Home » Economy » Policymodi govt introduce mega plan to consumption of milk in country like second Operation Flood

रेलवे स्‍टेशन से लेकर स्‍कूल तक दूध पहुंचाएगी मोदी सरकार, दूसरी श्‍वेत क्रांति की तैयारी

देश में करीब 3 लाख टन पाउडर मिल्‍क का अतिरिक्‍त भंडार हो गया है, इसके चलते दूध की कीमतों में भारी गिरावट देखी गई है...

1 of

नई दिल्‍ली। मोदी सरकार ने दूध के किसानों को और ज्‍यादा फायदा देने के लिए मेगा प्‍लान बनाया है। इसके तहत सरकार ज्‍यादा से ज्‍यादा दूध की खपत बढ़ाएगी। सरकार अपने इस मेगा प्‍लान के तहत दूसरी  श्‍वेत क्रांति करने की तैयारी में है। इसके तहत एक तरफ जहां दूध से जुड़े प्रोडक्‍ट के एक्‍सपोर्ट पर 10 फीसदी इन्‍सेंटिव दिया जाएगा, वहीं दूसरी ओर रेलवे स्‍टेशन से लेकर सरकारी स्‍कूलों तक में दूध पहुंचाने का भी प्रस्‍ताव है। केंद्र सरकार के मंत्रियों के एक समूह ने दूध और दूध से जुड़े प्रोडक्‍ट को लेकर यह प्रस्‍ताव दिया है। 

कीमतें बढ़ाने के लिए किसान कर रहे हैं हड़ताल 

 

कीमतें बढ़ाने के लिए महाराष्‍ट्र के कई हिस्‍सों में दुग्‍ध उत्‍पादक किसान हड़ताल कर रहे हैं। उन्‍होंने राज्‍य में दूध की सप्‍लाई रोक दी है। इसी के बाद मंत्री समूह की ओर से यह प्रस्‍ताव सामने आया है। विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज, वित्‍त-रेल मंत्री पीयूष गोयल के साथ पैनल में शामिल सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने पत्रकारों को बताया कि दूध का खपत बढ़ाने के लिए सरकार इसे मिड-डे-मील में भी शामिल करने की योजना बना रही है। 


देश में सरप्‍लस हो गई है मिल्‍क पाउडर की मात्रा 


सरकारी अनुमान के मुताबिक, देश में इस समय करीब 3 लाख टन मिल्‍क पाउडर का सरप्‍लस है। इस स्थिति ने डेयरी और दूध के अन्‍य थोक खरीदारों को दूध की खरीद में कटौती करने को मजबूर कर दिया है। इसके चलते  पिछले साल महाराष्‍ट्र के कुछ हिस्‍सों में दूध की कीमतें 10-15 रुपए प्रति लीटर के लेवल पर जा पहुंचीं। मंत्री समूह ने मिल्‍क पाउडर को विदेशी मदद के रूप में बांग्‍लादेश समेत अन्‍य देशों में भी भेजने का फैसला किया है। 

 

आगे पढ़ें- दूध की खपत बढ़ाने के लिए रेलवे की ली जाएगी मदद 

 

 

दूध की खपत बढ़ाने के लिए रेलवे की ली जाएगी मदद 


इससे पहले कृषि मंत्रालय ने रेल मंत्रालय को स्‍टेशनों पर दूध की उपलब्‍धता सुनिश्चित करने का सुझाव दिया था। अमूल ब्रांड मिल्‍क के प्रतिनिधियों का कहना है कि मिल्‍क प्रोडक्‍ट की सेल के लिए रेलवे डेयरी कंपनियों या कोऑपरेटिव्‍स को स्‍टॉल प्रोवाइड करा सकता है। इस बाबत रेल और वित्‍त मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि रेलवे इस बारे में जल्‍द ही फैसला लेगा। मंत्रालय इस बारे में अन्‍य संबंधित मंत्रालयों से विचार विमर्श करने जा रहा है, कि कैसे देश में दूध की खपत को बढ़ाया जाए। स्‍टेशनों पर दूध की उपलब्‍धता के बारे में मंत्रालय 2 से 4 दिनों में फैसला ले लेगा।  

 

आगे पढ़ें- किसान चाहते हैं 5 रुपए प्रति लीटर सब्सिडी 

किसान चाहते हैं 5 रुपए प्रति लीटर सब्सिडी 


 दूध का उत्‍पादने करने वाले किसनों को 5 रुपए प्रति लीटर सब्सिडी के साथ गाय के दूध की कीमत कम से कम 30 रुपए प्रति लीटर करने की मांग को लेकर पिछले सोमवार से ही महराष्‍ट्र में हड़ताल चल रही है। बता दें कि भारत में पैदा होने वाले करीब 16.5 करोड़ टन में से करीब 70 फीसदी दूध की खपत सीधा दूध के लिक्विड फॉर्म में ही होती है। बाकी के 30 फीसदी की खपत दही, मक्‍खन, मिल्‍क पाउडर और चीन के रूप में होती है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट