Home »Economy »International» Trump Signs Executive Order For Overhaul Of H-1B Visa System

ट्रम्‍प ने H-1B वीजा के एग्‍जीक्‍यूटिव ऑर्डर किए साइन, लपेट में आएंगी भारतीय IT कंपनियां

ट्रम्‍प ने H-1B वीजा के एग्‍जीक्‍यूटिव ऑर्डर किए साइन, लपेट में आएंगी भारतीय IT कंपनियां
 
वाशिंगटन।अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रम्‍प ने H-1B वीजा से जुड़े एग्‍जीक्‍यूटिव ऑर्डर पर दस्‍तखत कर दिए हैं। भारतीय IT कंपनियों और पेशेवरों के बीच H-1B  सबसे ज्‍यादा पॉपुलर है। माना जा रहा है कि ट्रम्‍प की सिग्‍नेचर के बाद अमेरिका में H-1B  वीजा से जुड़े नियम सख्‍त हो सकते हैं। ट्रम्‍प ने ‘बाई अमेरिकन एंड हायर अमेरिकन’ मुहिम के तहत यह कदम उठाया है।
   
ट्रम्‍प ने इस एग्‍जीक्‍यूटिव ऑर्डर पर मंगलवार को दस्‍तखत किए। एग्‍जीक्‍यूटिव ऑर्डर पर साइन करने से पहले अमेरिका के विस्‍कोंसिन में लोगों को संबोधित करते हुए ट्रम्‍प ने कहा कि हमारे इमिग्रेशन सिस्‍टम में एक बड़ी खोट है। इसके तहत थोड़े से कम पैसों के लिए हमारी कंपनियां अमेरिकी कामगारों की जगह विदेशी कामगारों की भर्ती कर ले रही हैं। इस खोट को अब बंद किया जाएगा। 
 
ट्रम्‍प ने कहा कि मौजूदा समय में लॉट्री सिस्‍टम के तहत सिलेक्‍टेड लोगों को H-1B वीजा दिया जाता है, जो पूरी तरह से गलत है। ट्रम्‍प के मुताबित, इसकी जगह टॉप स्किल्‍ड और हाइयस्‍ट पेड अप्‍लीकेंट्स को यह वीजा दिया जाना चाहिए। साथ ही इस बात का भी ध्‍यान रखा जाए कि ये लोग कभी किसी अमेरिकी की जगह काम पर नहीं रखे जाएं। ट्रम्‍प के मुताबिक, अगर बराबरी का बर्ताव हो तो अमेरिकी कामगारों के सामने कोई भी नहीं टिक सकता है।
 
ट्रम्‍प के मुताबिक, उनका प्रशासन हायर अमेरिकन्‍स रूल को लागू करने जा रहा है। अमेरिकी लोगों की नौकरी और वेतन को प्रोटेक्‍ट करने के लिए यह रूल बनाया गया है। ट्रम्‍प के मुताबिक, अमेरिका में सबसे पहले कोई जॉब किसी अमेरिकी नागरिक हो ऑफर होनी चाहिए और उसके बाद किसी का नंबर आना चाहिए। 

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY