बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyबेबी करिश्मा के नाम आयुष्मान भारत का पहला क्लेम, 15 अगस्त को ही मोदी ने किया था स्कीम का ऐलान

बेबी करिश्मा के नाम आयुष्मान भारत का पहला क्लेम, 15 अगस्त को ही मोदी ने किया था स्कीम का ऐलान

माता-पिता को मिला 9000 रुपए का क्लेम, 25 को आधिकारिक रूप से लॉन्च होगी स्कीम

1 of

 

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से इस साल 15 अगस्त को देश के सामने पेश की गई आयुष्मान भारत योजना के तहत पहला क्लेम वितरित कर दिया गया है।  हरियाणा के करनाल में 19 दिन की बच्ची करिश्मा के लिए यह क्लेम दिया गया। इस तरह बेबी करिश्मा आयुष्मान भारत के तहत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की पहली लाभार्थी बन गई है। योजना के तहत उसके माता-पिता को 9 हजार रुपए का लाभ दिया गया है।

 

वह देश की पहली बच्ची है जिसकी मां मौसमी को मोदी सरकार की महत्वाकांक्षी योजना 'आयुष्मान भारत' का लाभ मिला है। करिश्मा का जन्म करनाल के कल्पना चावला अस्पताल में हुआ है। करिश्मा की मां मौसमी ने इस योजना की तारीफ करते हुए कहा है कि सरकार पूरा मेडिकल का खर्च उठाएगी। वहीं हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भी ट्वीट कर लिखा, 'हरियाणा में सीजेरियन के जरिये पहली बच्ची को आयुष्मान भारत के तहत मिले क्लेम से दिल गदगद हो गया है।

 

 

यह भी पढ़ें- देश की सबसे बड़ी नौकरी- एक लाख आयुष्मान मित्र की भर्ती, 12वीं पास भी कर सकते हैं अप्लाई 

 

25 को लॉन्च होगी स्कीम 

बता दें कि इस येजना की आधिकारिक शुरुआत इसी महीने 25 सितंबर को दीन दयाल उपाध्याय की जन्मदिन के मौके पर की जाएगी। हालांकि पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर इसे 15 अगस्त को लाल किले से पीएम मोदी की घोषणा के बाद देश के कई जिलों में लागू कर दिया गया था। इसी के तहत बेबी करिश्मा के लिए पहला क्लेम बांटा गया। यह फंड अस्पताल के लिए जारी किया गया है। इसका प्रोसीजर 15 अगस्त को पूरा किया गया था।  

 

 

आगे पढे़ें- आखिर क्‍या है आयुष्‍मान स्‍कीम...... 

क्‍या है आयुष्‍मान स्‍कीम
बता दें कि आयुष्‍मान भारत स्‍कीम की घोषणा बजट 2019 के दौरान की गई थी। इस स्‍कीम के तहत देश के 10 करोड़ परिवारों को 5 लाख रुपए तक के फ्री हेल्थ इंश्योरेंस की सुविधा दी जाएगी। इसमें लगभग सभी गंभीर बीमारियों का इलाज कवर होगा। कोई भी व्यक्ति (विशेष रूप से महिलाएं, बच्चे और बुजुर्ग) इलाज से वंचित न रह जाए, इसके लिए स्कीम में फैमिली साइज और उम्र पर कोई सीमा नहीं लगाई गई है।  इस स्कीम में हॉस्पिटलाइजेशन से पहले और बाद के खर्च को भी शामिल किया गया है। हर बार हॉस्पिटलाइजेशन के लिए ट्रांसपोर्टेशन अलाउंस का भी उल्लेख किया गया है, जिसका भुगतान लाभार्थी को किया जाएगा। इलाज देश के किसी भी सरकारी या प्राइवेट अस्पताल में कैशलेस इलाज कराया जा सकेगा। इस स्‍कीम से लगभग 50 करोड़ लोगों को फायदा पहुंचेगा।

 

आगे पढ़ें- आयुष्मान स्कीम से जुड़ी कुछ और खबरें 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट