बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalभारत का इशारा, कोरिया ने दे दिया झटका, Pok में अकेले पड़े पाक-चीन

भारत का इशारा, कोरिया ने दे दिया झटका, Pok में अकेले पड़े पाक-चीन

दक्षिण कोरिया ने साफ किया कि वह भारत की चिंताओं को नजरअंजाद नहीं कर सकता है...

1 of

नई दिल्‍ली। पाकिस्‍तान के खिलाफ भारत को एक अहम कूटनीतिक कामयाबी मिली है। भारत की चिंताओं को स्‍वीकार करते हुए साउथ कोरिया ने विदेश में निवेश करने वाली अपनी कंपनियों को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) में निवेश न करने की चेतावनी दी है। कंपनियों से कहा गया है कि वह अपना कारोबार समेट कर वहां से वापस स्वदेश लौट आएं। साउथ कोरिया के इस कदम को पाकिस्तान भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत माना जा रहा है। अब चीन ही एक ऐसा देश बचा है जो पीओके में पैसा लगा रहा है। 

 

पाक चीन पड़े अकेले 
दरअसल चीन और पाकिस्‍तान के बीच बनने वाला इकोनॉमिक कोरिडोर भारत के विरोध के बाद भी पीओके से होकर गुजर रहा है। भारत के विरोध को देखते हुए ही साऊथ कोरिया ने पीओके की परियोजनाओं से अपने कंपनियों को हटाने का फैसला किया। साउथ कोरिया के हटने के बाद अब पीओके की पाकिस्‍तान की परियोजनाओं में पैसा लगाने वाला चीन अकेला देश बचा है या ये कहें कि पीओके में पाक-चीन अब अकेले पड़ गए हैं। 

 

हम भारत की चिंता से वाकिफ 

साउथ कोरिया के उप विदेश मंत्री चो ह्यून ने कहा है कि उनका देश भारत की चिंताओं से वाकिफ है। इसी वजह से अपनी कंपनियों को निवेश न करने के निर्देश दिए हैं। अब चीन ही ऐसा मुल्क है जो Pok में निवेश कर रहा है। बता दें कि इस इलाके में वन बेल्ट वन रोड का निर्माण किया जा रहा है। सीईपीसी प्रोजेक्ट के जरिए चीन मध्य एशिया से जुड़ना चाहता है लेकिन भारत लगातार इस कदम के खिलाफ है। दक्षिण कोरिया ने भारत के साथ अपने कूटनीतिक रिश्तों सुधारने की कोशिश शुरू कर दी है। यह वजह है कि वह ऐसा कोई कदम नहीं उठाना चाहता जिससे दोनो देशों के रिश्तों में किसी भी प्रकार का तनाव आए। 

 

भारत में काम कर रहीं कई दक्षिण कोरियाई कंपनियां 
भारत में दक्षिण कोरिया की बहुत सी कंपनियां कारोबार कर रही हैं। इसमें सैमसंग और ह्यूंडई के नाम प्रमुख हैं। 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दक्षिण कोरिया का दौरा भी किया था। दिल्ली को सियोल में कितनी अहमियत दी जा रही है इसे उदाहरण है कि साउथ कोरिया ने भारत को दुनिया में कूटनीतिक लिहाज से पांचवा सबसे अहम साझेदार देश करार दिया है। दक्षिण कोरिया ने कहा कि अभी तक दक्षिण कोरिया के लिए रूस, चीन, अमेरिका और जापान ऐसे देश थे, जो कूटनीतिक लिहाज से सबसे अहम माने जाते थे, लेकिन अब इसमें भारत भी शामिल हो गया है।

 

नॉर्थ कोरिया से नजदीकी भी नाराजगी की वजह  

पाकिस्तान की ओर से नॉर्थ कोरिया को दी जाने वाली मदद से भी दक्षिण कोरिया नाराज है। पाकिस्तान ने नॉर्थ कोरिया को परमाणु हथियार विकसित करने में मदद की है, इससे पूरे इलाके के लिए खतरा पैदा हो गया है। भारत भी लगातार नॉर्थ कोरिया की तरफ से घातक हथियार विकसित करने को लेकर चिंता व्यक्त करता रहा है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट