विज्ञापन
Home » Economy » PolicyBahujan Samaj Party have 670 crore rupee in different bank accounts

670 करोड़ की नकदी के साथ मायावती की बसपा सबसे अमीर, जानिए कहां टिकती है भाजपा

चुनाव आयोग के पास जमा किए गए आंकड़ों से चौंकाने वाला खुलासा

1 of

नई दिल्ली। लोकसभा चुनावों में जीत के लिए देश के सभी राजनीतिक दल पूरा जोर लगा रहे हैं। इसके लिए पार्टियों और उम्मीदवारों की ओर से पानी की तरह पैसा बहाया जा रहा है। इस बीच पार्टियों के पास जमा धन को लेकर चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। 

ये हुआ खुलासा
राजनीतिक पार्टियों की ओर से चुनाव आयोग को पेश किए गए आंकड़ों के अनुसार, मायावती की बहुजन समाज पार्टी (BSP) देश की सबसे अमीर पार्टी है। आंकड़ों के अनुसार, BSP के अलग-अलग बैंक खातों में 670 करोड़ रुपए जमा हैं। इस मामले में केंद्र और कई राज्यों में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) मायावती की BSP के सामने कहीं नहीं टिकती है। आंकड़ों के अनुसार, BJP के बैंक खातों में मात्र 82 करोड़ रुपए जमा हैं। यानी मायावती की BSP के पास भाजपा से करीब आठ गुना ज्यादा नकद राशि बैंकों में जमा है। बैंकों में जमा राशि के मामले में भाजपा पांचवें नंबर पर है।

जानिए लिस्ट में कौन किस नंबर पर


बैंक में जमा धनराशि के मामले में मायावती की BSP के बाद अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी (SP) का नंबर आता है। समाजवादी पार्टी के बैंक खातों में 471 करोड़ रुपए जमा हैं। इसके बाद सबसे अमीर दल की लिस्ट में कांग्रेस का नंबर आता है। तीसरे नंबर वाली कांग्रेस के बैंक खातों में 196 करोड़ रुपए जमा हैं। कांग्रेस के बाद चौथे नंबर पर आंध्र प्रदेश की  तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) का नंबर आता है। टीडीपी के बैंक खातों में 107 करोड़ रुपए जमा हैं। इसके बाद 82 करोड़ की जमा राशि के साथ भाजपा पांचवें नंबर पर आती है।

भाजपा ने एक साल में खर्च किए 758 करोड़


चुनाव आयोग को दी जानकारी के अनुसार, भारतीय जनता पार्टी ने 2017-18 में करीब 758 करोड़ रुपए खर्च किए थे। जानकारों के अनुसार किसी भी राजनीतिक दल की ओर से एक साल में खर्च की गई यह सबसे ज्यादा धनराशि हैं। आंकड़ों के अनुसार, बीते साल मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, तेलंगाना हुए विधानसभा चुनावों में सपा ने जहां 11 करोड़ रुपए खर्च किए। वहीं मायावती की बसपा के खातों में 24 करोड़ रुपए जमा हुए हैं। इसके अलावा बसपा के पास 95.54 करोड़ रुपए की नकदी मौजूद हैं। कांग्रेस ने इन राज्यों में चुनावों के बाद मिले रुपयों का विवरण नहीं दिया है। इन राजनीतिक दलों ने फरवरी में चुनाव आयोग को यह जानकारी दी है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन