Home » Economy » PolicyGovt launches biodegradable sanitary napkins at 2.5 rupees per pad

महिला दिवस पर सरकार ने दिया तोहफा, लॉन्‍च किए सस्‍ते बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन्‍स

अंतरराष्‍ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर सरकार ने महिलाओं के लिए एक खास तोहफा पेश किया।

1 of

नई दिल्‍ली. अंतरराष्‍ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर सरकार ने महिलाओं के लिए एक खास तोहफा पेश किया। महिलाओं के स्‍वास्‍थ्‍य को ध्‍यान में रखते हुए सरकार ने बृहस्‍पतिवार को बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन्‍स लॉन्‍च किए। इसकी कीमत ढाई रुपए प्रति पैड होगी। वहीं 4 पैड वाले एक पैक की कीमत 10 रुपए रहेगी। इस मौके पर केमिकल्‍स मिनिस्‍टर अनंत कुमार ने कहा कि इन सस्‍ते सैनिटरी पैड्स से मेन्‍स्‍ट्रुअल हाइजीन तक महिलाओं की पहुंच बढ़ेगी और वे स्‍वस्‍थ रहेंगी। 

 

बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन्‍स हर प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना केन्‍द्रों पर उपलब्‍ध होंगे। सरकार ने एक बयान में कहा कि ये नैपकिन्‍स अभी बाजार में मिलने वाले नैपकिन्‍स से काफी सस्‍ते हैं। मौजूदा नैपकिन्‍स की एवरेज कीमत 8 रुपए प्रति पैड है। बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी पैड्स से गांव में रहने वाली महिलाओं को काफी फायदा पहुंचेगा। 

 

गांव में 48% तो शहरों में 78% महिलाएं करती हैं सैनिटरी पैड इस्‍तेमाल 

एक सरकारी सर्वे के मुताबिक, भारत के ग्रामीण इलाकों में केवल 48 फीसदी महिलाएं ही सैनिटरी नैपकिन्‍स इस्‍तेमाल रकती हैं, जबकि शहरों में यह आंकड़ा 78 फीसदी है। महिलाओं द्वारा सैनिटरी पैड्स इस्‍तेमाल न करने की कई वजह हैं, इनमें पैड्स की ऊंची कीमतें भी शामिल हैं। नेशनल फैमिली हेल्‍थ सर्वे 2015-16 में यह तथ्‍य सामने आया था कि भारत में 15-24 साल की लगभग 58 फीसदी महिलाएं लोकल लेवल पर बने नैपकिन्‍स, सैनिटरी नैपकिन्‍स इस्‍तेमाल करती हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss