बिज़नेस न्यूज़ » Economy » International164 लाख करोड़ डॉलर के कर्ज पर बैठी दुनि‍या, पब्‍लि‍क-प्राइवेट डेट बना जोखि‍म

164 लाख करोड़ डॉलर के कर्ज पर बैठी दुनि‍या, पब्‍लि‍क-प्राइवेट डेट बना जोखि‍म

दुनि‍या का कर्ज का बोझ रि‍कॉर्ड लेवल पर पहुंच गया है। यह लेवल 164 लाख करोड़ डॉलर पर पहुंच गया है।

World debt hits record 164 trillion dollar

नई दि‍ल्‍ली। वैश्‍वि‍क कर्ज का बोझ 164 लाख करोड़ डॉलर के रि‍कॉर्ड लेवल पर पहुंच गया है। इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड (IMF) ने कहा है कि‍ अगर वि‍त्‍तीय स्‍थि‍ति‍यां सख्‍त हुईं तो यह ट्रेंड कई देशों के लि‍ए खतरा हो सकता है। देशों के लि‍ए अगली मंदी का सामना करना मुश्‍कि‍ल होगा और उनहें कर्ज चुकाने में चुनौति‍यों का सामना करना पड़ेगा। 

 

ब्‍लूमबर्ग की रि‍पोर्ट के मुताबि‍क, फंड ने अपनी सेमी-एनुअल फि‍स्‍कल मॉनि‍टर रि‍पोर्ट में कहा कि‍ बीते साल IMF की ओर से उपलब्‍ध आंकड़ों में कहा गया कि‍ 2016 में ग्‍लोबल ग्रॉस डोमेस्टि‍क प्रोडक्‍ट का 225 फीसदी ग्‍लोबल पब्‍लि‍क और प्राइवेट डेट है। इससे पहले यह आंकड़ा 2009 में अपने चरम पर था।   

 

पब्‍लि‍क और प्राइवेट कर्ज का हाई लेवल बना जोखि‍म

 

IMF के फि‍स्‍कल अफेयर्स डि‍पार्टमेंट के हेड वि‍टर गैस्‍पर ने एक इंटरव्‍यू में कहा कि‍ 164 लाख करोड़ बहुत बड़ा आंकड़ा है। जब हम बढ़ते जोखि‍म की बात करते हैं तो इसमें एक जोखि‍म पब्‍लि‍क और प्राइवेट कर्ज का हाई लेवल है। IMF के आशावादी वर्ल्‍ड इकोनॉमी आउटलुक को वैश्‍वि‍क कर्ज के बोझ ने अस्‍पष्‍ट कर दि‍या है, जोकि‍ 2011 के बाद से तेजी से बढ़ रहा है। फंड ने साल 2018 और 2019 में 3.9 फीसदी के वि‍स्‍तार का अनुमान लगाया है।   


चीन में बढ़ा सबसे ज्‍यादा प्राइवेट सेक्‍टर डेट

 

फंड के मुताबि‍क, चीन में खासतौर से प्राइवेट सेक्‍टर डेट बढ़ा है। वैश्‍कि‍ल आर्थि‍क मंदी के बाद से चीन के प्राइवेट डेट में करीब तीन क्‍वार्टस का इजाफा हुआ है। IMF ने आकलन लगाया है कि‍ सरकारों ने ग्रोथ को बूस्‍ट देने के लि‍ए खर्च बढ़ाए हैं जबकि‍ सेंट्रल बैंकों ने फाइनेंसिंग कंडीशन को आसान बनाने के लि‍ए अपरंपरागत तरीकों को अपनाया है।    

 

सॉवरेन डेट बढ़ा सकता है मुसीबत

 

IMF ने कहा कि‍ सॉवरेन डेट का हाई लेवल सरकारों के लि‍ए रीफाइनेंस में मुश्‍कि‍ल पैदा करता है, वो भी उस वक्‍त जब वह मैच्‍योरि‍टी पर हो। खासतौर से तब ज्‍यादा मुसीबत होगी जब फाइनेंसिंग कंडीशन सख्‍त हो। बड़े कर्जों की वजह से मंदी के दौरान अगर अर्थव्‍यवस्‍था गि‍र रही हो तो देशों की खर्च बढ़ाने की क्षमता प्रभावि‍त हो जाती है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट