• Home
  • america suspects huawei is giving the chinese government important information

US-China trade war /अमेरिका को अंदेशा, हुआवे चीन की सरकार के लिए करती है जासूसी, इसलिए काली सूची में डाला

  • ट्रंप ने इसी महीने चीन की वस्तुओं पर आयात शुल्क बढ़ाया है

Money Bhaskar

May 31,2019 12:26:42 PM IST

नई दिल्ली।

अमेरिकी सरकार को अंदेशा है कि हुआवे चीन की सरकार के साथ अहम जानकारी साझा कर रही है, इसलिए वह इस दूरसंचार कंपनी का विरोध कर रही है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने कहा कि हुआवेई चीनी सरकार का ही एक माध्यम है। चीन के साथ व्यापार युद्ध को बढ़ाते हुए अमेरिका के वाणिज्य विभाग ने सुरक्षा चिंताओं के चलते हुआवे को काली सूची में डाल दिया है। साथ ही अमेरिकी कंपनियों को उसके दूरसंचार उपकरण उपयोग करने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

एजेंसी की खबरों के मुताबिक इस हफ्ते की शुरुआत में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन के साथ चल रही व्यापार वार्ताओं में हुआवे के मामले को शामिल किए जाने की संभावना जतायी थी। पोम्पिओ ने फॉक्स बिजनेस न्यूज को दिए एक साक्षात्कार में कहा हुआवे चीनी सरकार का ही माध्यम है और वे बहुत गहरे तक जुड़े हुए हैं। उन्होंने अमेरिका के हुआवे को वैश्विक स्तर पर रोकने से जुड़े प्रयासों पर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि यह कुछ ऐसा है जिसे समझना अमेरिकियों के लिए बहुत कठिन है। उन्होंने कहा कि अमेरिकी कंपनियां सरकार के साथ सहयोग करें और नियमों का पालन करें। लेकिन कोई भी राष्ट्रपति अमेरिका की निजी कंपनियों को निर्देश नहीं दे सकता जबकि चीन में यह बात बहुत अलग है।

अमेरिका को आर्थिक आतंकवाद का समर्थक बताया

वहीं अमेरिका के रवैये पर चीन ने अमेरिका पर जोरदार हमला बोलते हुए उस पर ‘ खुल्लम खुल्ला आर्थिक आतंकवाद’ फैलाने का आरोप लगाया। दुनिया की दो प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के बीच काफी समय से विवाद जारी रहे। व्यापार समझौते को लेकर बातचीत अटकी हुई है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इसी महीने चीन की वस्तुओं पर आयात शुल्क बढ़ाया है। चीन की दूरसंचार क्षेत्र की दिग्गज कंपनी हुआवे को काली सूची में डाला है।

चीन ने कहा- अमेरिका आर्थिक आतंकवाद में नंगेपन पर उतरा है

चीन के उप विदेश मंत्री झांग हनहुई ने कहा, ‘‘हम व्यापार युद्ध के खिलाफ हैं, लेकिन इससे डरते नहीं है।'' उन्होंने कहा कि अमेरिका आर्थिक आतंकवाद में नंगेपन पर उतरा है। उसका रुख आर्थिक दृष्टि से उग्रराष्ट्रवाद और दूसरों को डराने धमकाने वाला है। उन्होंने चेताया कि व्यापार युद्ध में कोई विजेता नहीं होता। अमेरिका द्वारा शुल्क बढ़ोतरी के बाद चीन ने जवाबी कदम उठाया है। चीन के मीडिया ने सुझाव दिया है कि वह अमेरिका को ‘रेयर अर्थ’ (दुर्लभ खनिजों) का निर्यात रोक दे जिससे वह प्रौद्योगिकी उत्पादों के लिए एक महत्वपूर्ण सामग्री से वंचित हो जाए।


यह भी पढ़ें : चीन और अमेरिका के बीच फिर से ट्रेड वार शुरू, भारतीय कारोबारियों को अमेरिका से व्यापार बढ़ाने का और अधिक मौका

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.