Home » Economy » InternationalGadkari gets Rs 500 cr promise for Ganga cleaning from UK tycoons

इन 5 अरबपति‍यों ने उठाया गंगा को साफ करने का बीड़ा, दे रहे हैं 500 करोड़

मोदी सरकार का क्‍लीन गंगा मि‍शन अभी तक कोई काबि‍लेगौर बदलाव नहीं कर पाया है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। गंगा की सफाई को लेकर कोई भी प्‍लान असर नहीं दि‍खा पा रहा है। मोदी सरकार का क्‍लीन गंगा मि‍शन अभी तक कोई काबि‍लेगौर बदलाव नहीं कर पाया है। ऐसे में भारत की मि‍ट्टी से जुड़े 5 कारोबारि‍यों ने गंगा को निर्मल बनाने का कुछ काम अपने हाथों में लेने का फैसला लि‍या है। केंद्रीय मंत्री मंत्री नि‍ति‍न गडकरी ने यह जानकारी मीडि‍या को दी। गडकरी ने अपनी तीन दि‍नों की यात्रा के दौरान लंदन में कारोबारि‍यों से गंगा की दशा को लेकर बातचीत की। उन्‍होंने बताया कि‍ यहां भारतीय मूल के कारोबारी गंगा की सफाई के लि‍ए 500 करोड़ रुपए खर्च करने को तैयार हैं। आगे पढ़ें कौन हैं वो 5 बि‍जनेसमैन

 

 

1 एस पी हिंदुजा

हिंदुजा ग्रुप इंपोर्ट-एक्‍सपोर्ट, ट्रेडिंग, ऑटो, बैंकिंग और हेल्‍थकेयर सहि‍त कई तरह के बि‍जनेस में है। इस समूह का हेडक्‍वार्टर लंदन में है। इसके चेयरमैन हैं एस पी हिंदुजा जो भारतीय मूल के ब्रि‍टि‍श अरबपति‍ हैं। इनका जन्‍म 28 नवंबर 1935 को कराची में हुआ था जो तब भारत का हि‍स्‍सा था। फोर्ब्‍स के मुताबि‍क, इनकी नेट वर्थ 19 अरब डॉलर है। 

2 रवि‍ मेहरोत्रा

डॉक्‍टर रवि‍ मेहरोत्रा का जन्‍म कानपुर में हुआ था। पेशे से मरीन इंजीनि‍यर मेहरोत्रा ने 1964 में शि‍पिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडि‍या से अपने करि‍यर की शुरुआत की थी। यहां उन्‍होंने 1975 तक काम कि‍या। अब वह ब्रि‍टेन स्‍थि‍त फोरसाइट ग्रुप के चेयरमैन हैं। यह ग्रुप शि‍पिंग, ऑयल ड्रिलिंग, हॉस्‍पि‍टेलि‍टी, रि‍टेल और फुटवि‍यर के क्षेत्र में है। इस ग्रुप की स्‍थापना उन्‍होंने 1984 में की थी। 

3 अनि‍ल अग्रवाल

अनि‍ल अग्रवाल वेदांता रि‍सोर्सेज के फाउंडर और चेयरमैन हैं। वह वोल्‍केन इनवेस्‍टमेंट्स के माध्‍यम से वेदांता रि‍सोर्सेज को कंट्रोल करते हैं, जि‍सकी बि‍जनेस में 61.1 फीसदी की हि‍स्‍सेदारी है। उनका जन्‍म 24 जनवरी 1954 को पटना में हुआ था। फोर्ब्‍स के मुताबि‍क उनकी नेट वर्थ 3.1 अरब डॉलर है। अनि‍ल लंदन में रहते हैं। यह कंपनी ऑयल, गैस और मि‍नरल्स के बि‍जनेस में है। 

4 श्री प्रकाश लोहि‍या

श्री प्रकाश लोहि‍या इंडोरामा कॉरपोरेशन के फाउंडर और चेयरमैन हैं। यह कंपनी पेट्रोकैमि‍कल्‍स और टेक्‍सटाइल के क्षेत्र में है। लोहि‍या का जन्‍म 11 अगस्‍त 1952 को कोलकाता में हुआ था। हालांकि‍ 1974 के बाद से ज्‍यादातर समय इंडोनेशि‍या में ही रहते हैं। वर्ष 2017 की फोर्ब्‍स लि‍स्‍ट के मुताबि‍क, उनकी नेट वर्थ 6.4 अरब डॉलर है। यह चारों हरि‍द्वार, गंगासागर, पटना और कानपुर में गंगा के घाटों की दशा सुधारने के अलावा अन्‍य ढांचागत वि‍कास करेंगे। आगे पढ़ेंं 

5 शि‍व नादर

शि‍व नादर भारतीय अरबपति‍ और एचसीएल के फाउंडर व चेयरमैन हैं। वह शि‍व नादर फाउंडेशन के फाउंडर भी हैं। उनका जन्‍म 14 जुलाई 1945 को ति‍मलनाडु के ति‍रुचेंदूर में हुआ था। फोर्ब्‍स के मुताबि‍क, उनकी नेट वर्थ 13.2 अरब डॉलर है। नादर शुरू से परोपकारी कामों में दि‍ल खोल कर मदद करते आए हैं। इन्‍हें पद्मभूषण सम्‍मान भी मि‍ला है।  नादर वाराणसी में गंगा की हालत सुधारने के  लि‍ए 200 करोड़ रुपए देने का वादा कि‍या। 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट