विज्ञापन
Home » Economy » PolicyHere are the best places in India to watch or play the famous Holi festival

भारत के इन शहरों में मनाई जाती है अनोखी होली, कम खर्च में आप भी बना सकते हैं यहां का टूर

यहां की होली देखने दुनियाभर से पर्यटक आते हैं

1 of

नई दिल्ली। होली का त्योहार इस बार 21 मार्च को है। इस दिन गुरुवार है। ऐसे में होली, दुल्हैंडी के बाद आपको शनिवार और रविवार की भी छुट्टी मिल रही है। यानी की लाॅन्ग वीकेंड। ऐसे में आप होली को यादगार बनाने के लिए होली सेलिब्रेशन के लिए कहीं बाहर का प्लान बना सकते हैं। हम आपको भारत के उन शहरों के बारें में बता रहे हैं जहां आप भी मजेदार तरीके से होली को सेलिब्रेट कर सकते हैं। यहां होली की धूम में शामिल होने के लिए देश के कोने-कोने से विदेशों से भी लोग पहुंचते हैं।

मथुरा-वृंदावन की फूलों वाली होली
अगर आप इस होली को शानदार बनाना चाहते हैं तो आप मथुरा-वृंदावन जा सकते हैं। यहां की होली विश्व भर में लोकप्रिय और प्रसिद्ध है। यहां लोग फूलों से खेलते हैं। यह होली पूरे सप्ताह तक चलती है और इसे खेलने के लिए दुनियाभर से सैलानी आते हैं। इसका सेलिब्रेशन वृंदावन के बांके बिहारी मंदिर से शुरू होता है। इस बार 17 मार्च को एक-दूसरे पर फूल फेंकने से इसकी शुरुआत होगी।
ऐसे पहुंचे: दिल्ली से मथुरा सफर के लिए लगातार ट्रेनों की सुविधा उपलब्ध है, जो आपको डेढ़ से दो घंटे के अंदर मथुरा छोड़ देती हैं। बात करें बस की तो आपको 183 किलोमीटर के इस सफर के लिए लगभग 3.5 घंटे लगेंगे।

खर्च : कम खर्च में होली सेलिब्रेशन के लिए सबसे उत्तम माना जाता है मथुरा-वृन्दावन को। यहां आपको ठहरने के लिए कम से कम 300 से 900 रुपए तक में बेहतर होटल मिल जाएगी। 3000 से भी कम खर्च में आप मथुरा- वृन्दावन में होली मना सकते हैं।

नंदगांव की लठमार होली

होली के मायने पूरे भारत वर्ष में भले ही अलग हो पर बरसना नंदगांव की होली का नजारा हमेशा खास होता है। बरसाना की लड्डू होली व लठमार होली जिसने एक बार देखली वह जीवन पर्यंत अपने जहन से नहीं निकाल सकता है। अनोखी होली को देखने को देश के कोने-कोने से भक्तों का आना शुरू हो गया है। यहां की होली दुनियाभर में प्रसिद्ध है। लठमार होली की शुरुआत होली के मुख्य पर्व से एक सप्ताह पहले होती है। इस साल इसकी शुरुआत 15 मार्च से होगी। अगले दिन यह सेलिब्रेशन नंदगांव में पहुंचता है। लठमार होली से दो दिन पहले बरसाना पहुंचना ठीक रहता है क्योंकि इससे आप लड्डू होली का आनंद ले सकेंगे। इसमें लोग एक-दूसरे पर मिठाई (लड्डू) फेंकते हैं। साथ ही राधा-कृष्ण के भजन गाए जाते हैं।

ऐसे पहुंचे:दिल्ली से सीधे बरसाना जाने के लिए 9 सीधी ट्रेनें हैं। आप कोई भी चुन सकते हैं। इसके अलावा बस से इस सफर को तय करने में 4 घंटे का समय लगता है।

खर्च : होली को यादगार बनाने के लिए आपको मात्र 3000 रुपए खर्च करने पड़ेगे। यहां 200 रुपए तक में आपको प्रति दिन के हिसाब से कमरे मिले जाएंगे।

 


 

शांतिनिकेतनपश्चिम बंगाल


पश्चिम बंगाल में होली को बसंत उत्सव के रूप में मनाया जाता है। यह विश्व भारती यूनिवर्सिटी में खेली जाती है। यहां के छात्र आने वाले सैलानियों के लिए कई अनोखे सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं। इसकी शुरुआत प्रसिद्ध बंगाली कवि और नोबेल पुरस्कार विजेता रवींद्रनाथ टैगोर ने की थी। बता दें कि इस साल कार्यक्रम की शुरुआत 20 मार्च से होगी।

ऐसे पहुंचे: अगर इस साल आप होली का त्योहार पश्चिम बंगाल में इंजॉय करना चाहते हैं तो इसके लिए आप ट्रेन का ही चुनाव करें। लगभग 1400 किलोमीटर की इस यात्रा के लिए दिल्ली से लगभग 8 लॉन्ग डिस्टेंस ट्रेनें चलती हैं।

 

खर्च : यहां कम खर्च में ठहरने से लेकर खाने-पीने का इंतजाम कर सकते हैं। शांतिनिकेतन में आप 5000 रुपए में होली काे यादगार बना सकते हैं।

उदयपुर की रॉयल होली


होली की पूर्व संध्या पर उदयपुर में खास तरह से होली मनाई जाती है। इसे शाही होली कहते हैं। इस त्योहार में लोग आग जलाते हैं और शाही तरीके से होली सेलिब्रेट करते हैं। इस दौरान सिटी पैलेस में शाही निवास से मानेक चौक तक शाही जुलूस निकाला जाता है। इस जुलूस में घोड़े, हाथी से लेकर रॉयल बैंड शामिल होता है।

ऐसे पहुंचे: इसके लिए आप ट्रेन या बस (जिससे भी चाहें) से सफर कर सकते हैं। बात करें ट्रेन की तो दिल्ली और उदयपुर दोनों स्टेशनों के बीच करीब 13 ट्रेनें चलती हैं। आप अपनी टाइमिंग और सुविधा के हिसाब से ट्रेन का चुनाव कर सकते हैं।

 

खर्च : यहां की शाही होली देखने के लिए आपकाे कम से कम 5000 रुपए खर्च करने पड़ेंगे।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन