विज्ञापन
Home » Economy » PolicyInvestment tips India

निवेश से पहले इन जरूरी बातों का रखें ख्याल, मिलेंगे बेहतर नतीजे और बड़े फायदे

Compare Policy एक्सपर्ट से जानिए निवेश के तरीके 

Investment tips India

नई दिल्ली. परिवार को आर्थिक बैकअप  देना आज के दौर में काफी महत्वपूर्ण हो गया है।  किसी भी निवेश से पहले परिवार के आर्थिक ज़रूरतों को समझना काफी ज़रूरी होता है। परिवार में कितने सदस्य है, किस age group के हैं, किस तरह के प्रोफेशन में हैं - इन सब का आंकलन बहुत ज़रूरी है किसी भी निवेश से पहले। पर्याप्त Sum Assured चुनें, जिससे परिवार की सभी जरूरतों को पूरा किया जा सके। इस बार में मनी भास्कर ने Compare Policy dot com का सीईओ और फाउंडर सुभाष नागपाल से बातचीत की। 

चेक करें क्लेम रेशियो

Claim Settlement Ratio चेक करें और फिर किसी एक इंस्योरेन्स कंपनी से प्लान खरीदें। इंस्योरेन्स  में राइडर्स को अपनी जरुरत के अनुसार लें. आप टर्म, हेल्थ, चाइल्ड, रिटायरमेंट आदि जैसे इन्शुरन्स प्लान में निवेश कर सकते हैं।


कम उम्र में करें निवेश 

युवावस्था में निवेश करने से न सिर्फ आप आर्थिक स्वतंत्रता के बारे में सीखते हैं बल्कि आप बचत और निवेश के फर्क को भी समझ जाते हैं. कम उम्र में निवेश करने के कई सारे फायदे हैं जैसे :

- आप कम प्रीमियम पर अधिक का लाभ उठा सकते हैं

-लंबी अवधि का निवेश जैसे क़ि ट्यूलिप एंड रिटायरमेंट प्लान में निवेश आसान हो जाता है 

-कई बार आपको इमरजेंसी फण्ड की जरूरत पड़  सकती है,ऐसे मौकों पर आपके  निवेश की गयी राशि से मदद मिल सकती है 

 

ऑनलाइन चेक कर सकते हैं पॉलिसी

digitization का प्रभाव इंस्योरेन्स मार्केट में काफी हद्द तक ग्राहक को सशक्त करने का रहा है। आज ग्राहक सारे निवेश प्लान्स का न सिर्फ खुद से शोध कर सकते हैं बल्कि उनकी तुलना और आंकलन भी स्वयं कर सकते हैं। इन सब में कहीं न कहीं आज भी एक ईमानदार वित्‍त सलाहकार काफी ज़रूरी होता है। 


निजी जरूरतों के हिसाब से ले प्लान

वित्‍त सलाहकार आपको निजी ज़रूरर्तों के आधार पर उचित प्लान्स एवं इंस्योरेन्स लेने की  सलाह देता है।  इंटरनेट आपको प्लान्स और निवेशों को लेकर सूचित ज़रूर करता है पर एक ईमानदार वित्त सलाहकार आपको गाइड करता है।  उत्पादों की कुछ श्रेणियां जैसे टर्म, चाइल्ड, रिटायरमेंट एवं ट्यूलिप में आप वित्त सलाहकार की मदद से अपनी इंस्योरेन्स की जरूरतों को पूरा कर सकते हैं ।

 

निवेश करते वक्त क्या करें

यदि आप इंस्योरेन्स स्कीम्स या इंवेस्टमेंट्स प्लान्स  लेने की सोच रहे हैं तो निम्न चीज़ों का ख्याल ज़रूर रखें 

Risk cover का सही आकलन करें

Under-insure होने से आपके परिवार की जरूरतें (long term and emergency situations) पूरी नहीं हो पाएंगी

Over-insure होने से आपकी इंस्योरेन्स कॉस्ट बढ़ेगी

राइडर कवर समझदारी से चुनें

क्या न करें

Proposal form में कोई भी पर्सनल डिटेल्स न छुपाएं जैसे कि pre-existing illness

अपनी lifestyle की सही जानकारी दें जैसे की सिगरेट अथवा अल्कोहल का कंसम्पशन

प्रिनिस्पल of Utmost Faith का पालन करें

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन