बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyआधार पर सरकार ने मांगी प्रजेंटेशन की इजाजत, CJI- दूसरे जजों से सलाह लेकर तय करेंगे वक्‍त

आधार पर सरकार ने मांगी प्रजेंटेशन की इजाजत, CJI- दूसरे जजों से सलाह लेकर तय करेंगे वक्‍त

केंद्र सरकार ने SC से कहा है कि आधार स्कीमों को लेकर यूआईडीएआई को कोर्ट में पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन की इजाजत दी जाए।

1 of

नई दिल्‍ली. आधार से जुड़े मामलों की सुनवाई के लिए केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि आधार स्कीमों को लेकर यूआईडीएआई (आधार अथॉरिटी) के सीईओ को कोर्ट में पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन (पीपीटी) की इजाजत दी जाए। इस पर चीफ जस्टिस (सीजेआई) दीपक मिश्रा ने कहा कि कोर्ट बेंच के अन्य जजों से सलाह लेकर पीपीटी के लिए वक्त निर्धारित करेगा। आधार की डाटा सिक्युरिटी, इसे लागू करने और सर्विलांस को लेकर कई टेक्निकल प्वाइंट हैं। आधार से जुड़ीं याचिकाओं पर चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता में 5 जजों की बेंच सुनवाई कर रही है।

 

 

आधार लिंकिंग की बढ़ी है समय सीमा 
13 मार्च को सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने कहा था कि आधार को जबरदस्ती सरकारी सेवाओं के लिए अनिवार्य नहीं किया जा सकता। आधार की वैलेडिटी पर फैसला आने तक इसे लिंक करने की तारीख आगे बढ़ाई जाती है। इससे पहले कोर्ट ने कहा था कि आधार को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर 31 मार्च तक फैसला देना संभव नहीं है। 15 दिसंबर को भी बैंक और मोबाइल नंबर को आधार से जोड़ने की सीमा 31 मार्च तक बढ़ाई थी।

 

आधार लिंकिंग और आधार एक्‍ट को दी गई है चुनौती 
आधार लिंकिंग और आधार एक्‍ट की वैधता को चुनौती दी गई है। पिटीशनर्स में बैंक अकाउंट और मोबाइल नंबर से आधार लिंक करना जरूरी किए जाने के नियम को भी चुनौती दी गई है। पिटीशनर्स का कहना है कि ये गैर-कानूनी और संविधान के खिलाफ है। इनमें कहा गया है कि यह नियम संविधान के आर्टिकल 14, 19 और 21 के तहत दिए गए फंडामेंटल राइट्स को खतरे में डालता है। हाल ही में 9 जजों की संवैधानिक पीठ ने कहा था कि राइट ऑफ प्राइवेसी फंडामेंटल राइट्स के तहत आता है।

 

क्‍या है मामला?
सरकारी योजनाओं का फायदा लेने के लिए केंद्र ने आधार को जरूरी किया है। इसके खिलाफ तीन अलग-अलग पिटीशन्स सुप्रीम कोर्ट में लगाई गई थी। इनमें आधार की कानूनी वैधता, डाटा सिक्युरिटी और इसे लागू करने के तरीकों को चुनौती दी गई है। पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था कि सरकार और उसकी एजेंसियां योजनाओं का लाभ लेने के लिए आधार को जरूरी ना बनाएं। बाद में कोर्ट ने केंद्र को ये छूट दी थी कि एलपीजी सब्सिडी, जनधन योजना और पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम में लोगों से वॉलियन्टरी आधार कार्ड मांगे जाएं।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट