बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyचिदंबरम फैमिली पर IT डिपार्टमेंट की चार्जशीट, विदेश में 9.45 करोड़ की अवैध संपत्ति का आरोप

चिदंबरम फैमिली पर IT डिपार्टमेंट की चार्जशीट, विदेश में 9.45 करोड़ की अवैध संपत्ति का आरोप

कांग्रेस के सीनियर लीडर और पूर्व फाइनेंस मिनिस्‍टर पी चिदंबरम की फैमिली के खिलाफ इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने शुक्रवार को

1 of

चेन्‍नई... कांग्रेस के सीनियर लीडर और पूर्व फाइनेंस मिनिस्‍टर पी चिदंबरम की फैमिली के खिलाफ इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने शुक्रवार को चार्जशीट दाखिल की। इस चार्जशीट में बताया गया है कि चिदंबरम फैमिली की करीब 9.45 करोड़ रुपए की अवैध संपत्ति है। इसमें यूनाइटेड किंगडम में 6.17 करोड़ और अमेरिका में 3.28 करोड़ रुपए की संपत्ति है।

चार्जशीट में यह भी दावा किया गया है कि चिदंबरम फैमिली ने इसकी जानकारी टैक्स अधिकारियों को नहीं दी। वहीं इस चार्जशीट को खारिज करते हुए चिदंबरम फैमिली ने टैक्‍स डिपार्टमेंट के आरोपों को पूरी तरह से आधारहीन बताया है। 

 

यह है मामला 
दरअसल, शुक्रवार को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने चिदंबरम और उनकी फैमिली के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए ब्लैक मनी एक्ट के तहत 4 चार्जशीट दाखिल की है। जिन लोगों के खिलाफ यह चार्जशीट दाखिल की गई है उनमें चिदंबरम के अलावा बेटे कार्ति, पत्नी नलिनी और बहू श्रीनिधि शामिल हैं। चेन्नई में स्पेशल कोर्ट के समक्ष दायर चार्जशीटों के मुताबिक, चिदंबरम फैमिली के अलग - अलग मेंबर्स की यूनाइटेड किंगडम और अमेरिका में अवैध प्रॉपर्टी है। 

 

 

- चार्जशीट में बताया गया है कि इस इन्‍वेस्‍टमेंट या प्रॉपर्टी की जानकारी टैक्स अधिकारियों को नहीं दी गई। चिदंबरम के बेटे कार्ति के को-ऑनर वाली कंपनी चेस ग्लोबल एडवाइजरी ने भी इसके बारे में नहीं बताया, जो नियमों का उल्लंघन है।

 

 

 

 

चिदंबरम फैमिली की सफाई

हालांकि चिदंबरम फैमिली के मेंबर्स ने 27 अप्रैल को IT अधिकारियों को अलग-अलग जवाब भेजकर कहा था कि उन्होंने किसी तरह का डिफॉल्ट नहीं किया है। उन्होंने संशोधित IT रिटर्न दाखिल कर विदेशी संपत्ति की जानकारी भी दी है। कार्ति चिदंबरम की पत्नी श्रीनिधि का कहना है कि उन्होंने CA की सलाह पर ओरिजनल और संशोधित रिटर्न दाखिल किए थे।

 

पत्नी नलिनी के खिलाफ जारी हो चुका है समन

बता दें कि चिदंबरम की पत्नी नलिनी चिदंबरम को ईडी ने नए सिरे से समन जारी किया है। उनको सारदा चिटफंड मामले की मनी लॉन्ड्रिंग की जांच के सिलसिले में 7 मई को कोलकाता दफ्तर में पेश होने को कहा गया था। इस मामले में उनको सबसे पहला समन सितंबर 2016 में जारी किया गया था। उनसे सीबीआई और ईडी पहले पूछताछ कर चुकी है। सारदा समूह द्वारा नलिनी चिदंबरम को कोर्ट और कंपनी लॉ बोर्ड में पेशी के लिए 1.26 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया था। नलिनी ने कहा था कि आरोपी की ओर से पेश होने के लिए वकील का फीस लेना कोई अपराध नहीं है।

 

बेटा कार्ति INX मामले में पहले ही है आरोपी

 

आईएनएक्स मीडिया केस में कार्ति आरोपी हैं। 28 फरवरी को लंदन से लौटते ही चेन्नई एयरपोर्ट पर उन्हें गिरफ्तार किया गया था। बाद में दिल्ली लाया गया।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट