विज्ञापन
Home » Economy » PolicyGrowing Cosmetics Business In India

461 अरब रुपए के कॅास्मेटिक कारोबार को बढ़ाने का महिलाओं पर बढ़ रहा है दबाव

कोरिया की महिलाएं बॉयकॉट करने लगी हैं कॉस्मेटिक आइटम को

1 of

नई दिल्ली। पुराने जमाने से महिलाओं में सुंदर दिखने की होड़ चल रही है और बदलते समय के साथ होड़ बढ़ती जा रही है। जहां एक तरफ कॅास्मेटिक के कारोबार में दिन पर दिन बढ़ोतरी हो रही है वहीं  कॅास्मेटिक कारोबार को बढ़ाने के लिए महिलाओं पर विभिन्न तरीके से दबाव बढ़ रहा है। सुंदर दिखने के कई पैमाने सेट कर दिए गए हैं और उस पैमाने पर खरा उतरने के लिए महिलाएं मेकअप का सहारा ले रही हैं। सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि साउथ कोरिया का भी यही हाल है। वहां हर तीसरी महिला सुंदर दिखने के लिए कॅास्मेटिक्स सर्जरी करवा रही है। हसीन दिखने का सबसे अधिक दबाव मिडिल ऐज की महिलाओं पर है। भारत में कॅास्मेटिक्स इंडस्ट्री की बात करें तो यहां कॅास्मेटिक्स का कारोबार 6.5 अरब डॅालर (461 अरब रुपए ) है। वहीं कोरिया में कॅास्मेटिक्स कारोबार 24 अरब डॉलर (1.7 लाख करोड़ रुपए )  है। भारत से काफी छोटे देश में  कॉस्मेटिक का कारोबार भारत से चार गुना अधिक है।

 

भारत में बढ़ रहा है कॅास्मेटिक्स का कारोबार

भारतीय कॅास्मेटिक्स इंडस्ट्री पिछले कुछ सालों में काफी ग्रोथ किया है। यहां कॅास्मेटिक्स के कारोबार में अमेरिका और यूरोप के शहरों के मुकाबले दोगुनी ग्रोथ हुई है। अनुमान है कि 2025 तक भारत में कॅास्मेटिक्स का कारोबार 20 अरब (1.4 लाख करोड़ रुपए ) डॅालर के पार होगा।

 

आगे पढ़ें

 

 

अब शुरू हो चुका है विरोध

 

साउथ कोरिया में महिलाएं अब अपने चेहरे पर मेकअप करके थक चुकी है और वहां अब इसके विरोध में मेकअप को नष्ट किया जा रहा है। इतना ही नहीं सोशल मीडिया के जरिए 'आई एम नॅाट प्रेटी' यानी कि 'मैं बहुत खूबसूरत नहीं हूं' नाम से कैंपेन चलाया जा रहा है। यहां महिलाएं ब्यूटी प्रोडक्ट्स का बॅायकॅाट कर रही है। उनका मानना है कि 'मैं सुंदर नहीं हूं लेकिन मुझे कोई दिक्कत नहीं है, हम जैसे हैं वैसे ही सही हैं। दूसरे लोग हमारे बारे में क्या सोचते हैं, उससे हमें कोई मतलब नहीं है।' 

आगे पढ़ें

 

मार्केट में मिल रहा है नकली प्रोडक्ट्स

 

कॅास्मेटिक्स के बढ़ते कारोबार महिलाओं के लिए खतरनाक साबित हो रहे हैं। चेहरा गोरा और चमकदार बनाने से लेकर श्रृंगार के लिए कॉस्मेटिक्स खरीदने के लिए युवतियां और महिलाएं ऑनलाइन प्लेटफॉर्म को चुनती हैं जो कि अधिक खतरनाक है। हाल ही में एक रिपोर्ट के अनुसार, नकली और मिलावटी कॉस्मेटिक्स का हजारों करोड़ का कारोबार है, जिसे खत्म करने के लिए बड़े स्तर पर योजना तैयार की जा रही है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन