Home » Economy » Policyसरकार ने वापस लिया एलपीजी के दाम में हर माह बढ़ोत्‍तरी का फैसला- Govt takes back LPG price hike order after contrary signal

उज्जवला स्कीम पर असर न पड़े, इसलिए सरकार ने हर महीने LPG के दाम बढ़ाने का फैसला वापस लिया

उज्‍ज्वला योजना तहत सरकार गरीबों को एलपीजी कनेक्शन मुफ्त में मुहैया कराती है। इस पर असर न पड़े इसलिए ये फैसला लिया।

1 of

नई दिल्‍ली.    मोदी सरकार ने एलपीजी सिलेंडर की कीमत में हर माह 4 रुपए की बढ़ोत्‍तरी करने का फैसला वापस ले लिया है। ऐसा उज्‍ज्वला योजना पर पड़ने वाले असर को देखते हुए किया गया। बता दें कि सरकार ने ऑइल कंपनियों से कहा था कि वे सब्सिडी को खत्म करने के लिए घरेलू कुकिंग गैस (एलपीजी) के रेट हर महीने 4 रुपए बढ़ाएंं और इसे जून 2016 से लागू करें। बाद में इस आदेश को अक्टूबर में वापस ले लिया है। बता दें कि उज्‍ज्वला योजना तहत सरकार गरीबों को एलपीजी कनेक्शन मुफ्त में मुहैया कराती है। 

 

 

- सरकार के इस फैसले के बाद इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन, भारत पेट्रोलियम लिमिटेड और हिंदुस्‍तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड ने अक्‍टूबर से एलपीजी सिलेंडर के दाम नहीं बढ़ाए हैं। 

 

पहले कीमत 2 रुपए प्रति माह बढ़ाने का था आदेश 

- इससे पहले, ऑइल कंपनियों के पास सब्सिडी वाले घरेलू एलपीजी सिलेंडर की कीमतें बढ़ाने के अधिकार थे। इसके तहत ये कंपनियां  14.2 किलोग्राम वाले सिलेंडर पर दो रुपए हर महीने बढ़ा सकती थीं। ये 1 जुलाई 2016 से लागू था। इसके बाद कंपनियों ने एलपीजी की कीमतों में 10 बार बढ़ोत्‍तरी की। 

 

लोगों के बीच गलत मैसेज न जाए, इसलिए फैसला लिया वापस 

- इसके बाद सरकार ने 30 मई 2017 को जारी एक आदेश में एलपीजी सिलेडर की कीमत में बढ़ोत्‍तरी को दोगुना कर दिया। इस आदेश के तहत सरकारी ऑयल कंपनियों को सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडर के दाम में हर माह 4 रुपए की बढ़ोत्‍तरी का अधिकार दिया गया, जो 1 जून 2017 से प्रभावी थी। ऐसा मार्च 2018 या सरकार की ओर से दी जाने वाली सब्सिडी घटकर शून्‍य पर आ जाने या अगले आदेश तक करने को कहा गया था।

- न्यूज एजेंसी के सूत्रों के मुताबिक, सरकार ने माना कि सिलेंडर के दाम में बढ़ोत्‍तरी के फैसले से लोगों पर गलत मैसेज जा रहा है। एक तरफ सरकार गरीबों को मुफ्त में कुकिंग गैस कनेक्‍शन देने पर जोर दे रही है और दूसरी ओर हर माह इसके दाम बढ़ा रही है। इसी को देखते हुए सरकार ने गैस सिलेंडर की कीमत में बढ़ोत्‍तरी का फैसला वापस ले लिया है। 

 

टैक्‍सेशन था कीमत में बढ़ोत्‍तरी की वजह 

- सूत्रों ने यह भी बताया कि अक्‍टूबर के बाद भी सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडर के दाम में बढ़ोत्‍तरी की प्रमुख वजह टैक्‍सेशन का मसला था। यह मसला डायरेक्‍ट बेनिफिट ट्रान्‍सफर (DBT) स्‍कीम के अमल में आने के बाद शुरू हुआ। DBT के तहत उपभोक्‍ताओं को सब्सिडी सीधे उनके बैंक अकाउंट में भेज दी जाती है। आगे बताया कि DBT से पहले एलपीजी सिलेंडर डीलर्स के पास से सब्सिडी वाली दरों पर मिलता था। अब सारे सिलेंडर मार्केट प्राइज पर ही मिलते हैं, जिन पर जीएसटी भी लगा हुआ है, बाद में सब्सिडी अकाउंट में आती है। दूसरी ओर बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर के दाम हर माह घटते-बढ़ते हैं, जिसकी वजह टैक्‍स है। 

 

17 महीनों में 76.5 रुपए दाम बढ़े 

- सरकारी ऑयल मार्केटिंग कंपनियों पिछले साल जुलाई के बाद से हर महीने की 1 तारीख को एलपीजी की कीमतों में बदलाव करती हैं। बता दें कि 17 महीनों में एलपीजी के रेट्स में 19 बाद बदले गए। इससे 76.5 रुपए दाम बढ़ गए। 

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट