Advertisement
Home » Economy » PolicyFraud advertisers who fines with jail

इस क्रीम को लगाने से हो जाएंगे गोरे, अब ऐसे भ्रामक विज्ञापन करने वाले स्टार्स को जेल के साथ जुर्माना

नए कंज्यूमर प्रोटेक्शन के कानून बनने से भ्रामक विज्ञापन पर लगेगी रोक

1 of

 

नई दिल्ली। अब बहकाने वाले या लोगों को गुमराह करने वाले विज्ञापन करना सिने-स्टार्स के लिए आसान नहीं होगा। सरकार ने कंज्यूमर प्रोटेक्शन बिल को लोकसभा में पारित कर दिया है जिससे जल्द ही यह बिल कानून का रूप ले लेगा। इस कानून में किसी गलत वस्तु को इंडोर्स करने वाले स्टार्स पर जुर्माने के साथ जेल का प्रावधान है। साथ ही, उन्हें एक निश्चित अवधि तक विज्ञापन करने से भी रोका जा सकता है। मान लीजिए कोई स्टार, हीरो-हीरोइन विज्ञापन में यह कहते हैं कि इस क्रीम को लगाने से हो जाएंगे गोरे, लेकिन वाकई में ऐसा नहीं होता है तो उपभोक्ता उस विज्ञापन को करने वाले स्टार्स के खिलाफ शिकायत दर्ज करा सकता है।

 

भ्रामक विज्ञापन करने वालों को सजा के तौर पर उनके विज्ञापन करने पर पाबंंदी लग जाएगी। लोक लभा में कंज्यूमर प्रोटेक्शन बिल के पास होने के बाद स्टार्स विज्ञापन करने से पहले कई बार उस प्रोडक्ट की पड़ताल करेंगे। यह बिल राज्य सभा से पहले ही पारित हो चुका है। नए प्रावधान के मुताबिक भ्रामक विज्ञापन करने पर स्टार्स पर विज्ञापन करने से पाबंदी लगाई जा सकती है। इससे उनकी अपनी ब्रांडिंग पर सवाल उठेंगे और वे किसी भी भ्रामक विज्ञापन को हाथ लगाने से घबराएंगे।

 

आरंभ में बिल में भ्रामक विज्ञापन करने वालों को सजा व जुर्माने का प्रावधान रखा गया था। पहली बार गलती करने पर 2 साल की सजा व 10 लाख रुपये का जुर्माना। भ्रामक विज्ञापन के मामले में दूसरी बार दोषी पाए जाने पर 5 साल की जेल व 50 लाख रुपये तक का जुर्माने का प्रावधान रखा गया। उच्चपदस्थ सूत्रों के मुताबिक बाद में इस पर विचार किया गया कि सजा व जुर्माने के प्रावधान से यह मामला अदालत तक पहुंच सकता है और लंबा चल सकता है। इससे भ्रामक विज्ञापन करने वालों पर खास फर्क नहीं पड़ेगा। सेलिब्रेटियों के लिए जुर्माना देना बड़ी बात नहीं है क्योंकि किसी प्रोडक्ट के विज्ञापन करने या उस प्रोडक्ट का ब्रांड एंबेसडर बनने पर उन्हें करोड़ों रुपये मिलते हैं।

 

आगे पढ़ें : बाजार में होगी छवि खराब

 

बाजार में होगी छवि खराब

 

ऐसे में भ्रामक विज्ञापन करने वालों पर कुछ दिनों के लिए विज्ञापन करने की पाबंदी लगाने से विज्ञापन बाजार में उनकी छवि खराब होगी। यह पाबंदी कुछ दिनों या महीनों के लिए लगाई जाएगी। लेकिन इस पाबंदी से उस सेलिब्रिटी की छवि कारपोरेट जगत में धूमिल होगी। खराब ब्रांडिंग वाले व्यक्ति से कोई कंपनी अपने उत्पाद का विज्ञापन कराना नहीं चाहेगा।

 

आगे पढ़ें : प्रोडक्ट का कराएंगे सत्यापन

 

प्रोडक्ट का कराएंगे सत्यापन

 

सूत्रों के मुताबिक इस नियम के आने से किसी भी वस्तु या उत्पाद का विज्ञापन करने से या ब्रांड एंबेसडर बनने से पहले विज्ञापनकर्ता एजेंसियों से उस वस्तु का सत्यापन कराएगा। बिना सत्यापित वस्तुओं का विज्ञापन मुश्किल हो जाएगा। फिलहाल बड़े-बड़े सेलिब्रिटी कई खाद्य वस्तुओं को उत्तम व स्वास्थ्यवर्द्धक बताते हैं। लेकिन जांच में यह पाया जाता है कि उस वस्तु में स्वास्थ्य के लिए हानिकारक चीजें मिली हैं। कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.सी. भरतिया कहते हैं,  किसी उत्पाद पर बड़े सेलिब्रिटी की मुहर लगने से समाज उसे स्वीकार कर लेता है। अधिकतर लोग यह मानकर उस उत्पाद को अपनाने लगते हैं क्योंकि फलां सेलिब्रिटी उसका विज्ञापन करता है। ऐसे में, सेलिब्रिटी का भी यह धर्म बनता है कि वह समाज को ऐसे उत्पाद को अपनाने के लिए प्रेरित नहीं करे जो उनके लिए नुकसानदायक है।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement