Home » Economy » PolicyAmazon, Walmart and Alibaba are assembling the physical capabilities and data-driven interaction services to provide product discovery, transaction, and fulfillment for everything a consumer needs.

अमेरिका की वॉलमार्ट, अमेजन तो चीन की अलीबाबा पहुंचाएंगी आपके घर पर ब्रेड-बटर और सब्जी

विदेशी कंपनियां भारतीय रिटेल कंपनियों के साथ कर रही नया गठजोड़, बन सकती हैं देसी खुदरा कारोबारियों के लिए मुसीबत.....

Amazon, Walmart and Alibaba are assembling the physical capabilities and data-driven interaction services to provide product discovery, transaction, and fulfillment for everything a consumer needs.

नई दिल्ली। दुनिया की तीन सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियां वॉलमार्ट, अमेजन व अलीबाबा आपकी खुदरा खरीदारी का ख्याल रखेंगी। सुबह में आपको ब्रेड-बटर लेना हो या दोपहर के लिए सब्जी, ये कंपनियां आपके दरवाजे पर इसकी डिलिवरी करेंगी। वो भी ऑफलाइन दुकानदारों से कम कीमत पर। वालमार्ट ने ई-कॉमर्स के जरिए भारत के खुदरा कारोबार में पैर पसारने के लिए फ्लिटकार्ट के साथ डील की है। अमेजन आदित्य बिड़ला रिटेल के साथ कारोबारी समझौता करने जा रही है। अलीबाबा की रिलायंस रिटेल से बात चल रही है। अमेजन ने तो पहले से ही घऱों में ब्रेड-बिस्कुट, चावल-दाल, तेल आटा की डिलिवरी शुरू कर दी है।

अमेजन पहले से ही बेच रहा है आटा व तेल

अमेजन भारत में पहले से ही आटा-तेल बेचने का काम कर रही है। अगर आप अमेजन की साइट पर जाएंगे तो हर खुदरा आइटम पर आपको खुदरा बाजार के मुकाबले 20-40 फीसदी तक की छूट दिखाई देगी। यहां तक कि ब्रांडेड खुदरा आइटम पर भी। अगर आप खुदरा बाजार से आशीर्वाद आटे का 10 किलोग्राम का पैकेट लेते हैं तो उसकी कीमत 330 होगी। अमेजन आपको 295 रुपए में आपको यह पैकेट देगी।  

 

 

देश के 6 करोड़ छोटे कारोबारियों को मिलेगी कड़ी चुनौती

कनफेडरेशन ऑफ इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के मुताबिक ई-कॉमर्स के माध्यम से इन विदेशी कंपनियों के रिटेल कारोबार में पूरी तरह से आने पर खुदरा कारोबारियों को कड़ी चुनौती मिलेगी। कैट के महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने बताया कि विदेशी कंपनियों की नीति है कि वे पहले सस्ती दरों पर सामान बेचते हैं, ताकि खुदरा दुकानदार उनके सामने टिक नहीं पाए। उन्होंने बताया कि वालमार्ट, अमेजन व अलीबाबा जैसी कंपनियों के खुदरा कारोबार में आने से 6 करोड़ से अधिक खुदरा व्यापारी प्रभावित होंगे।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट