विज्ञापन
Home » Economy » PolicyAccording to the report of the brokerage firm Nomura Research Institute, jobs will increase from the manufacturing sector

आयात की बजाय मेक इन इंडिया हो तो छोटे उद्योगों में पांच साल में एक करोड़ नौकरियां संभव

ब्रोकरेज फर्म नोमुरा रिसर्च इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट में बताया मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर से नौकरियां बढ़ेंगी

According to the report of the brokerage firm Nomura Research Institute, jobs will increase from the manufacturing sector

बढ़ती बेरोजगारी के बीच एक अच्छी खबर है। देश में अगले पांच साल में एक करोड़ नई नौकरियां पैदा हो सकती हैं, बशर्ते कि देश में कुछ वस्तुओं का आयात कम उनका उत्पादन किया जाए। ब्रोकरेज फर्म नोमुरा रिसर्च इंस्टीट्यूट (एनआरआई कंसल्टिंग एंड सॉल्यूशंस) ने यह अनुमान अपनी एक रिपोर्ट में जताया है।

नई दिल्ली. बढ़ती बेरोजगारी के बीच एक अच्छी खबर है। देश में अगले पांच साल में एक करोड़ नई नौकरियां पैदा हो सकती हैं, बशर्ते कि देश में कुछ वस्तुओं का आयात कम उनका उत्पादन किया जाए। ब्रोकरेज फर्म नोमुरा रिसर्च इंस्टीट्यूट (एनआरआई कंसल्टिंग एंड सॉल्यूशंस) ने यह अनुमान अपनी एक रिपोर्ट में जताया है।

 

कृषि क्षेत्र से आने वाले लोगों को देना होगा रोजगार

रिपोर्ट के मुताबिक एमएसएमई सेक्टर में 4-5 साल में 75 लाख से एक करोड़ नौकरियां पैदा करने की ताकत है। इसमें कहा गया है कि आने वाले समय में देश के मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर को दोहरी जिम्मेदारी निभानी होगी। रिपोर्ट सुझाव देती है कि कृषि क्षेत्र से आने वाले लोगों को रोजगार देना होगा और कामगारों की बढ़ती आबादी को भी नौकरी के अवसर देने होंगे। 

 

यह भी पढ़ें - ट्विटर के सीईओ ने चार साल में सिर्फ 96 रुपए की सैलरी ली

 

अकेले मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में 70 फीसदी नौकरियां 


एमएसएमई मंत्रालय की 2017-18 की सालाना रिपोर्ट के मुताबिक यह क्षेत्र मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर के विभिन्न क्लस्टर में करीब 3.6 करोड़ (70%) नौकरियों का योगदान करता है। इन क्लस्टर में आर्टिफिशियल ज्वैलरी, स्पोर्ट्स गुड्स, साइंटिफिक इंस्ट्रूमेंट्स, टैक्सटाइल मशीनरी, बिजली के पंखे, रबड़, प्लास्टिक, चमड़े और इससे बने उत्पाद आदि शामिल हैं। यदि इन क्षेत्रों में एमएसएमई के विकास पर पूरी तरह ध्यान दिया जाए तो और नौकरियां पैदा हो सकती हैं। 

 

यह भी पढ़ें - फ्लाइट्स के किराए में 100 फीसदी तक वृद्धि, सरकार घबराई , बुलाई बैठक

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन