विज्ञापन
Home » Economy » InternationalISIS earns more money by taxing people than selling oil or extortion

आतंक / ISIS की कमाई का सीक्रेट, टैक्स लगाकर कमाता है सालाना 5500 करोड़ रुपए

Sri Lanka attack से फिर सुर्खियों में आया दुनिया का सबसे खूंखार आतंकी संगठन

ISIS earns more money by taxing people than selling oil or extortion
  • यह कमाई ISIS द्वारा तेल बेचकर की जाने वाली कमाई से तकरीबन छह गुना ज्यादा है।

नई दिल्ली.

श्रीलंका में रविवार को हुए आतंकी हमले की जिम्मेदारी आंतकी संगठन इस्लामिक स्टेट (ISIS) ने ले ली है। जून, 2014 से अब तक लगभग 30 देशों में 140 से ज्यादा आतंकी हमलों को अंजाम दिया है। आईएस की कमाई की बात करें तो यह आतंकी संगठन अपने कब्जे के लोगों पर टैक्स लगाकर अपने कारनामों को अंजाम दे रहा है।

 

सालाना 5500 करोड़ रुपए की कमाई

Quartz की एक खबर के मुताबिक आईएस अपने अधिकार क्षेत्र में रहने वाले लोगों पर टैक्स लगाकर सालाना 80 करोड़ डॉलर (5500 करोड़ रुपए) की इनकम करता है। यह कमाई आईएस द्वारा तेल बेचकर की जाने वाली कमाई से तकरीबन छह गुना ज्यादा है। फिरौती मांगकर जुटाए गए पैसों से यह रकम कई गुना ज्यादा है।

 

इन तरीकों से धन जुटाता है ISIS

2015 में आईसिस के पास सालाना 1 अरब डॉलर (7000 करोड़ रुपए) का बजट और 30 हजार से ज्यादा आतंकी होने का अनुमान लगाया गया था। उसी साल फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) ने आईएस के पांच प्रमुख आय स्रोतों के बारे में रिपोर्ट पेश की थी। यह स्रोत थे-

-किसी जगह को कब्जे में लेकर वहां के संसाधनों को लूटना। इसमें बैंक, तेल व गैस के भंडार की लूट, अलावा लोगों पर टैक्स लगाना, जबरन वसूली करना शामिल है।

-फिरौती के लिए किडनैपिंग करना।

-गैर-लाभकारी संस्थाओं द्वारा डोनेशन दिया जाना।

-विदेशी संगठनों की तरफ से मिलने वाली आर्थिक सहायता।

-आधुनिक कम्युनिकेशन नेटवर्क के जरिए फंडरेसिंग करना।

 

 

2015 में था सबसे अमीर आतंकी संगठन

वाशिंगटन पोस्ट की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कुछ समय पहले तक आईएसआईएस के पास पैसों की कोई कमी नहीं थी। 2015 में यह संगठन, दुनिया का सबसे अमीर आतंकी संगठन था। इसने इराक में सरकार के समानांतर खुद की सरकार खड़ी कर ली थी। जून, 2014 में ही इस आतंकी संगठन के पास दो अरब डॉलर (13 हजार करोड़ रुपए) से ज्यादा की संपत्ति थी। संगठन ने अगस्त 2014 में ही करीब एक दर्जन ऑयल फील्ड्स पर कब्जा कर लिया था। सीरिया में भी संगठन ने काफी बड़े हिस्से की ऑयल फील्ड पर कब्जा किया था। ऑयल स्मगलिंग, ह्यूमन ट्रैफिकिंग, दुकानों में लूट, एक्सटॉरशन, जबरन वसूली आदि इसकी कमाई का मुख्य जरिया थे।

 

तेल बेचकर होती थी तगड़ी कमाई

आईएसआईएस हर दिन तेल बेचकर एक से दो मिलियन डॉलर (13करोड़ रुपए) कमाता था। वाशिंगटन पोस्ट ने कई स्रोत से जानकारी दी थी कि ज्यादातर तेल उत्तर इराक और सीरिया में आईएस के कब्जे वाली रिफायनरीज और कुओं से आता था। आतंकी दक्षिणी तुर्की से भी तेल की तस्करी करते थे। ये लोग ऐसे लोगों को ऊंचे दामों में तेल बेचते हैं, जिन्हें इसकी सख्त जरूरत होती थी। फॉरेन पॉलिसी मैगजीन के मुताबिक, चार साल पहले तक आईएसआईएस सीरिया से हर दिन 44 हजार बैरल और इराक से चार हजार बैरल तेल निकालता था।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन