Home » Economy » PolicyAvoid Online Shopping, E-Commerce Site Ships Highest Percentage Of Fake Goods

ऑनलाइन शॉपिंग में रहें सावधान, 20 फीसदी खरीदार खाते हैं धोखा

इन साइट्स पर मिलते हैं सबसे अधिक नकली उत्पाद

1 of

नई दिल्ली। अगर आप ऑनलाइन शॉपिंग के शौकीन हैं, तो खरीदारी करने से पहले आपको सावधानी बरतनी चाहिए नहीं तो आप आॅनलाइन शाॅपिंग करने में ठगी के शिकार हो सकते हैं। दरअसल, इन दिनों तेजी से बढ़ रही ई-काॅमर्स साइट्स पर नकली उत्पादों की बिक्री बढ़ी है। एक सर्वेक्षण से पता चला है कि ई-कॉमर्स कंपनियों से ग्राहकों को एक तिहाई नकली उत्पाद मिल रहे हैं। ई-कॉमर्स प्लेटफार्मों पर बेचे जाने वाले हर पांच उत्पादों में से एक उत्पाद नकली बताया जा रहा है। यह सर्वेक्षण लोकल सर्किल के सिटीजन एंग्जेगमेंट प्लेटफार्म द्वारा 30,000 खरीदारों के बीच किया गया था। इस सर्वेक्षणों के अनुसार, परफ्यूम से लेकर ब्रांडेड जूते और फैशन परिधान तक के नकली सामान बेचे जा रहे हैं। 

एक अंग्रेजी अखबार के साथ मिल कर किए गए इस सर्वे में आॅनलाइन खरीदारी करने वालों से पूछा गया था कि पिछले छह महीनों में आॅनलाइन शाॅपिंग के दौरान क्या उनका सामना नकली प्रोडक्ट्स से हुआ है ।इस पर 20% लोगों ने सकारात्मक जवाब दिए।

आगे पढ़ें : इन साइट्स पर मिलते हैं सबसे अधिक नकली उत्पाद

 

लोकल सर्किल्स की ओर से किए गए इस सर्वेक्षण के मुताबिक,  ऑनलाइन खरीदारी करने वाले 37 फीसदी खरीदारों ने कहा कि उन्हें स्नैपडील से फर्जी उत्पाद प्राप्त हुए हैं। 20 प्रतिशत ने अमेजॉन का हवाला दिया और 22 फीसदी ने फ्लिपकार्ट का हवाला दिया। इस सर्वेक्षण से यह भी पता चला है कि पिछले छह महीनों में ऑनलाइन खरीदारी करते समय कौन सा प्रोडक्ट्स सबसे अधिक नकली निकला है। इसपर 35% लोगों के  फ्रेगनेंस, कॉस्मेटिक को लेकर 22% ने लोगों ने और स्पोर्ट्स संबंधी आइटम पर 8% फर्जी सामान निकला है। 

 

आगे पढ़ें : ऐसे पता करें सामना असली है या नकली

ऐसे पता करें सामना असली है या नकली

अगर आप आॅनलाइन शाॅपिंग करते हैं ताे आप किसी भी सामान को खरीदने से पहले इन बातों का रखें खास ध्यान :

1. ब्रांड की आधिकारिक वेबसाइट पर बिक रहे उत्पाद से तुलना कर सकते हैं। सामान असली और नकली में फर्क करने का एक तरीका यह है कि ब्रांड की आधिकारिक वेबसाइट पर उत्पाद के बारे में जानकारी हासिल की जाए। अगर आप ऑनलाइन मोबाइल फोन खरीद रहे हैं, तो बॉक्स के ऊपर छपे आईएमईआई नंबर को भी देखें और उत्पाद को खरीदने से पहले इसे ब्रांड की आधिकारिक वेबसाइट से मिलाएं। टेक्नोपाक के अध्यक्ष और एमडी अरविंद सिंघल के मुताबिक, नकली उत्पादों की समस्या सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दुनिया भर में है।

2. उत्पाद असली या नकली है, इसकी गारंटी दी जा रही है? अमेजॉन पर आपको कुछ उत्पादों के खिलाफ 'अमेजॉन फुलफील्ड' टैग मिलेगा। इस उत्पाद को थर्ड पार्टी विक्रेताओं की तरफ से पेश किया जाता है। लेकिन इस आइटम को आपको अमेजॉन पूर्ति केंद्र (फुलफिलमेंट सेंटर) से भेजा जाता है। इस मामले में, इन उत्पादों की बिक्री का काम अमेजॉन द्वारा किया जाता है। इसी तरह, फ्लिपकार्ट पर, आपको कुछ उत्पादों के खिलाफ 'फ्लिपकार्ट आश्वासित' टैग मिलेगा।

3. रिटर्न पॉलिसी यह एक और प्वाइंट है, जिस पर आपको ध्यान देने की जरूरत है। स्पष्ट रिटर्न पॉलिसी उपभोक्ता के आत्मविश्वास को बढ़ाती है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट