Home » Economy » PolicyIN FLIGHT CONNECTIVITY IN INDIA IN NEXT 10-15 DAYS

इंतजार खत्म, 10-15 दिनों के भीतर फ्लाइट में ले सकेंगे इंटरनेट का मजा

सरकार ने इन फ्लाइट कनेक्टिविटी के गाइडलाइंस को फाइनल किया

IN FLIGHT CONNECTIVITY IN INDIA IN NEXT 10-15 DAYS

नई दिल्ली

विदेशी फ्लाइट की तरह घरेलू फ्लाइट में इंटरनेट का मजा लेने का इंतजार खत्म होता दिख रहा है। टेलीकॉम सचिव अरुणा सुंदरराजन ने कहा है कि भारत में सितंबर के अंतिम सप्ताह या उसके बाद के शुरुआती सप्ताह में फ्लाइट में कनेक्टिविटी सुविधा उपलब्ध हो जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार इस मामले में जल्द ही अधिसूचना जारी करने जा रही है। इस सुविधा के आरंभ होने पर यात्री फ्लाइट में इंटरनेट के इस्तेमाल के साथ कॉल भी कर सकेंगे। अभी फ्लाइट में टेकऑफ के बाद मोबाइल फोन का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं। टेलीकॉम सचिव ने कहा कि सरकार ने इन फ्लाइट कनेक्टिविटी के गाइडलाइंस को फाइनल कर लिया है। सिर्फ अधिसूचना जारी करना बाकी है।

कितना होगा चार्ज

टेलीकॉम सचिव के मुताबिक इन फ्लाइट कनेक्टिविटी का चार्ज टेलीकॉम ऑपरेटर्स निर्धारित करेंगे। लेकिन एक सीमा से अधिक वे इसका चार्ज नहीं ले पाएंगे। टेलीकॉम रेगुलेटर इस पर नजर रखेगा। फ्लाइट में इंटरनेट का इस्तेमाल करने के लिए अलग से कोई फोन नहीं लेना होगा। कोई भी स्मार्टफोन फ्लाइट में काम करेगा। फ्लाइट के 3000 मीटर की ऊंचाई पर पहुंचने के बाद इन फ्लाइट कनेक्टिविटी उपलब्ध रहेगी। इस साल मई में टेलीकॉम कमीशन ने इन फ्लाइट कनेक्टिविटी के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। इन फ्लाइट कनेक्टिविटी की सुविधा देने में ब्रिटिश कंपनी भी दिलचस्पी दिखा रही है। वहीं देश के सभी टेलीकॉम ऑपरेटर्स ने इसमें दिलचस्पी ले रहे हैं।

क्यों हो रही है देरी

30000 फीट ऊंची फ्लाइट में इंटरनेट क्नेक्टिविटी के लिए एयरलाइंस कंपनियों को अपने हवाई जहाज में तकनीकी मोडिफिकेशन करवाना होगा। इस काम की लागत 5  करोड़ रुपये से अधिक हो सकती है। मोडिफिकेशन के लिए एयरप्लेन को पांच-सात दिनों के लिए ग्राउंड पर रखना होगा। ऐसे में उन्हें अलग से नुकसान उठाना पडे़गा।

 

टेलीकॉम कंपनियों को भी करनी होगी कई कवायद

 

टेलीकॉम कंपनियों ने बताया कि उन्हें भी यह देखना होगा कि घने जंगल जैसी जगहों वाले इलाके में कनेक्टिविटी कैसे कायम रहे।फ्लाइट में इंटरनेट बहाल करने पर उनकी लागत बढ़ेगी। इसलिए हो सकता है कि इन फ्लाइट कनेक्टिविटी का चार्ज अधिक हो।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट