी निमार्णाधीन है। इस मौके पर मनोज सिन्हा ने कहा ‘2022 तक पंजाब में मुकेरियन तक रेल लाइन का विस्तार किया जाएगा। ’ इसके अलावा सिन्हा ने नई दिल्ली और अंब-अंदौरा के बीच प्रतिदिन चलने वाली हिमाचल एक्सप्रेस का उद्घाटन किया।

नांगल से तलवाड़ा ब्रॉड गेज लाइन 83 किलोमीटर लंबा है, जिस पर दौलतपुर चौक ऊना जिले का अंतिम स्टेशन है।

 

 

जानिए क्या है इस मंदिर का रहस्य

चिंतपूर्णी माता अर्थात चिंता को पूर्ण करनेवाली देवी चिंतपूर्णी देवी का यह मंदिर हिमाचल प्रदेश में है। यहां माता का पिंडी रूप में पूजा की जाती है यहां पर सती के चरण गिरे थे। इस मंदिर को लेकर ऐसी मान्यताएं हैं कि चिंतपूर्णी देवी का एक बार दर्शन मात्र करने से समस्त चिन्ताओ से मुक्ति मिलती है। यहां आने वाले श्रद्धालुओं के लिए माता के चरण स्पर्श का खास महत्व है ।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन