विज्ञापन
Home » Economy » PolicyThese events will have effect on your pocket in 2019

2019 में ये 9 चीजें डालेंगी आपकी जेब पर असर, जानिए क्या हैं ये

अर्थव्यवस्था में बड़ा बदलाव लाने का मद्दा रखती हैं ये बातें

1 of

नई दिल्ली.

आज से नया साल शुरू हो रहा है। बीते साल सरकार ने कई योजनाओं काे अमलीजामा पहनाया और कई योजनाओं की नींव रखी। कुछ बड़ी घटनाओं ने देश की अर्थव्यवस्था को झटका पहुंचाया तो विकास के कुछ मापदंडों पर सरकार ने लंबी छलांग मारी। अब बारी है नए साल की तरफ देखने की। इस साल ऐसी कई बड़ी घटनाएं होने वाली हैं जो अपनी छाप देश की अर्थव्यवस्था और आम लोगों पर भी छोड़ेंगी। एक नजर डालते हैं ऐसी ही संभावित चीजों पर जो 2019 को परिभाषित करने का माद्दा रखती हैं।

 

1. लोकसभा चुनाव और नई सरकार का गठन

यह 2019 की सबसे बड़ी और सबसे ज्यादा प्रभावशाली घटना होने वाली है। मई में प्रस्तावित लोकसभा चुनावों में फिर से मोदी सरकार चुनकर आएगी या राहुल गांधी कांग्रेस का परचम बुलंद करेंगेयही चुनाव तक का सबसे बड़ा सवाल रहेगा।

 

2. बढ़ेगी अर्थव्यवस्था की रफ्तार

उम्मीद है कि नई सरकार बनते ही देश की आर्थिक विकास की रफ्तार तेज हो जाएगी। ग्रोथ रेट बढ़कर फीसदी हो जाएगा।

 

3. ऑनलाइन शॉपिंग

सरकार ऑनलाइन रिटेलर्स पर शिकंजा कस रही है। हाल ही में वाणिज्य मंत्रालय ने ई-कॉमर्स साइट्स द्वारा दिए जाने वाले डिस्काउंट्स को सीमित रखने का आदेश दिया है। ऐसे में इस साल उम्मीद है कि ऑनलाइन शॉपिंग तो बढ़ेगी लेकिन बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियां नए नियमों से नियंत्रित रहेंगी।

 

 

4. बढ़ेगा हवाई सफर

एयरलाइंस अपने दामों में कटौती कर रही हैं और देश में नए एयरपोर्ट्स खुल रहे हैंऐसे में उम्मीद लगाई जा सकती है कि इस साल ज्यादा भारतीय हवाई सफर करेंगे।

 

5. लौट आएगा आधार

इस साल उम्मीद है कि आधार का इस्तेमाल फिर शुरू होगा। कानून में प्रस्तावित कुछ बदलावों के बाद बैंक और टेलीकॉम कंपनियां आधार का इस्तेमाल कर सकेंगी।

 

6. सेंसक्स की उछाल

सेंसक्स के 40,000 के आंकड़े को पार कर जाने की उम्मीद है। चुनाव के बाद Foreign Institutional Investors लौटने की उम्मीद है और SIP के बढ़ने का चांस है।

 

 

7. RBI का हो सकता है पुनर्गठन

2018 में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया और केंद्र सरकार के बीच खींचतान और आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल के इस्तीफे के बाद उम्मीद है कि इस साल आरबीआई नए सिरे से खुद को खड़ा करेगा। सरकार को आरबीआई के रिजर्व में बड़ा हिस्सा मिल सकता है और रिजर्व बैंक का पब्लिक सेक्टर के बैंकों पर अधिक प्रभाव हो सकेगा।

 

8. ऑनलाइन स्ट्रीमिंग प्लेटफाॅर्म देखे जाएंगे ज्यादा

2018 की तुलना में इस साल अधिक लाेग केबल और डीटीएच को छोड़कर अमेजन प्राइम वीडियोनेटफ्लिक्सहॉटस्टार और जियोसिनेमा जैसे ऑनलाइन स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म का रुख करेंगे। यहां कंटेंट की क्वालिटी और क्वांटिटी दोनों ज्यादा होंगी। इससे शोज देखने का लोगों का एक्सपीरियंस बेहतर होगा।

 

9. 'कैशलेसको मिलेगा बढ़ावा

उम्मीद है कि इस साल लेनदेन में कैश की बजाय कैशलेस को बढ़ावा मिलेगा। लोग ट्रांसपेरेंसी बनाए रखने के लिए कार्ड के जरिए या ऑनलाइन पेमेंट को प्राथमिकता देंगे। 

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन