बिज़नेस न्यूज़ » Economy » PolicyGDP डाटा की 6 अहम बातें, मैन्‍यूफैकचरिंग ने बदला सेंटीमेंट

GDP डाटा की 6 अहम बातें, मैन्‍यूफैकचरिंग ने बदला सेंटीमेंट

दूसरी तिमाही के जीडीपी आंकड़ों ने देश की इकोनॉमी में नेगेटिव ट्रेंड पर रोक लगाई है। खास कर मैन्‍यूफैक्‍चरिंग सेक्‍टर के

manufacturing sector changed the sentiment


नई दिल्‍ली। दूसरी तिमाही के जीडीपी आंकड़ों ने देश की इकोनॉमी में नेगेटिव ट्रेंड पर रोक लगाई है। खास कर मैन्‍यूफैक्‍चरिंग सेक्‍टर के जोरदार प्रदर्शन ने देश में सेंटीमेंट को बदल दिया है। मोदी सरकार इन आंकड़ों के हवाले से देश को यह भरोसा दे सकती है कि गिरावट का दौर अब बीत चुका है और इकोनॉमी अब ग्रोथ की राह पर है। जीडीपी के डाटा देश की इकोनॉमी के लिहाज से 6 अहम संकेत देते हैं। जो आने वाले समय में जीडीपी के लिहाज से निर्णायक साबित हो सकते हैं। 


5 तिमाही के नेगेटिव ट्रेंड पर लगा ब्रेक 

 

वित्‍त वर्ष 2017 18 के जीडीपी ग्रोथ के आंकड़ों से 5 तिमाही के नेगेटिव ट्रेंड पर ब्रेक लगा है। पिछली 5 तिमाही में लगातार जीडीपी ग्रोथ में गिरावट आई थी। अप्रैल-जून तिमाही में जीडीपी ग्रोथ की रफ्तार घट कर 5.7 फीसदी पर आ गई थी। नोटबंदी और जीएसटी ने भी अर्थच्‍यवस्‍था की रफ्तार को सुस्‍त किया। 


मैन्‍यूफैक्‍चरिंग सेक्‍टर ने जीडीपी को दी रफ्तार 

 

दूसरी तिमाही के दौरान मैन्‍यूफैकचरिंग सेक्‍टर ने जीडीपी को रफ्तार दी है। इस अवधि में मैन्‍यूफैक्‍चरिंग सेक्‍टर की ग्रोथ 1.2 फीसदी से बढ़ कर 7 फीसदी पर पहुंच गई है। मैन्‍यूफैक्‍चरिंग सेक्‍टर में उछाल आने के पीछे नोटबंदी का असर खत्‍म होने और ग्रामीण इलाकों के साथ शहरी इलाकों में मांग बढ़ने को एक बड़े फैक्‍टर के तौर पर देखा जा रहा है। 

 

सरकार का दावा जीएसटी और नोटबंदी का असर खत्‍म 

 

फाइनेंस मिनिस्टिर अरुण जेटली ने जीडीपी ग्रोथ के डाटा पर टिप्‍पणी करते हुए कहा है कि इकोनॉमी पर जीएसटी और नोटबंदी का असर पूरी तरह से खत्‍म हो गया है। आने वाले समय में जीडीपी ग्रोथ बढ़ कर 7 से 8 फीसदी तक जाने की उम्‍मीद है।  

 

कृषि क्षेत्र में गिरावट 

 

दूसरी तिमाही का जीडीपी डाटा कृषि क्षेत्र में सुधार की जरूरत पर जोर दे रहा है। दूसरी तिमाही में कृषि क्षेत्र की ग्रोथ 2.3 से घट कर 1.7 फीसदी रह गई है। 

 

रियल एस्‍टेट सेक्‍टर में बरकरार है सुस्‍ती 

 

दूसरी तिमाही में रियल एस्‍टेट सेक्‍टर की सुस्‍ती बरकरार है और रियल एस्‍टेट सेक्‍टर रिकवरी के कोई संकेत नहीं दे रहा है। दूसरी तिमाही में रियल एस्‍टेट सेक्‍टर की ग्रोथ 6.4 फीसदी से घट कर 5.7 फीसदी रह गई है। 


मोदी रेजीम में बेस्‍ट आंकड़ों से पीछे है जीडीपी 

 

जीडीपी का ताजा डाटा मोदी सरकार के लिए राहत भरा जरूर है लेकिन यह मोदी सरकार में जीडीपी ग्रोथ का सबसे बेस्‍ट डाटा नहीं है।  2015-16 की चौथी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 7.9 फीसदी थी जो मोदी सरकार में जीडीपी ग्रोथ का सबसे बेस्‍ट डाटा है। ऐसे में मोदी सरकार के लिए जीडीपी ग्रोथ के मोर्चे पर अभी चुनौतियां बरकरार हैं। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट