बिज़नेस न्यूज़ » Insurance » Health Insurance5 लाख रु. तक के फ्री इलाज के लिए मोदी सरकार की लिस्ट तैयार, UP-बिहार-बंगाल-MP के लोगों को सबसे ज्यादा फायदा

5 लाख रु. तक के फ्री इलाज के लिए मोदी सरकार की लिस्ट तैयार, UP-बिहार-बंगाल-MP के लोगों को सबसे ज्यादा फायदा

बनेंगे फैमिली कार्ड, हेल्‍थ वर्कर्स घर-घर जाकर करेंगे डिलीवर...

1 of

नई दिल्‍ली. मोदी सरकार ने अपनी महत्‍वाकांक्षी आयुष्‍मान भारत हेल्‍थ इंश्‍योरेंस स्‍कीम का फायदा पाने वालों की लिस्‍ट तैयार कर ली है। इसके तहत सबसे ज्‍यादा फायदा यूपी, पश्चिम बंगाल, मध्‍य प्रदेश और बिहार के लोगों को होने वाला है। इसकी वजह है कि लिस्‍ट में लाभार्थियों की सबसे ज्‍यादा संख्‍या इन्‍हीं राज्‍यों से है। आयुष्‍मान भारत- नेशनल हेल्‍थ प्रोटेक्‍शन मिशन (AB-NHPM) द्वारा प्रस्‍तावित बिड डॉक्‍युमेंट से मिली जानकारी के मुताबिक, इस स्‍कीम के लिए सरकार लगभग 12 करोड़ फैमिली कार्ड प्रिन्‍ट कराएगी, जिनकी लाभार्थियों को हैंड डिलीवरी की जाएगी। 

 

गांवों में आयुष्‍मान पखवाड़ा प्रोग्राम के तहत हेल्‍थ वर्कर्स लोगों के घर जाकर उन्‍हें ये कार्ड सौपेंगे। इन 12 करोड़ कार्ड्स में से सबसे ज्‍यादा लगभग 1.18 करोड़ कार्ड उत्‍तर प्रदेश के लोगों को उपलब्‍ध कराए जांएगे। हालांकि यह आंकड़ा अभी प्रस्‍तावित है और वास्‍‍तविक आंकड़ा बाद में सामने आएगा। 

 

क्‍या है आयुष्‍मान भारत स्‍कीम

बता दें कि आयुष्‍मान भारत स्‍कीम की घोषणा बजट 2019 के दौरान की गई थी। इस स्‍कीम के तहत देश के 10 करोड़ परिवारों को 5 लाख रुपए तक के फ्री हेल्थ इंश्योरेंस की सुविधा दी जाएगी। इसमें लगभग सभी गंभीर बीमारियों का इलाज कवर होगा। कोई भी व्यक्ति (विशेष रूप से महिलाएं, बच्चे और बुजुर्ग) इलाज से वंचित न रह जाए, इसके लिए स्कीम में फैमिली साइज और उम्र पर कोई सीमा नहीं लगाई गई है।

 

इस स्कीम में हॉस्पिटलाइजेशन से पहले और बाद के खर्च को भी शामिल किया गया है। हर बार हॉस्पिटलाइजेशन के लिए ट्रांसपोर्टेशन अलाउंस का भी उल्लेख किया गया है, जिसका भुगतान लाभार्थी को किया जाएगा। इलाज देश के किसी भी सरकारी या प्राइवेट अस्पताल में कैशलेस इलाज कराया जा सकेगा। इस स्‍कीम से लगभग 50 करोड़ लोगों को फायदा पहुंचेगा। 

 

क्‍या होगा कार्ड में

फैमिली कार्ड्स में स्‍कीम का लाभ पाने वालों के नाम मौजूद होंगे, साथ ही इसके साथ एक लेटर भी होगा जिसमें आयुष्‍मान स्‍कीम के सभी फीचर्स की जानकारी मौजूद होगी। फैमिली कार्ड लाभार्थियों की पहचान प्रक्रिया को आसान बनाने का एक जरिया भी होंगे। हालांकि इसके लिए अन्‍य डॉक्‍युमेंट्स की भी जरूरत होगी। बिड डॉक्‍युमेंट के मुताबिक, हालांकि इन्‍फॉर्मेशन लेटर और फैमिली कार्ड की डिलीवरी में दो साल का वक्‍त लग सकता है लेकिन लेटर न होने पर भी किसी भी नामित परिवार को स्‍कीम का फायदा देने से इंकार नहीं किया जाएगा।  

 

आगे पढ़ें- अन्‍य राज्‍यों के कितने परिवार हैं अनुमानित

 

ये भी पढ़ें- 11 करोड़ आयुष्‍मान कार्ड घर-घर पहुंचाएगी सरकार, आपको मिलेगा 5 लाख रु. तक का फ्री इलाज

पश्चिम बंगाल और मध्‍य प्रदेश के कितने परिवार

फैमिली कार्ड पाने वालों की संख्‍या में यूपी के बाद पश्चिम बंगाल और मध्‍य प्रदेश का स्‍थान है। पश्चिम बंगाल से लाभार्थियों की लिस्‍ट में लगभग 1.11 करोड़ परिवार शामिल किए गए हैं, वहीं मध्‍य प्रदेश से यह आंकड़ा 1.10 करोड़ का है। इन दोनों राज्‍यों के बाद बिहार का नंबर आता है, जहां से 1.08 करोड़ लाभार्थियों को शामिल किया गया है। 

 

आगे पढ़ें- इन 10 राज्‍यों से सबसे ज्‍यादा लाभार्थी परिवार 

 

ये भी पढ़ें- मोदी सरकार देश भर में बनाएगी स्वास्थ्य मित्र, आयुष्मान स्कीम से कर सकेंगे कमाई, तय सैलरी के साथ मिलेगा इंसेंटिव

स्‍कीम के लाभार्थी परिवार की संख्‍या के मामले में ये हैं टॉप 10 राज्‍य

उत्‍तर प्रदेश- 11,804,647
पश्चिम बंगाल- 11,189,146
मध्‍य प्रदेश- 1,10,00,000
बिहार- 10,895,176
गुजरात- 8,754,000
महाराष्‍ट्र- 8,363,664
तमिलनाडु- 7,770,928
असम- 6,400,000
उड़ीसा- 6,100,086
राजस्‍थान- 5,971,150

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट