विज्ञापन
Home » Economy » InternationalChina considers Jammu and Kashmir and Arunachal as part of India in belt and road initiative summit

कूटनीति / चीन ने जम्मू कश्मीर और अरुणाचल प्रदेश को माना भारत का हिस्सा, मानचित्र में दी जगह 

भारत ने लगातार दूसरी बार चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव समिट का किया बहिष्कार

China considers Jammu and Kashmir and Arunachal as part of India in belt and road initiative summit
  • बीजिंग में बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव तीन दिवसीय बैठक जारी है।
  • जम्मू कश्मीर के साथ ही अरुणाचल प्रदेश को मानचित्र में भारत का हिस्सा दर्शाया गया है।

नई दिल्ली. चीन ने समूचे जम्मू कश्मीर और अरुणाचल प्रदेश को भारत की हिस्सा माना है। दरअसल चीन की राजधानी बीजिंग में बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव समिट की दूसरी बैठक थी, जिसमें डिस्पले किए गए मानचित्र में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर समेत पूरे जम्मू कश्मीर और अरुणाचल प्रदेश को मानचित्र में भारत का हिस्सा दर्शाया गया है। यह मानचित्र चीन के मिनिस्ट्री ऑफ कॉमर्स की तरफ से लगाया गया था। 

 

भारत ने चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव का किया बहिष्कार 

बीजिंग में बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव तीन दिवसीय बैठक जारी है। लेकिन भारत ने पिछली बार की तरह इस बार भी इसमें हिस्सा लेने से इनकार कर दिया है। भारत कहना है कि चीन-पाकिस्तान कॉरिडोर प्रोजेक्ट भारतीय क्षेत्र जम्मू कश्मीर से होकर जाता है, जो भारतीय क्षेत्रीय एकता और अखंडता का उल्लंघन है। इसी मुद्दे को लेकर भारत लगातार चीन और पाकिस्तान के समक्ष अपना विरोध दर्ज करा कराता रहा है। बता दें कि चीन ने पाकिस्तान खासकर पीओके में काफी निवेश किया हुआ है। लेकिन भारत और पीओके के स्थानीय लोगों के विरोध के चलते यह प्रोजेक्ट अटकता दिख रहा है। 

 

चीनी काउंसलेट हमले के बाद बदला रुख 

चीन इससे पहले पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) को पाकिस्तान का हिस्सा बताता रहा है। हालांकि कराची स्थित चीनी काउंसलेट पर हमले के बाद से चीन का रुख बदलता दिख रहा है। इसी के बाद से चीन के स्टेट रन मीडिया (CGTN टेलीविजन) ने पीओके को पाकिस्तान का मानने से इनकार कर दिया था।  

 

चीन ने नष्ट किए हजारों मानचित्र 

बता दें कि चीन जम्मू कश्मीर को भारत और पाकिस्तान के बीच का विवादित क्षेत्र बताया था। वहीं अरुणाचल प्रदेश को चीन के तहत दिखाया था। चीन ने अकशाई चीन को भी भारत के हिस्से में दिखाया है, जिस पर चीन का कब्जा है। चीन की तरफ से यह एक अजीब वाक्या नजर आया है। बता दें कि चीन ने हाल ही में हजारों मानचित्र को मानचित्र को नष्ट किया है, जो अरुणाचल प्रदेश को भारत का हिस्सा दर्शाते रहे हैं। वहीं चीन अरुणाचल प्रदेश का दौरा करने वाले भारत के टॉप लीडर का विरोध करता रहा है। 

यह भी पढ़ें- चीनी दूध को मोदी सरकार की ना, बढ़ाया प्रतिबंध

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन