बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalतेजी से बदल रहा है भारत, फायदा उठाने के लिए निवेश बढ़ाएं आसियान देश: मोदी

तेजी से बदल रहा है भारत, फायदा उठाने के लिए निवेश बढ़ाएं आसियान देश: मोदी

31वं आसि‍यान सम्‍मेलन में भाग लेने फिलीपींस पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी ने आज में चावल अनुसंधान केंद्र का दौरा किया।

1 of

 

मनीला. भारत में हो रहे आर्थिक सुधार की जानकारी देते हुए पीएम नरेन्‍द्र मोदी ने आसियान देशों से इसका फायदा उठाने के लिए निवेश बढ़ाने का आग्रह किया। उन्‍होंने कहा कि भारत में तेजी से बदलाव आ रहा है, जिसका मित्र देशों को फायदा उठाना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि भारत की एक्‍ट ईस्‍ट पॉलिसी का फायदा आशियान देश उठा सकते हैं। इस वक्‍त भारत के ज्‍यादातर सेक्‍टर विदेश निवेश के लिए खुले हुए हैं। इससे पहले यहां मोदी दिन ने अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप से मुलाकात की। यह पीएम मोदी और अमेरि‍की राष्‍ट्रपति‍ डोनल्‍ड ट्रंप की 4 महीने में दूसरी मुलाकात है। इससे पहले दोनों जर्मनी में  जी-20 समि‍ट के दौरान मि‍ले थे।

 

आसियान बिजनेस फोरम को किया संबोधित

पीएम मोदी ने आज यहां आसियान बिजनेस फोरम को संबोधित किया। उन्‍होंने कहा कि भारत की एक्‍ट ईस्‍ट पॉलिसी के तहत 10 देशों को ध्‍यान में रख कर पॉलिसियां बनाई गई हैं। उन्‍होंने कहा कि भारत के ज्‍यादातर सेक्‍टर विदेशी निवेश के लिए खोल दिए गए हैं। मोदी ने कहा कि भारत में बदलाव को लेकर रात दिन काम किया जा रहा है। सरकार का प्रयास ईजी, इफेक्टिव और ट्रांसपेरेंट गर्वनेंस की तरफ बढ़ना है। उन्‍होंने कहा कि भारत ग्‍लोबल मैन्‍युफैक्‍चरिंग हब बनने की तरफ बढ़ रहा है।

 
 
भारत की तारीफ के लि‍ए कहा शुक्रिया
पीएम मोदी ने कहा कि अमेरिका ने जब भी भारत का जिक्र किया है तो बहुत गर्मजोशी से किया है। पीएम मोदी ने भारत की तारीफों के लिए राष्ट्रपति ट्रंप को शुक्रिया भी कहा। इस मुलाकात से ट्रंप यह संदेश देने की कोशिश करेंगे अमेरिका के लिए भारत का महत्व चीन से कम नहीं है। ऐसे में आसियान समिट से इतर पीएम नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के बीच यह मुलाकात बेहद महत्वपूर्ण है। 
 
ट्रंप ने की थी माेदी और भारत की तारीफ 
ट्रंप ने कुछ दिन पहले चीन के दौरे पर पीएम मोदी की जमकर तारीफ करते हुए कहा था कि मोदी ने भारत के लोगों को एक सूत्र में पि‍रोने का काम कि‍या है। वहीं, जि‍स तरह भारत ने अपनी इकॉनमी को खोला है उससे भारत का वि‍कास भी तेज हुआ है। 
 
चीन के खि‍लाफ हाे सकती है मोर्चेबंदी 
माना जा रहा है कि इस बैठक में चीन के खिलाफ मोर्चाबंदी भी हो सकती है। इसके अलावा 31वें आसियान सम्मेलन में चीन के दक्षिण चीन सागर में उसकी गतिविधियों को लेकर घेरा जा सकता है। इस बैठक में उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण और कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव समेत कई मुद्दों पर प्रमुखता से चर्चा होने की भी उम्‍मीद है। 
 
IRRI सेंटर का भी कि‍या दौरा 
31वं आसि‍यान सम्‍मेलन में भाग लेने फिलीपींस पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज में चावल अनुसंधान केंद्र का दौरा किया। विश्व के इस प्रसिद्ध संस्थान में वैज्ञानिकों के सामने उन्‍होंने खाने की कमी और चावल के बीज की बेहतर गुणवत्ता के विकास पर काम करने पर जोर दि‍या। उन्‍होंने आगे कहा कि‍ बड़ी संख्‍या में भारतीय वैज्ञानिक, लोस बानोस के अंतरराष्ट्रीय चावल अनुसंधान संस्थान (आईआरआरआई) में काम कर रहे हैं।  
 
पीएम को दी चावल की उन्‍न्‍त कि‍स्‍म की जानकारी 
आईआरआरआई के कई वैज्ञानिकों ने प्रधानमंत्री को बाढ़ प्रभावि‍त इलाकों में चावल की कई कि‍स्‍मों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि यह कि‍स्‍म 14 से 18 दिनों तक बाढ़ में खड़ी रह सकती है। इतना ही नहीं बाढ़ प्रभावि‍त इलाकों में यह कि‍स्‍म प्रति हेक्टेयर 1-3 टन अधिक चावल पैदा कर सकती हैं। 
 
वाराणसी में खुलेगा IRRI का सेंटर 
भारत सरकार प्रधानमंत्री के निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी में आईआरआरआई का एक सेंटर स्थापित कर रही है। जो कि‍ चावल की उच्च उपज विकसित करने के लिए काम करेगा। वहीं, इससे पहले ही आईआरआरआई के 17 देशों में कार्यालय हैं। बता दें कि‍, आईआरआरआई को चावल की किस्मों के विकास में अपने काम के लिए जाना जाता है। इसने 1960 के दशक में हरित क्रांति में भी योगदान दिया था। इस दौरान प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया कि‍, "वाराणसी केंद्र चावल की उत्पादकता को बढ़ाने, उत्पादन की लागत कम करने, किसानों के कौशल की गुणवत्ता को बढ़ाने और किसानों की आय बढ़ाने के लि‍ए काम करेगा। 
 
IRRI ने ओडीशा में की 2 लाख महि‍ला कि‍सानों की मदद 
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि आईआरआरआई ने भारत में कृषि क्षेत्र में सफलतापूर्वक सहयोग कि‍या है। इस दौरान आईआरआरआई ने बाढ़ और सूखे वाले इलाके में काफी काम कि‍या है, जि‍ससे कि‍सानों को फायदा हुआ है। उन्होंने कहा कि आईआरआरआई और उसके साझेदारों ने ओडिशा में 2,00,000 महिला किसानों की सहायता की है। इसके लि‍ए उन्‍होंने कैपेसि‍टी बि‍ल्‍डि‍ंग प्रोग्राम और कृषि तकनीक के कार्यक्रम भी चलाए थ।  
 
म्‍यूजि‍कल रामायण का मंचन रहा आकर्षण का केंद्र 
बता दें कि‍, प्रधानमंत्री मोदी 31वं आसि‍यान सम्‍मेलन में भाग लेने के लि‍ए तीन दि‍वसीय दौरे पर फि‍लि‍पींस पहुंचे हैं। सम्मेलन के भव्य उद्घाटन समारोह में पीएम मोदी सहित दुनिया के कई देशों के नेता शामिल हुए। इस दौरान आकर्षण का केंद्र संगीतमय रामायण का मंचन रहा। जहां रामायण कथा के मंचन ने भारत समेत कुछ अन्य सदस्य देशों के साथ फिलीपींस के सांस्कृतिक जुड़ाव को बेहद सुंदरता से पेश किया। सम्मेलन में भाग लेने के लि‍ए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनाल्ड ट्रंप, चीन के प्रधानमंत्री ली कचांग, जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे भी शामि‍ल हैं। 
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट