Home » Economy » Policy43rd edition of Mann ki baat by PM narendra modi

मन की बात: भारतीय खिलाडियों की तारीफ, युवाओं से अपील- समर इंटर्नशिप का बनें हिस्‍सा

रविवार को पीएम नरेन्‍द्र मोदी ने 43वीं बार मन की बात कार्यक्रम किया।

1 of

नई दिल्‍ली. रविवार को पीएम नरेन्‍द्र मोदी ने 43वीं बार मन की बात कार्यक्रम किया। इस बार उन्‍होंने कार्यक्रम की शुरुआत कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में भारतीय खिलाडियों के उम्‍दा प्रदर्शन की तारीफ से की। पीएम मोदी ने कहा कि कॉमनवेल्‍थ में भारत के प्रदर्शन पर गर्व है। खिलाडियों ने भारत को सम्‍मान दिलाया और रिकॉर्ड प्रदर्शन किया। कॉमनवेल्‍थ में महिला खिलाडियों ने भी कमाल किया है। भारतीय खिलाड़ी देशवासियों की उम्‍मीदों पर खरे उतरे। खिलाड़ी एक-के-बाद एक मेडल जीतते चले गए फिर वह चाहे शूटिंग हो, रेस्लिंग हो, वेटलिफ्टिंग हो, टेबल टेनिस हो या बैटमिंटन। उन्‍होंने आगे कहा कि कॉमनवेल्‍थ में हर भारतीय की सफलता पर गर्व है। छोटे शहरों से आए खिलाडियों ने मुकाम हासिल किया। 

 

अक्षय कुमार की तारीफ की

मन की बात में पीएम ने बॉलीवुड एक्‍टर अक्षय कुमार का भी जिक्र किया। उन्‍होंने कहा कि फिटनेस इंडिया अभियान से जुड़ने के लिए अक्षय का धन्‍यवाद। उन्‍होंने फिटनेस को काफी बढ़ावा दिया है। इसके लिए उन्‍होंने फिटनेस से जुड़ा वीडियो शेयर किया। अक्षय ने युवाओं को सेहतमंद रहने के लिए प्रेरणा दी। पीएम ने यह भी कहा कि हर भारतीय को फिटनेस इंडिया से जुड़ना चाहिए। जिंदगी में खुश रहना ही फिटेनस है और इसमें योग की भी अहम भूमिका है। योग से संपूर्ण शारीरिक विकास होता है। इसका प्रचार बड़े पैमाने पर हो रहा है और इसमें एनिमेशन भी योगदान दे रहा है। 

 

स्‍वच्‍छ भारत समर इंटर्नशिप 

मन की बात में पीएम मोदी ने स्‍वच्‍छ भारत समर इंटर्नशिप का भी जिक्र किया।  इसे 3 मंत्रालयों ने मिलकर लॉन्‍च किया है। पीएम ने कहा कि बच्‍चों को छुट्टियों में बच्‍चे कुछ न कुछ नया सीखना चाहिए। देश में स्‍वच्‍छता के आंदोलन को बढ़ाना होगा। इसीलिए हमने यह समर इंटर्नशिप शुरू की है। उम्‍मीद है कि युवा इस इंटर्नशिप से जुड़ेंगे और स्‍वच्‍छता के आंदोलन को आगे ले जाएंगे। 


जल संरक्षण का भी उठाया मुद्दा

पीएम मोदी ने कहा कि जल संरक्षण हमारी जरूरत है। पानी की एक-एक बूंद अहम है। पानी बचाना सामाजिक जिम्‍मेदारी होनी चाहिए। हमारे पूर्वज भी पानी का संरक्षण करते थे। इसका सबूत बावडियां हैं। इसलिए आप भी बारिश के पानी का संग्रह करें। 

 

रमजान और बुद्ध पूर्णिमा की दी बधाई

पीएम मोदी ने नागरिकों को रमजान और बुद्ध पूर्णिमा की बधाई भी दी। उन्‍होंने कहा कि रमजान का पवित्र महीना शुरू होने वाला है। इसकी शुभकामना। पैगंबर मोहम्‍मद साहब की शिक्षा से सीख मिलती है। उनका विश्‍वास ज्ञान और करुणा में था। रमजान उनकी शिक्षा और संदेश को याद करने का अवसर है। पैगम्बर मोहम्मद साहब का मानना था कि यदि आपके पास कोई भी चीज़ आपकी आवश्यकता से अधिक है तो आप उसे किसी ज़रूरतमंद व्यक्ति को दें, इसीलिए रमज़ान में दान का भी काफी महत्व है। मुझे आशा है यह अवसर लोगों को शांति और सदभावना के उनके संदेशों पर चलने की प्रेरणा देगा।

 

महात्‍मा बुद्ध को पीएम ने शांति, करुणा, भाईचारे का प्रतीक बताया। उन्‍होंने कहा कि बुद्ध पूर्णिमा हर भारतीय के लिए विशेष दिन है। हमें गर्व होना चाहिए कि भारत करुणा, सेवा और त्याग की शक्ति दिखाने वाले महामानव भगवान बुद्ध की धरती है, जिन्होंने विश्वभर में लाखों लोगों का मार्गदर्शन किया। हम बुद्धिस्‍ट टूरिज्‍म के लिए इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर विकसित कर रहे हैं, जो दक्षिण-पूर्वी एशिया के महत्वपूर्ण स्थानों को, भारत के खास बौद्ध स्थलों के साथ जोड़ता है। भारत सरकार कई बौद्ध मंदिरों के पुनरुद्धार कार्यों में भागीदार है। इसमें म्यांमार में बागान में सदियों पुराना वैभवशाली आनंद मंदिर भी सम्मलित है।

 

पोखरण परमाणु परीक्षण के 20 साल  

पीएम मोदी ने laughing Buddha का भी जिक्र किया। उन्‍होंने कहा कि कहा जाता है कि laughing Buddha good luck लाते हैं लेकिन smiling Buddha से भारत के रक्षा इतिहास की एक महत्वपूर्ण घटना से भी जुड़ी हुई है। आज से 20 वर्ष पहले 11 मई, 1998 को बुद्ध पूर्णिमा की शाम को राजस्थान के पोखरण में परमाणु परीक्षण किया गया था। ये परीक्षण भगवान बुद्ध के आशीर्वाद से सफल रहा। 

 

'जय विज्ञान' को आत्‍मसात कर आधुनिक भारत के निर्माण में दें योगदान 

पीएम मोदी ने कहा कि उस वक्‍त तत्‍कालीन PM अटल बिहारी वाजपेयी ने मंत्र दिया था - “जय-जवान जय-किसान, जय-विज्ञान”। आज जब हम उसका 20वाँ वर्ष मनाने जा रहे हैं, तब भारत की शक्ति के लिए ‘जय-विज्ञान’ का मंत्र आत्मसात करते हुए आधुनिक भारत बनाने के लिए, शक्तिशाली भारत बनाने के लिए, समर्थ भारत बनाने के लिए हर युवा योगदान देने का संकल्प करे। अपने सामर्थ्य को भारत के सामर्थ्य का हिस्सा बनाएँ। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट